Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Chhath Puja: DDMA की रोक के बाद पूर्वांचल के लोगों में रोष, जंतर-मंतर पर किया विरोध-प्रदर्शन

Delhi Chhath Puja: दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने पब्लिक स्थलों पर छठ पूजा मनाने से साफ इनकार कर दिया है। दिल्ली में बढ़ते कोरोना वायरस के कहर को देखते हुये ये फैसला लिया गया है। इस फैसले से पूर्वांचल के लोगों में रोष है और कई छठ पूजा संघर्ष समिति के साथ मिलकर जंतर-मंजर पर विरोध-प्रदर्शन किया है।

Delhi Chhat Puja: DDMA की रोक के बाद पूर्वांचल के लोगों में रोष, जंतर-मंतर किया विरोध-प्रदर्शन
X

DDMA की रोक के बाद पूर्वांचल के लोगों में रोष

दिल्ली में छठ महापर्व की तैयारी शुरू हो चुकी है। इसी सप्ताह छठ पूजा मनाई जाएगी। लेकिन हर साल की तरह किसी सार्वजनिक स्थल पर नहीं बल्कि निजी स्थानों पर ही छठ पूजा मना पाएंगे। क्योंकि दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने पब्लिक स्थलों पर छठ पूजा मनाने से साफ इनकार कर दिया है। दिल्ली में बढ़ते कोरोना वायरस के कहर को देखते हुये ये फैसला लिया गया है। इस फैसले से पूर्वांचल के लोगों में रोष है और कई छठ पूजा संघर्ष समिति के साथ मिलकर जंतर-मंजर पर विरोध-प्रदर्शन किया है।

पूर्व सांसद महाबल मिश्रा ने कहा कि हमारी मांग है कि इस महापर्व को नहीं रोका जाना चाहिए। हर हाल में इस साल भी इस पर्व का आयोजन होना चाहिए, इसलिए केंद्र और दिल्ली सरकार बाकी आयोजन की तरह छठ पूजा के लिए भी कोरोना को लेकर दिशा-निर्देश जारी करना चाहिए। उसके तहत लोग पर्व मनाएंगे, लेकिन यह नहीं हो सकता है कि यह पर्व नहीं मनाया जाए। उन्होंने कहा कि सोमवार को सभी एलजी के पास जाएंगे, अपनी मांग रखेंगे। अगर मांग नहीं मानी गई तो वहीं भूख हड़ताल शुरू कर देंगे।

महाबल मिश्रा ने कहा कि छठ पर्व पूर्वांचलवासियों का सबसे बड़ा पर्व है। यह महापर्व है। व्रती किसी भी हाल में इस पर्व को छोड़ नहीं सकती हैं। जिस प्रकार इस पर्व पर रोक लगाई गई है, उसमें तो अमीर या बड़े लोग अपने छत या प्रांगण में मना लेंगे, लेकिन जो फ्लैट में रहते हैं, वे कहां जाएंगे। किराए पर रहने वाले लोग कैसे मनाएंगे। उन्होंने कहा कि बाकी पर्व या आयोजन को लेकर जिस प्रकार दिशा-निर्देश जारी की गई, लोगों की संख्या सीमित कर दी गई, उसी प्रकार छठ को लेकर भी जारी हो।

Next Story