Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शव को ले जाने के लिए एंबुलेस चालक ने मांगे 14 हजार रुपये, पुलिस ने ऐसे किया गिरफ्तार

  • एंबुलेंस चालक ने बताया कि लाश पहुंचाने के लिए 14 हजार रुपये लगेंगे और पैसे देने के लिए पर्ची भेजी। सिद्धू ने बताया कि दोनों स्थानों के बीच की दूरी करीब छह किलोमीटर है। पुलिस ने बताया कि एंबुलेंस चालक अधिक किराया ले रहा था।

शव को ले जाने के लिए एंबुलेस चालक ने मांगे 14 हजार रुपये, पुलिस ने ऐसे किया गिरफ्तार
X

एंबुलेस चालक गिरफ्तार

Delhi Coronavirus दिल्ली में कोरोना से कोहराम मचा हुआ है। एक तरफ कोविड मरीजों (Covid Patients) के परिजनों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है वहीं दूसरी तरफ कुछ लोग ऑक्सीजन, दवाईयों और एंबुलेंस (Ambulance) के नाम पर गिद्ध की तरह इनसे पैसे ऐठने का काम कर रहे है। ऐसा ही एक मामला सामने आया है। जब कोरोना से मरे व्यक्ति की लाश श्मशान घाट (Graveyard) पहुंचाने के एंबुलेंस चालक ने 14 हजार रुपये मांगने जिसके बाद आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार (Driver Arrested) कर लिया है। अधिकारियों ने बताया कि कंधी लाल मात्र छह किलोमीटर की दूरी तय करने के लिए भारी-भरकम राशि ले रहा था। उन्होंने बताया कि चालक के बारे में खुफिया सूचना मिलने के बाद पुलिस ने जाल बिछाया।

अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त (उत्तरपश्चिम) गुरइकबाल सिंह सिद्धू ने बताया कि सिपाही महेश ने चालक को फोन कॉल किया और कोविड-19 से मरे व्यक्ति की लाश नूलाइफ अस्पताल से निगम बोध घाट पहुंचाने के लिए बात की। उन्होंने बताया कि एंबुलेंस चालक ने बताया कि लाश पहुंचाने के लिए 14 हजार रुपये लगेंगे और पैसे देने के लिए पर्ची भेजी। सिद्धू ने बताया कि दोनों स्थानों के बीच की दूरी करीब छह किलोमीटर है। पुलिस ने बताया कि एंबुलेंस चालक अधिक किराया ले रहा था। उन्होंने बताया कि जमुना बाजार इलाके के रहने वाले 45 वर्षीय लाल के खिलाफ मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है और उसके साथियों को भी पकड़ने का प्रयास किया जा रहा है।

ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी में दो गिरफ्तार

ऑक्सीजन सिलेंडर और कोविड मरीजों के उपचार में इस्तेमाल होने वाले उपकरणों की कालाबाजारी में संलिप्तता के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होने कहा कि आरोपियों की पहचान अशोक विहार निवासी अनुज मिंडा (41) और रोहिणी निवासी गुरमीत सिंह (36) के तौर पर हुई है। पुलिस ने कहा कि आरोपी ऑक्सीजन सिलेंडर के लिये 1.65 लाख रुपये वसूल रहे थे जबकि इसकी वास्तविक कीमत 31,000 रुपये है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कालकाजी एक्सटेंशन निवासी भरत जुनेजा ने अशोक विहार पुलिस थाने में फोन किया और कहा कि उनकी पत्नी और मां कोविड-19 की मरीज हैं तथा हालत गंभीर है। उन्होंने बताया कि जुनेजा ने मिंडा से 1.65 लाख रुपये में ऑक्सीजन सिलेंडर खरीदा था।

Next Story