Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सतर्क! कोरोना वैक्सीन के नाम ठग खाली कर रहे हैं लोगों का अकाउंट, साइबर सेल ने जारी किये दिशा-निर्देश

नोएडा में साइबर सेल ने एक एडवाइजरी जारी करते हुये ठगों से सावधान रहने के लिए नसीहत दी है। उन्होंने कहा कि अगर आपके फोन पर कोरोना टीकाकरण का रजिस्ट्रेशन कराने को लेकर कोई लिंक आये तो उस लिंक पर क्लिक मत करना वरना ठग आपके बैंक खाते को खाली कर सकते है।

सतर्क! कोरोना वैक्सीन के नाम ठग कर सकते है आपके बैंक खाते को खाली, साइबर सेल ने जारी की दिशा-निर्देश
X

सतर्क! कोरोना वैक्सीन के नाम ठग कर सकते है आपके बैंक खाते को खाली

देशभर में 16 जनवरी से कोरोना टीकाकरण अभियान शुरू होने वाला है। इस अभियान को लेकर केंद्र और राज्य सरकारें पूरी तरह से तैयार दिख रही है। इसको लेकर प्रधानमंत्री मोदी से लेकर कई बड़े नेताओं ने धोखाधड़ी और अफवाहों से सावधान रहने को कहा है। इसी बीच, नोएडा में साइबर सेल ने एक एडवाइजरी जारी करते हुये ठगों से सावधान रहने के लिए नसीहत दी है। उन्होंने कहा कि अगर आपके फोन पर कोरोना टीकाकरण का रजिस्ट्रेशन कराने को लेकर कोई लिंक आये तो उस लिंक पर क्लिक मत करना वरना ठग आपके बैंक खाते को खाली कर सकते है।

साइबर सेल इन ठगों और सोशल मीडिया पर निगरानी बनाए हुई है। दरअसल, पुणे सीरम इंस्टीट्यूट ने देशभर में कोरोना वैक्सीन भेजना शुरू कर दिया है। क्योंकि भारत में जल्दी ही कोरोना वैक्सीन अभियान शुरू होने वाला है। इसको लेकर ठगी करने वाले गैंग सक्रिय हो गये है। ये गैंग लोगों को वैक्सीन देने को लेकर फोन लिंक भेजकर पंजीकरण के नाम पर ठगी कर सकते है। ऐसे साइबर ठगों से लोगों से बचाने के लिए साइबर सेल ने अपील करते हुये एडवाइजरी जारी की है।

इसलिए लोग ऐसे लिंक से बचे और शक हो तो पुलिस को सूचित करें। नोएडा पुलिस ने बताया कि साइबर ठग गिरोह कोरोना वैक्सीन उपलब्ध कराने और टीकाकरण के रजिस्ट्रेशन के नाम पर लोगों ठगने का प्रयास कर रही है। जिनसे बचने के लिए पुलिस पहले से ही लोगों का सतर्क कर रही है। वह किसी भी ऐसे लिंक के जरिये अपनी जानकारी साझा न करें जिसके बारे में आपको पता न हों।

नोएडा में हाली में दो ऐसे मामले आ चुके है। जिसमें हजारों रुपये की धोखाधड़ी की गई है। आपको बता दें कि ऐसे ठग गिरोह कोरोना वैक्सीन की झूठी जानकारी देकर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर रहे है। पूर्व में भी ऐसे कई मामले सामने आ चुके है। जिसमें कोरोना वैक्सीन की झुठी दवाई बनाने की अफवाह फैली थी। इसी तहर का मामला पिछले साल नोएडा सेक्टर 58 थाने में दर्ज किया गया था।

Next Story