Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Coronavirus: दिल्ली में कोरोना के 81 नए मामले मिले, तीन और मरीजों की मौत

Delhi Coronavirus: दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 81 नये मामले सामने आये। वहीं संक्रमण से तीन और लोगों की मौत हो गयी। दिल्ली में संक्रमण दर में मामूली गिरावट हुई है, जो बृहस्पतिवार को 0.12 प्रतिशत थी और आज 0.11 हो गयी। दिल्ली में संक्रमण से मौतों के कुल मामले अब 25,011 हो गये हैं।

Delhi Coronavirus: दिल्ली में कोरोना के 81 नए मामले मिले, तीन और मरीजों की मौत
X

 दिल्ली में कोरोना के 81 नए मामले मिले, तीन और मरीजों की मौत

Delhi Coronavirus दिल्ली में कोरोना के मामलों में मामूली बढ़त दर्ज की गई है। वहीं संक्रमण से लगातार लोग मर रहे है। इस बीच, दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 81 नये मामले सामने (New Corona Cases) आये। वहीं संक्रमण से तीन और लोगों की मौत (Delhi Corona Death) हो गयी। दिल्ली में संक्रमण दर (Positive Rate) में मामूली गिरावट हुई है, जो बृहस्पतिवार को 0.12 प्रतिशत थी और आज 0.11 हो गयी। दिल्ली में संक्रमण से मौतों के कुल मामले अब 25,011 हो गये हैं। इस बीच, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) की बैठक में कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए 'ग्रेडेड रिस्पॉन्स एक्शन प्लान' को मंजूरी दी गई है। दिल्ली सरकार की एक समिति ने कोविड की संभावित तीसरी लहर से निबटने के लिए रंगों के कोड की प्रणाली तैयार की है, जो चरणबद्ध प्रतिक्रिया के कदम सुझाएगी मसलन उच्चतम अलर्ट वाले 'लाल' स्तर पर ज्यादातर आर्थिक गतिविधियों को बंद कर देना।

दिल्ली में अब तक 86 लाख से अधिक खुराकें दी गई

दिल्ली में अब तक लोगों को कोविड टीकों की 86 लाख से अधिक खुराकें दी गयी हैं। अधिकारियों द्वारा शुक्रवार को साझा किए गए आधिकारिक आंकड़ों में यह जानकारी दी गयी है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार को जारी टीकाकरण बुलेटिन में कहा गया है कि दिल्ली में टीके का एक दिन से भी कम का भंडार बचा है, वहीं अब तक यहां लोगों को 86,79,688 खुराकें दी जा चुकी हैं। शुक्रवार को 1,58,914 खुराकें दी गयीं, जिनमें 1,11,408 पहली खुराक और 47,506 दूसरी खुराक थी।

कैंसर के मरीजों की परेशानी बढ़ी

दिल्ली के प्राइवेट अस्पताल ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के दौरान कैंसर मरीजों के इलाज के बाद उनका फॉलोअप नहीं होने के कारण शरीर के अन्य हिस्से से शुरू हुआ कैंसर अब उनके मस्तिष्क तक फैल गया है। अस्पताल ने बताया कि पिछले छह महीने में अस्पताल में ऐसे तीन मामले सामने आए हैं जबकि एक मरीज की बीमारी से मौत हुई है। वहीं उससे पहले के छह महीनों में ऐसा कोई मामला सामने नहीं आया था। मूलचंद अस्पताल द्वारा जारी बयान के अनुसार, ब्रेन मेटासतुसिस, ऐसी स्थिति है जिसमें शरीर के अन्य भाग में शुरु हुए कैंसर की कोशिकाएं मस्तिष्क तक पहुंच जाती हैं। कैंसर मरीजों का समय पर फॉलोअप नहीं होने से ऐसी स्थिति उत्पन्न होती है।

Next Story