Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कांवड़ यात्रा पर कोरोना का ग्रहण- उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड के बाद दिल्ली में भी रद्द, DDMA ने जारी किए आदेश

आदेश में कहा गया है कि 25 जुलाई से दिल्ली में कांवड़ यात्रा 2021 के दौरान किसी भी समारोह, जुलूस, सभा आदि की अनुमति नहीं दी जाएगी। डीडीएमए का आदेश उत्तर प्रदेश में यात्रा रद्द होने के एक दिन बाद आया है। उत्तराखंड सरकार ने इस साल 25 जुलाई से शुरू होने वाली वार्षिक यात्रा पर रोक लगा दी है।

कांवड़ यात्रा पर कोरोना का ग्रहण- उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड के बाद दिल्ली में भी रद्द, DDMA ने जारी किए आदेश
X

कांवड़ यात्रा पर कोरोना का ग्रहण

कोरोना के कारण इस साल भी कांवड़ यात्रा (Kanwar Yatra) को निरस्त कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड के बाद अब दिल्ली सरकार (Delhi Government) ने भी कांवड़ यात्रा को रद्द कर दिया है। इस बारे में दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) ने जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि शहर में कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए कांवड़ यात्रा पर रोक लगा दी। आदेश में कहा गया है कि 25 जुलाई से दिल्ली में कांवड़ यात्रा 2021 के दौरान किसी भी समारोह, जुलूस, सभा आदि की अनुमति नहीं दी जाएगी। डीडीएमए का आदेश उत्तर प्रदेश में यात्रा रद्द होने के एक दिन बाद आया है। उत्तराखंड सरकार ने इस साल 25 जुलाई से शुरू होने वाली वार्षिक यात्रा पर रोक लगा दी है। इससे लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने कहा था कि सरकारों को कोविड ​​​​-19 के प्रसार को रोकने के लिए हर कदम उठाना चाहिए।

डीडीएमए ने जारी किया आदेश

दिल्ली सरकार के आदेश के अनुसार यात्रा के दौरान सभाओं, जुलूसों की आशंका है और इसलिए कोरोना की स्थिति के मद्देनजर यह निर्णय लिया गया है कि दिल्ली में कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए कांवड़ यात्रा की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। प्राधिकरण ने दिल्ली के सभी जिलाधिकारियों और पुलिस उपायुक्तों और अन्य संबंधित अधिकारियों को आदेश का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है।

उत्तर प्रदेश, हरियाणा और दिल्ली सहित पड़ोसी राज्यों से पैदल यात्रा करते है लोग

यात्रा आमतौर पर अगस्त के पहले सप्ताह तक चलती है और लाखों शिव भक्तों को 'कांवड़िया' कहा जाता है, जो उत्तराखंड के हरिद्वार में गंगा से जल लेने के लिए उत्तर प्रदेश, हरियाणा और दिल्ली सहित पड़ोसी राज्यों से पैदल यात्रा करते हैं। डीडीएमए के पिछले आदेश के अनुसार, 26 जुलाई तक दिल्ली में धार्मिक और त्योहारी सहित सभी प्रकार की सभाओं पर पहले ही प्रतिबंध लगा दिया गया है। साथ ही मंदिरों सहित धार्मिक स्थलों को खोलने की अनुमति है, लेकिन श्रद्धालुओं के आने पर पाबंदी है।

Next Story