Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली को कोरोना से मिल रही राहत, CM केजरीवाल बोले- लॉकडाउन सफल रहा, केंद्र को दिए ये सुझाव

सीएम केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कोरोना के केस अब कम हो रहे हैं, आप सबके सहयोग से लॉकडाउन सफल रहा। हमने पिछले दिनों में ऑक्सीजन के बहुत बेड बढ़ाए हैं। अब दिल्ली में आईसीयू और ऑक्सीजन बेड की कमी नहीं है।

दिल्ली को कोरोना से मिल रही राहत, CM केजरीवाल बोले- लॉकडाउन सफल रहा, ICU बेड्स और ऑक्सीजन की कमी नहीं
X

CM केजरीवाल बोले- लॉकडाउन सफल रहा

Delhi Lockdown दिल्ली में कोरोना (Delhi Coronavirus) को लेकर राहत भरी खबर आई है। यहां संक्रमण (Corona Cases) के मामले लगातार कम हो रहे है। मौतों (Corona Deaths) की संख्या में भी गिरावट दर्ज की गई है। इसी बीच, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind kejriwal) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस (Press Conference) करके लोगों को महत्वपूर्ण जानकारी दी है। साथ ही कोरोना के कम होते मामले पर खुशी भी जाहिर की। सीएम केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कोरोना के केस अब कम हो रहे हैं, आप सबके सहयोग से लॉकडाउन (Lockdown) सफल रहा। हमने पिछले दिनों में ऑक्सीजन (Oxygen) के बहुत बेड बढ़ाए हैं। अब दिल्ली में आईसीयू (ICU Beds) और ऑक्सीजन बेड की कमी नहीं है।

उन्होंने कहा कि हम वैक्सीन की रोज़ सवा लाख डोज़ लगा रहे हैं, हम जल्दी रोज 3 लाख से अधिक लोगों को वैक्सीन लगाना शुरू कर देंगे। हमारा लक्ष्य आने वाले तीन महीने में सभी दिल्ली वालों को वैक्सीन लगाना है लेकिन वैक्सीन की कमी की समस्या आ रही है। दिल्ली में हमारे पास अब कुछ दिन की वैक्सीन ​बची है और ये समस्या देशव्यापी है।

आज केवल दो कंपनियां वैक्सीन बना रही हैं और दोनों मिलकर महीने में केवल 6-7 करोड़ वैक्सीन बनाती हैं। इस तरह तो देश के हर व्यक्ति को वैक्सीन लगाने में हमें दो साल से ज़्यादा लग जाएंगे। केजरीवाल ने आगे कहा कि जब तक हर भारतीय को वैक्सीन नहीं लगती ये जंग नहीं जीती जा सकती। मैं आज एक सुझाव देना चाहता हूं।

वैक्सीन बनाने का काम केवल दो कंपनियां ना करें, कई कंपनियों को वैक्सीन बनाने में लगाया जाए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार इन दोनों कंपनियों से वैक्सीन बनाने का फॉर्मूला लेकर उन सभी कंपनियों को दे जो सुरक्षित तरीके से वैक्सीन बना सकती हैं। वैक्सीन का उत्पादन करने वाली कंपनियों के लाभ का एक अंश रॉयल्टी के रूप में उन दोनों कंपनियों को दे सकते हैं जिन्होंने मूल फॉर्मूले की खोज की।

Next Story