Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सीएम के 'प्रयास' पर फिरा पानी: दबंगों के कब्ज़े से जमीन छुड़ाने, बच्चे कर रहे आन्दोलन

मुख्यमंत्री ने अपने जन्मदिन के मौके पर संस्था को दो एकड़ जमीन दी थी। दबंग उस जमीन पर प्लॉटिंग कर उसकी खरीद-फरोख्त कर रहेे हैं। इसके बाद अगले हिस्से की जमीन पर भी दबंगों ने कब्जा कर लिया है। इससे परेशान बच्चों ने शनिवार को प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया और सोसाइटी की जमीन पर बैठकर प्रदर्शन किया। पढ़िए पूरी ख़बर..

सीएम के प्रयास पर फिरा पानी: दबंगों के कब्ज़े से जमीन छुड़ाने, बच्चे कर रहे आन्दोलन
X

रायपुर: गरीब बच्चों को शिक्षा देने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के प्रयास पर दबंग पानी फेर रहे हैं। सीएम ने प्रयास एजुकेशनल सोसाइटी को करीब 2 एकड़ जमीन दी थी। उद्देश्य था कि बच्चों को पढ़ाने के लिए भवन और गार्डन बनाया जाएगा। साेसाइटी का आरोप है कि दबंगों ने उस जमीन पर न सिर्फ कब्जा कर लिया है, बल्कि 40 फीट की सड़क भी बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। सोसाइटी के टीचर और बच्चों द्वारा विरोध करने पर उनको धमकाया भी जा रहा है। इससे परेशान बच्चों ने शनिवार को प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया और सोसाइटी की जमीन पर बैठकर प्रदर्शन किया। नगर निगम के अफसरों का कहना है, श्री प्रयास सोसाइटी की जमीन पर जल्द ही बाउंड्रीवॉल बनाई जाएगी। इसके बाद कब्जा करने की समस्या हमेशा के लिए समाप्त हो जाएगी।

700 बच्चे करते हैं पढ़ाई

टीचर कल्पना टेकाम के मुुताबिक श्री प्रयास एजुकेशन सोसाइटी द्वारा नागरची भवन में 3 साल से पढ़ाई की जा रही है। इस समय करीब 700 बच्चे पढ़ाई करते हैं। इनमें कक्षा 4 से लेकर बीए, बीएसई और बीकाम तक की पढ़ाई कराई जाती है। करीब 12 टीचर बच्चों को पढ़ाते हैं। दो एकड़ जमीन मिलने से बच्चों के लिए बिल्डिंग बनने की संभावना थी, लेकिन इससे पहले ही दबंगों ने जमीन पर कब्जा कर लिया।

सीएम ने श्री प्रयास एजुकेशनल सोसाइटी के नाम पर दी थी रोड से सटी दो एकड़ जमीन

जानकारी के मुताबिक संतोषीनगर भैरवनगर में प्रयास एजुकेशनल सोसाइटी द्वारा स्कूल-कॉलेज संचालित किया जाता है। करीब तीन साल से नागरची भवन को किराए पर लेकर बच्चाें को पढ़ाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने अपने जन्मदिन के मौके पर संस्था को दो एकड़ जमीन दी थी। जमीन भैरवनगर कॉलोनी में रोड से सटी थी। उसके पिछले हिस्से में खाली जमीन पड़ी थी। दबंग उस जमीन पर प्लॉटिंग कर उसकी खरीद-फरोख्त कर रहेे हैं। इसके बाद अगले हिस्से की जमीन पर भी कब्जा कर लिया है। इसी का सोसाइटी द्वारा विरोध किया जा रहा है।

Next Story