Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गरीबों को शून्य लोन, निगम भड़का, पांच बैंकों से अपना खाता समेट रहा

केंद्र सरकार की योजना के तहत शहरी गरीबों के पर्सनल लोन प्रकरणों के निराकरण में शून्य स्थिति वाले पांच निजी बैंकों का खाता नगर निगम बंद करा रहा है। मंगलवार को नगर निगम के वित्त विभाग ने एक्सिस बैंक, कोटक महेंद्रा बैंक, इंडस बैंक, आईसीआईसी बैंक और यश बैंक में कुल 15 खातों को खंगाला, जिसमें 168 करोड़ की एकमुश्त राशि जमा है।

गरीबों को शून्य लोन, निगम भड़का, पांच बैंकों से अपना खाता समेट रहा
X

रायपुर. केंद्र सरकार की योजना के तहत शहरी गरीबों के पर्सनल लोन प्रकरणों के निराकरण में शून्य स्थिति वाले पांच निजी बैंकों का खाता नगर निगम बंद करा रहा है। मंगलवार को नगर निगम के वित्त विभाग ने एक्सिस बैंक, कोटक महेंद्रा बैंक, इंडस बैंक, आईसीआईसी बैंक और यश बैंक में कुल 15 खातों को खंगाला, जिसमें 168 करोड़ की एकमुश्त राशि जमा है।

इन पांच बैंकों से खाता बंद कर इनमें जमा राशि को अब राष्ट्रीयकृत बैंक में खाता खोलकर जमा कराया जाएगा। पांच बैंकों में 168 करोड़ की जमा राशि के एवज में नगर निगम को हर साल करीब 10 करोड़ ब्याज के रूप में मिलता है।

पांच बैंक के खाते होंगे बंद, इतनी राशि है जमा

कोटक महेंद्रा बैंक 116 करोड़

एक्सिस बैंक 41 करोड़

आईसीआईसी बैंक 6 करोड़

इंडस बैंक 1 करोड़

यस बैंक 15 लाख

13 बैंकों में नगर निगम ने खोल रखे 54 खाते

रायपुर नगर निगम द्वारा केंद्र व राज्य प्रवर्तित योजना के अतिरिक्त संचित निधि, सिटी बस योजना, अमृत मिशन योजना तथा तेलीबांधा साैंदर्यीकरण योजना सहित अलग-अलग मद से प्राप्त राशि को 13 बैंकों के 54 खातों में जमा कराया गया है। सबसे ज्यादा 116 करोड़ की एकमुश्त राशि कोटक महेंद्रा बैंक में खुलवाए गए नगर निगम के खाते में जमा है।

केंद्र सरकार की शहरी बेरोजगारों के लिए लोन संबंधी योजना के लिए शहरी आजीविका मिशन द्वारा नगर निगम के माध्यम से भेजे गए प्रकरणों के निराकरण में शून्य रहे पांच बैंकों के खाते को तत्काल बंद करने के निर्देश दिए हैं। इन बैंकों में नगर निगम के खातों में जमा राशि को निकालकर राष्ट्रीयकृत बैंकों में जमा करेंगे।

-एजाज ढेबर, महापौर, रायपुर नगर निगम

Next Story