Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Coronavirus: कोरोना संकट से दिल्ली बढ़ी लॉकडाउन की तरफ! इतने अस्पतालों में एक भी बेड खाली नहीं

Delhi Coronavirus: बीते दिन दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि अगर अस्पतालों में कोरोना के बेड उपलब्ध नहीं हुए और लोगों ने अस्पतालों के बाहर भीड़ लगाना शुरू कर दिया तो हमारे पास लॉकडाउन लगाने के अलावा कोई और विकल्प नहीं बचेगा। इस सिलसिले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कोरोना की स्थिति पर बैठक की।

Delhi Lockdown: दिल्ली में बढ़ेगी लॉकडाउन की समयसीमा! जानिए 70 फीसदी व्यापारियों ने इसको लेकर क्या कहा
X

दिल्ली में बढ़ेगी लॉकडाउन की समयसीमा! 

Delhi Coronavirus: दिल्ली में कोरोना से भयानक संकट (Corona Crisis) एक बार फिर से खड़ा हो गया है। मामले इस कदर बढ़ रहे है कि अस्पतालों (Covid Hospitals) में बेड की किल्लत होने लगी है। दिल्ली पर कोरोना की मार ऐसी पड़ रही है कि करीब 17 बड़े अस्पतालों में एक भी कोरोना बेड (Covid Beds) नहीं है। इससे लोगों की परेशानी बढ़ने लगी है। ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि दिल्ली शायद अब लॉकडाउन (Lockdown) की तरफ बढ़ रही है। क्योंकि बीते दिन दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind kejriwal) ने कहा था कि अगर अस्पतालों में कोरोना के बेड उपलब्ध नहीं हुए और लोगों ने अस्पतालों के बाहर भीड़ लगाना शुरू कर दिया तो हमारे पास लॉकडाउन लगाने के अलावा कोई और विकल्प नहीं बचेगा।

इस सिलसिले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कोरोना की स्थिति पर बैठक की। अरविंद केजरीवाल ने सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना बेड्स बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। कई अस्पतालों को फिर से पूरी तरह कोविड स्पेशल बनाया जाएगा अरविंद केजरीवाल ने अपील की है कि लोग कोरोना गाइडलाइन्स का पालन करें, बेवजह अस्पतालों की ओर ना भागें, अगर योग्य हो तो वैक्सीन लगवाएं। वहीं राजधानी के बड़े प्राइवेट अस्पतालों में बेड्स की कमी हो गई है। जिसके कारण लोगों को काफी परेशानी आने लगी है।

एक दर्जन से ज़्यादा प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना बेड्स की उपलब्धता शून्य हो गई है। दिल्ली सरकार के 'कोरोना एप' के मुताबिक, 17 बड़े प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना बेड्स की संख्या शून्य हो गई है यानी इन अस्पतालों में सामान्य कोरोना मरीज़ के लिए एक भी कोरोना बेड उपलब्ध नहीं है। आपको बता दें कि प्राइवेट अस्पतालों में बेड की संख्या खत्म हो गई है। वहीं सरकारी अस्पतालों में भी कोरोना बेड बहुत मुश्किल से मिल रहे हैं। कोरोना से हालात खराब हो चुके है। जिस पर नियंत्रण करने के लिए दिल्ली सरकार पूरी कोशिश कर रही है।

Next Story