Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

किसानों संग सीएम केजरीवाल की मीटिंग खत्म, बोले- ये कृषि कानून अन्नदाताओं के लिए डेथ वारंट

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल आज विधानसभा में उत्तर प्रदेश के किसान नेताओं के साथ बैठक की। इस बैठक में कृषि कानूनों और किसानों से संबंधित अन्य मुद्दों पर चर्चा हुई। जिसके बाद राष्ट्रीय जाट महासंघ के नेता रोहित जाखड़ ने कहा कि हम मांग करते हैं कि एमएसपी के लिए एक कानून बनाया जाए, काले कानूनों को रद्द कर स्वामीनाथन रिपोर्ट की सिफारिशें पत्र में शामिल की जाएं। जब तक ये मांगे पूरी नहीं होंगी, किसान दिल्ली की सीमाओं पर विरोध जारी रखेंगे और हम गांवों में नहीं जाएंगे।

किसानों संग सीएम केजरीवाल की मीटिंग खत्म, बोले- केंद्र अभी तक कृषि कानूनों के फायदे नहीं बता पाई
X

किसानों संग सीएम केजरीवाल की मीटिंग खत्म

कृषि कानूनों को लेकर किसानों के साथ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ चल रही बैठक खत्म हो गई। बैठक खत्म होने के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज पश्चिमी उत्तर प्रदेश से कई किसान नेता कृषि क़ानूनों को लेकर दिल्ली विधानसभा के प्रांगण में चर्चा करने आए थे। केंद्र सरकार कहती आई है कि इन क़ानूनों से किसानों को फायदा होगा लेकिन अब तक वह जनता को एक भी फायदा बताने में नाकाम रहे हैं।

सीएम केजरीवाल ने कहा कि ये तीन कृषि क़ानून किसानों के लिए डेथ वारंट है। इन क़ानूनों से किसानों की किसानी कुछ पूंजीपतियों के हाथों में चली जाएगी और हमारा किसान अपने खेत में मजदूर बनने के लिए बेबस हो जाएगा। आज सब लोगों ने फिर से केंद्र सरकार से मांग की है कि इन क़ानूनों को वापस लिया जाए।

वहीं राष्ट्रीय जाट महासंघ के नेता रोहित जाखड़ ने कहा कि हम मांग करते हैं कि एमएसपी के लिए एक कानून बनाया जाए, काले कानूनों को रद्द कर स्वामीनाथन रिपोर्ट की सिफारिशें पत्र में लागू की जाएं। जब तक ये मांगे पूरी नहीं होंगी, किसान दिल्ली की सीमाओं पर विरोध जारी रखेंगे और हम गांवों में नहीं जाएंगे।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Delhi CM Arvind Kejriwal) आज विधानसभा (Delhi Legislative Assembly) में उत्तर प्रदेश के किसान नेताओं (Farmers Leaders) के साथ बैठक (Meeting) करेंगे। इस बैठक में कृषि कानूनों और किसानों से संबंधित अन्य मुद्दों पर चर्चा होगी। बैठक में हिस्सा लेने के लिए किसान नेता विधानसभा पहुंचे। जिसके बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी किसानों के साथ बैठक करने के लिए विधानसभा पहुंचे। आपको बतां दे कि दिल्ली के बॉर्डरों पर दो महीने से अधिक समय से किसानों का आंदोलन (Farmers Protest) चल रहा है। लेकिन केंद्र किसानों (Central Government) की मांग को पूरी नहीं कर पा रही है।

दोनों अपनी-अपनी मांगों पर अड़े हुये है। वहीं आज केजरीवाल प्रदर्शनकारी किसानों से मुलाकात कर रहे है। यहां किसानों के साथ केजरीवाल कृषि कानूनों पर चर्चा करेंगे। जबकि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल विधानसभा में रविवार दोपहर का भोजन भी प्रदर्शनकारी किसानों के साथ ही करेंगे। बहरहाल, सरकार एवं आम आदमी पार्टी के नेताओं ने बैठक में आमंत्रित किसान नेताओं के नामों की जानकारी नहीं दी।

किसान नेता दर्शनपाल ने कहा कि शनिवार की शाम तक दिल्ली सरकार से उन्हें कोई निमंत्रण नहीं मिला था। आप के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि बैठक में कृषि कानूनों को लेकर किसानों की विभिन्न चिंताओं पर चर्चा होगी और कानून के विभिन्न पहलुओं एवं इसके प्रभाव पर भी चर्चा होगी। संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले हजारों किसान दिल्ली की सीमाओं पर पिछले वर्ष सितंबर से ही कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। आप सरकार प्रदर्शनकारी किसानों का समर्थन कर रही है।

Next Story