Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जिला प्रशासन ने लिया फैसला- होम आइसोलेशन में कोरोना मरीजों की सिविल डिफेंस वालंटियर्स करेंगे निगरानी

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि संक्रमण की रोकथाम के लिए एक संक्रमित मरीज मिलने पर भी घर के बाहर वालंटियर की तैनाती को लेकर प्रशासन ने जरूरी कदम उठाया है। जिससे संक्रमित मरीज के घर में कोई दूसरा व्यक्ति प्रवेश न करे और न संक्रमित परिवार का कोई सदस्य किसी के संपर्क में आए। इससे कोरोना संक्रमण रोकथाम और बचाव में मदद मिलेगी।

जिला प्रशासन ने लिया फैसला- होम आइसोलेशन में कोरोना मरीजों की सिविल डिफेंस वालंटियर्स करेंगे निगरानी
X

जिला प्रशासन ने लिया फैसला

Delhi Coronavirus दिल्ली में कोरोना का कहर जारी है। हालांकि धीरे-धीरे मामले कम हो रहे है। लेकिन संक्रमण से मौतों (Corona Death) की संख्या नहीं रुक रही। वहीं प्रशासन ने कोरोना को रोकने के लिए कवायद तेज कर दी है। जिला प्रशासन (District Administration) द्वारा कंटेनमेंट जोन (Containment Zone) को लेकर नए फैसले लिए गए है। फैसले के मुताबिक, अगर किसी घर में एक भी कोरोना मरीज (Corona Patients) मिलता है तो उसकी भी निगरानी की जाएगी। इसके लिए सिविल डिफेंस वालंटियर्स (Civil Defense Volunteers) को घरों के बाहर तैनात किया जा रहा है।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि संक्रमण की रोकथाम के लिए एक संक्रमित मरीज मिलने पर भी घर के बाहर वालंटियर की तैनाती को लेकर प्रशासन ने जरूरी कदम उठाया है। जिससे संक्रमित मरीज के घर में कोई दूसरा व्यक्ति प्रवेश न करे और न संक्रमित परिवार का कोई सदस्य किसी के संपर्क में आए। इससे कोरोना संक्रमण रोकथाम और बचाव में मदद मिलेगी।

कोविड की तीसरी लहर के लिए करनी चाहिए तैयारी

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली को कोविड-19 की तीसरी लहर के लिए तैयारी करनी चाहिए। केजरीवाल ने साथ ही भरोसा जताया कि दिल्ली में जिस स्तर पर बुनियादी ढांचे को बढ़ाया जा रहा है, दिल्ली प्रतिदिन 30,000 मामले सामने आने पर भी इससे निपटने में सक्षम रहेगी। केजरीवाल ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि दिल्ली में महामारी की दूसरी लहर अपने चरम को पार कर चुकी है। हालांकि, अभी किसी तरह की ढील नहीं दी जा सकती।

जीटीबी अस्पताल के पास बने 500 बिस्तरों के आईसीयू कोविड देखभाल केंद्र का दौरा करने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें आशा है कि आने वाले दिनों में शहर में मरीजों को आईसीयू सुविधा की कमी का सामना नहीं करना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर को ध्यान में रखकर स्वास्थ्य ढांचे का विकास कर रही है।

Next Story