Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

VIDEO: छत्तीसगढ़ के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल का आठवां दिन, मरीज बदहाल

छत्तीसगढ़ के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल government hospital अंबेडकर हॉस्पिटल में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल जारी है। मरीजों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। पहले ओपीडी opd में डेढ़ हजार मरीज आते थे उनकी संख्या अब आधी हो गई। चेकअप कराने आए मरीजों patient's की लाइन लगी है। मरीज घंटे भर से स्ट्रेचर में पड़े हैं। मरीजों को देखने वाले डॉक्टर नहीं हैं। पढ़िए आंखों देखी ख़बर...

VIDEO: छत्तीसगढ़ के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल का आठवां दिन, मरीज बदहाल
X

रायपुर: छत्तीसगढ़ के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल अंबेडकर हॉस्पिटल में पिछले 8 दिनों से जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर हैं। जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल के चलते स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित हो रही हैं। खासकर ओपीडी में आने वाले मरीजों को भटकना पड़ रहा है। अस्पताल में सेवा देने वाले जूनियर डॉक्टर बीते चार दिनों से NEET-PG 2021 काउंसिलिंग जल्दी करवाने की मांग के चलते हड़ताल पर चल गए हैं। दरअसल। पिछले एक साल से NEET-PG 2021 काउंसलिंग में देरी हो रही है। इससे सेकेंड ईयर के छात्रों पर वर्क लोड बढ़ गया है। छात्रों को छुट्टी नहीं मिल रही है। रोजाना ड्यूटी करने से तबीयत तक खराब हो जा रही है। जूनियर डॉक्टर संघ के अध्यक्ष इंद्रेश यादव ने बताया कि सोमवार को राज्यपाल से मुलाकात कर 2 मांगों से अवगत कराया गया है। इसमें NEET PG के काउंसलिंग में हो रही देरी को लेकर केंद्र सरकार के नाम से ज्ञापन सौंपा गया है।

ओपीडी की सेवा बुरी तरह से प्रभावित हो रही है।

पेंड्रा से आए इमरान को खेत में शौच करते वक़्त मवेशी ने पटक दिया था, जिससे उनके कमर में चोट आई है। लेकिन उन्हें लगातार इधर से उधर भेजा जा रहा.. इसी तरह से अपनी मां को लेकर पहुंची एक युवती ने भी हरिभूमि संवाददाता को बताया की उसे कुछ समझ नहीं आ रहा क्या हो रहा है। पहले जहां ओपीडी में डेढ़ हजार मरीज आते थे उनकी संख्या अब घटकर आधी हो गई है। अस्पताल में चेकअप कराने आए मरीजों की लाइन लगी है। कुछ मरीज घंटे भर से स्ट्रेचर में पड़े हैं। मरीजों को देखने वाले डॉक्टर नहीं हैं।

इमरजेंसी वाले मरीजों का हो रहा इलाज

वहीं अंबेडकर अस्पताल के जनसंपर्क अधिकारी शुभ्रा सिंह से मिली जानकारी के अनुसार लागातार ओपीडी में केस कम दर्ज किए जा रहे हैं। देखिए वीडियो..



Next Story