Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Black Fungus: दिल्ली में ब्लैक फंगस के 773 मामले, इस महामारी को लेकर नए गाइडलाइंस जारी

Delhi Black Fungus: दिल्ली सरकार (Delhi Government) की तरफ से जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक, सभी अस्पताल ब्लैंक फंगस संक्रमण का पता लगाने, जांच और इलाज करने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों का अनुपालन करेंगे। अस्पताल ब्लैक फंगस के प्रत्येक संदिग्ध और पुष्ट मामलों की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को देंगे।

Delhi Black Fungus: दिल्ली में ब्लैक फंगस के 773 मामले, इस महामारी को लेकर नए गाइडलाइंस जारी
X

दिल्ली में ब्लैक फंगस के 773 मामले

Delhi Black Fungus दिल्ली में ब्लैक फंगस के मामलों में बेहताशा वृद्धि देखने को मिल रही हैं। इसलिए दिल्ली में इस संक्रमण को महामारी घोषित (Black Fungus Epidemic) कर दी गई है। 21 मई को करीब 200 ब्लैक फंगस के मामले थे जबकि गुरुवार 27 मई को 153 नए मामलों (New Cases Of Black Fungus) की पुष्टि के साथ यह संख्या बढ़कर 773 हो गई है। दिल्ली सरकार (Delhi Government) की तरफ से जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक, सभी अस्पताल ब्लैंक फंगस संक्रमण का पता लगाने, जांच और इलाज करने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों का अनुपालन करेंगे। अस्पताल ब्लैक फंगस के प्रत्येक संदिग्ध और पुष्ट मामलों की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को देंगे।

ब्लैक फंगस उन लोगों में ज्यादा फैल रहा है जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कोविड, डाइबिटिज, गुर्दे की बीमारी, हृदय रोग, उम्र संबंधी समस्याओं के कारण कम है, साथ ही जो आर्थराइटिस (गठिया) जैसी बीमारियों की वजह से दवाओं का सेवन करते हैं। डॉक्टर्स का कहना है कि अगर ऐसे मरीजों को स्टेरॉयड दी जाती है तो उनकी प्रतिरोधक क्षमता और कम हो जाएगी। इससे फंगस को प्रभावी होने का मौका मिलेगा। ऐसे में डॉक्टर स्टेरॉयड का इस्तेमाल नहीं करने की सलाह दे रहे हैं।

दिल्ली के उपराज्यपाल ने ब्लैक फंगस पर नियम बनाए

राष्ट्रीय राजधानी में ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों की पृष्ठभूमि में दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने शहर में इस जानलेवा संक्रमण के रोकथाम के लिए महामारी कानून के तहत नियम बनाए हैं। सरकार ने इस संबंध में बृहस्पतिवार को अधिसूचना जारी की है। दिल्ली महामारी (म्यूकरमायकोसिस) नियम, 2021, प्रकाशन की तारीख से एक साल के लिए वैध रहेगा। इसमें कहा गया है कि सभी स्वास्थ्य सुविधाएं (सरकारी या निजी), राष्ट्रीय राजधानी में ब्लैक फंगस के संदिग्ध या पुष्ट, सभी मामलों की जानकारी शहर के स्वास्थ्य विभाग को देंगी। उसमें कहा गया है कि दिल्ली के सभी अस्पताल/स्वास्थ्य केन्द्र स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी ब्लैक फंगस की स्क्रीनिंग, पहचान और प्रबंधन के दिशा-निर्देशों का पालन करेंगे।

Next Story