Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Coronavirus: दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 26 नए मामले सामने आए, CM केजरीवाल ने कोविड-19 को बताया रावण

Delhi Coronavirus: दिल्ली में पिछले 24 में कोरोना वायरस संक्रमण के 26 नए मामले सामने आए और किसी कोविड रोगी की मौत नहीं हुई। संक्रमण की दर 0.04 प्रतिशत रही। कोविड-19 से दिल्ली में अब तक 25,089 लोगों की मौत हो चुकी है। संक्रमण के अब तक कुल 14,39,337 मामले सामने आ चुके हैं। 14.13 लाख से अधिक लोग ठीक हो चुके हैं।

Delhi Coronavirus: दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 26 नए मामले सामने आए, CM केजरीवाल ने कोविड-19 को बताया रावण
X

दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 26 नए मामले सामने आए

Delhi Coronavirus दिल्ली में कोरोना के मामलों में लगातार सामने आ रहे है। लेकिन अब कोविड से मरने वालों की संख्या शून्य हो गई है। इस बीच, दिल्ली में पिछले 24 में कोरोना वायरस संक्रमण के 26 नए मामले सामने आए और किसी कोविड मरीज की मौत (Delhi Corona Death) नहीं हुई। संक्रमण की दर 0.04 प्रतिशत रही। स्वास्थ्य विभाग (Health Department) द्वारा साझा किए गए आंकड़ों में यह जानकारी दी गई। वहीं, दिल्ली में दशहरे के अवसर पर कोविड-19 से बचाव के नियमों का पालन करते हुए रावण का पुतला दहन किया गया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने कोरोना वायरस की तुलना राक्षस राज से की और उम्मीद जताई कि देश को इस महामारी से जल्दी ही निजात मिलेगी। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार दिल्ली में इस साल कोविड-19 से दो लोगों की मौत हुई है। इनमें एक रोगी की मौत दो अक्टूबर जबकि दूसरे की मौत 10 दिसंबर को हुई। आंकड़ों के अनुसार बीते महीने कोविड के चलते केवल पांच लोगों की मौत हुई थी। 7,16 और 17 सितंबर को एक-एक तथा 28 सितंबर को दो रोगियों की जान चली गई थी। कोविड-19 से दिल्ली में अब तक 25,089 लोगों की मौत हो चुकी है। संक्रमण के अब तक कुल 14,39,337 मामले सामने आ चुके हैं। 14.13 लाख से अधिक लोग ठीक हो चुके हैं।

डेल्टा स्वरूप के खिलाफ हर्ड इम्युनिटी पाना मुश्किल

दिल्ली में इस साल कोविड-19 के गंभीर प्रकोप से पता चला कि सार्स-सीओवी-2 वायरस के किसी अन्य स्वरूप से पहले संक्रमित हो चुके लोगों को वायरस का डेल्टा स्वरूप पुन: संक्रमित कर सकता है। वैज्ञानिकों के एक अंतरराष्ट्रीय दल ने कहा कि वायरस के इस स्वरूप के खिलाफ सामूहिक प्रतिरक्षा क्षमता (हर्डइम्युनिटी) का विकास बहुत चुनौतीपूर्ण है। एक अध्ययन में कहा गया है कि डेल्टा स्वरूप दिल्ली में सार्स-सीओवी-2 के पिछले स्वरूपों की तुलना में 30 से 70 प्रतिशत तक अधिक संक्रामक है।

Next Story