Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Assembly Monsoon Session: दिल्ली विधानसभा में राष्ट्रीय गीत का अपमान, स्पीकर ने दिए कार्रवाई के आदेश

Delhi Assembly Monsoon Session: दिल्ली विधानसभा के सचिव ने मुख्य सचिव को इस संबंध में पत्र लिख कर कहा कि मॉनसून सत्र की शुरुआत के दौरान जब राष्ट्रीय गीत 'वंदे मातरम्' बज रहा था तब अधिकारी बैठे रहे गए लेकिन खड़े नहीं हुए, उन्होंने इसका अपमान किया है। इसलिए स्पीकर ने बताया कि 6 अगस्त तक ऐसे अधिकारियों के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई की जाए और उन्हें भी सूचित किया जाए।

Delhi Assembly Monsoon Session: दिल्ली विधानसभा में राष्ट्रीय गीत का अपमान, स्पीकर ने दिए कार्रवाई के आदेश
X

दिल्ली विधानसभा में राष्ट्रीय गीत का अपमान, स्पीकर ने दिए कार्रवाई के आदेश

Delhi Assembly Monsoon Session दिल्ली विधानसभा के मॉनसून सत्र का आज दूसरा दिन है। वहीं आज सदन से राष्ट्रीय गीत (National Song) का अपमान करने का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि सदन में जब राष्ट्रीय गीत 'वंदे मातरम्' (Vande Mataram) चलाया गया तो इस दौरान कई अधिकारी खड़े नहीं हुए। जिससे लेकर दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष राम निवास गोयल (Delhi Assembly Speaker Ram Niwas Goel) ने उन अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई (Action) के आदेश दिए है जिन्होंने राष्ट्रीय गीत का अपमान किया है। आपको बता दें कि बीते दिन सदन में बीजेपी विधायकों द्वारा हंमागा करने पर भी उन्हें सत्र से बाहर निकाला गया था। वे लगातार सदन की कार्यवाही में रुकावट पैदा कर रहे थे।

दिल्ली विधानसभा के सचिव ने मुख्य सचिव को इस संबंध में पत्र लिख कर कहा कि मॉनसून सत्र की शुरुआत के दौरान जब राष्ट्रीय गीत 'वंदे मातरम्' बज रहा था तब अधिकारी बैठे रहे गए लेकिन खड़े नहीं हुए, उन्होंने इसका अपमान किया है। इसलिए स्पीकर ने बताया कि 6 अगस्त तक ऐसे अधिकारियों के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई की जाए और उन्हें भी सूचित किया जाए। इस मामले में स्पीकर राम निवास गोयल ने आज मुख्य सचिव से कहा कि मॉनसून सत्र के दौरान राष्ट्रीय गीत 'वंदे मातरम्' बजते वक्त खड़े न होकर उसका अपमान करने वाले दिल्ली सरकार के अधिकारियों के खिलाफ जल्द से जल्द कार्रवाई करें।

'केंद्र ने विधानसभा की कमेटियों के अधिकार छीने'

विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल भी मानसून सत्र के पहले दिन ही नाराजगी जाहिर की थी। स्पीकर ने अफसोस जाहिर करते हुए कहा था कि यह बेहद दुखद है कि केंद्र ने विधानसभा की कमेटियों के अधिकार छीने हैं। इसी दौरान उन्होंने सदन को चलाने की रूलिंग भी दी। इसके मुताबिक, सदन 11 बजे से 5 बजे तक चलता है। इसमें कम समय के लिए ही प्रश्नकाल में चर्चा होगी। फिर दोपहर बाद सदन की कार्यवाही में 2 घंटे से ज्यादा सत्ता पक्ष के सदस्यों को बोलने का अधिकार होगा। वहीं, 20 मिनट विपक्ष के लिए रखा गया है। स्पष्ट किया कि लोकसभा के नियम के मुताबिक ही दिल्ली विधानसभा ने ही समय तय किया है। लोकसभा हमारे अधिकार छिनती है तो हम बैठे कैसे रह सकते हैं। इस रूलिंग पर विपक्ष ने सदन में जमकर हंगामा भी किया।

Next Story