Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

साइबर ठगो के निशाने पर आई सीएम अरविंद केजरीवाल की बेटी, इस बहाने बनाया अपना शिकार

पुलिस के मुताबिक मुख्यमंत्री की बेटी ने एक सोफा की ब्रिक्री के लिए सूचनाएं ई-कॉमर्स मंच पर दी थी। व्यक्ति ने खरीदारी में रुचि दिखाते हुए उनसे संपर्क किया। अकाउंट सही होने के नाम पर उसने हर्षिता के खाते में छोटी रकम स्थानांतरित की।

सीएम अरविंद केजरीवाल की बेटी साइबर क्राइम की बनी शिकार, सोफा के नाम पर 34 हजार की ठगी
X

सीएम अरविंद केजरीवाल की बेटी साइबर क्राइम की बनी शिकार

Delhi news, दिल्ली में ठगों के हौंसले बुलंद है। आम लोगों से ठगी की वारदात तो आपने हमेशा सुनी होगी। लेकिन राष्ट्रीय राजधानी में मुख्यमंत्री की बेटी के साथ हुई ठगी की घटना के बारे में शायद ही सुना होगा। वहीं साइबर क्राइम का ग्राफ भी दिल्ली-एनसीआर में बढ़ता जा रहा है और इसी का शिकार दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) की बेटी हर्षिता (Harshita) बनी है। पुलिस (Delhi Police) ने मामला दर्ज कर मामले की कार्रवाई में जुट गई है। (Online Fraud)

हर्षिता ने एक ई-कॉमर्स मंच पर सोफा की बिक्री के लिए दी थी सूचनाएं

दरअसल, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की बेटी हर्षिता से एक व्यक्ति ने 34,000 रुपये की ठगी की है। हर्षिता ने एक ई-कॉमर्स मंच पर सोफा की बिक्री के लिए सूचनाएं दी थी और व्यक्ति ने खुद को खरीदार बताकर उनके साथ ठगी की। पुलिस ने सोमवार को इस बारे में बताया। उन्होंने बताया कि इस संबंध में रविवार को पुलिस को सूचना मिलने के बाद कई धाराओं के तहत उत्तरी जिले के सिविल लाइंस थाना में एक प्राथमिकी दर्ज की गयी। पुलिस के मुताबिक मुख्यमंत्री की बेटी ने एक सोफा की ब्रिक्री के लिए सूचनाएं ई-कॉमर्स मंच पर दी थी। व्यक्ति ने खरीदारी में रुचि दिखाते हुए उनसे संपर्क किया। अकाउंट सही होने के नाम पर उसने हर्षिता के खाते में छोटी रकम स्थानांतरित की।

कई धाराओं में आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज

इसके बाद व्यक्ति ने उनको एक क्यूआर कोड भेजा और उनसे स्कैन करने को कहा ताकि तय रकम उनके खाते में स्थानांतरित कर दी जाए। लेकिन, ऐसा करने पर हर्षिता के खाते से 20,000 रुपये कट गए। इसके बाद जब हर्षिता ने व्यक्ति से इसकी शिकायत की तो उसने कहा कि गलती से ऐसा हुआ। फिर से ऐसी ही प्रक्रिया करने पर हर्षिता के खाते से 14,000 रुपये कट गए। पुलिस अधिकारी ने बताया कि मिली शिकायत के आधार पर हमने आईपीसी की संबंधित धाराओं के तहत एक प्राथमिकी दर्ज की है। जांच शुरू की गयी है और हम आरोपी का पता लगा रहे हैं।

Next Story