Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नियमितीकरण का वादा अब तक नहीं हुआ पूरा : अनियमित कर्मचारी 3 जून को करेंगे चेतावनी सभा, मांग पूरी नहीं होने पर करेंगे पूर्ण कामबंदी-अनिश्चितकालीन आंदोलन...

छत्तीसगढ़ संयुक्त अनियमित कर्मचारी महासंघ प्रदेश के लाखों कर्मचारियों को नियमित नहीं किए जाने को लेकर 3 जून को रायपुर में चेतावनी सभा करेंगे। संघ के इस चेतावनी सभा को जबरदस्त समर्थन मिल रहा है।

नियमितीकरण का वादा अब तक नहीं हुआ पूरा : अनियमित कर्मचारी 3 जून को करेंगे चेतावनी सभा, मांग पूरी नहीं होने पर करेंगे पूर्ण कामबंदी-अनिश्चितकालीन आंदोलन...
X

रायपुर। छत्तीसगढ़ संयुक्त अनियमित कर्मचारी महासंघ प्रदेश के लाखों कर्मचारियों को नियमित नहीं किए जाने को लेकर 3 जून को रायपुर में चेतावनी सभा करेंगे। संघ के इस चेतावनी सभा को जबरदस्त समर्थन मिल रहा है। अनियमित कर्मचारी महासंघ के प्रांतीय संयोजक गोपाल प्रसाद साहू ने बताया कि अनियमित कर्मचारी महासंघ की ओर से प्रदेश के लाखों अनियमित कर्मचारियों को नियमित करने वादे को अद्यतन पूर्ण नहीं करने पर 3 जून को चेतावनी सभा रायपुर में किया जा रहा है। इसके माध्यम से कांग्रेस सरकार को समय-सीमा में प्रदेश के अनियमित कर्मचारियों को नियमित करने कार्यवाही करने चेताया जाएगा तथा सरकार की ओर से किसी प्रकार की कार्यवाही नहीं करने पर 1 सितम्बर से पूर्ण कामबंदी के साथ अनिश्चितकालीन आंदोलन किया जाएगा। वहीं प्रांतीय अध्यक्ष रवि गडपाले ने कहा कि चेतावनी सभा को अनियमित कर्मचारी संगठन के साथ-साथ नियमित कर्मचारी संगठन का समर्थन मिल रहा है। छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडेरशन के प्रांतीय संयोजक कमल वर्मा और छत्तीसगढ़ तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ के प्रांताध्यक्ष विजय झा ने इस आन्दोलन को समर्थन देने की घोषणा की है।

अनियमित कर्मचारी महासंघ के भगवती शर्मा तिवारी, प्रांतीय कार्यकारी अध्यक्ष अजित नाविक और संगठन मंत्री संजय सोनी ने कहा कि हम सरकार को चेतावनी देने जा रहे हैं, क्योंकि कांग्रेस पार्टी का 10 दिन में नियमितीकरण का वादा जो साढ़े 3 साल में भी पूरा नहीं हुआ। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का वादा 1 साल बाद नियमितीकरण करेंगे, जो आज तक पूरा नहीं हुआ। पिछले 3 साल में नियमितीकरण के लिए गठित कमेटी की रिपोर्ट पूरी नहीं हुई है। कर्मचारियों का डाटा इकट्ठा नहीं कर पाई है। साथ ही विधानसभा सत्र में मुख्यमंत्री ने नियमितीकरण की बात स्वीकार की गई, लेकिन वादा आज भी अधूरा है। आउटसोर्सिंग बंद नहीं हुआ। कर्मचारियों को मिलने वाला वेतन वृद्धि रोक दिया गया है। घोषणा पत्र में छटनी नहीं करने का वादा था, लेकिन कई विभागों से छटनियां कर दी गई है। संघ के प्रांतीय उपाध्यक्ष प्रेमप्रकाश गजेन्द्र ने बताया कि चेतावनी सभा में 36 सम्बद्ध अनियमित संगठन के साथ-साथ अन्य अनियमित संघ के कर्मचारी सम्मिलित होंगे तथा प्रदेश के समस्त अनियमित कर्मचारियों से अपील की है कि इस चेतावनी सभा में अधिक से अधिक संख्या में पहुंचकर मुहीम नियमितीकरण में अपनी भूमिका प्रदर्शित करें। साथ ही 1 सितम्बर से पूर्ण कामबंदी के साथ अनिश्चितकालीन आंदोलन के लिए अपने आप को तैयार रखें।

और पढ़ें
Next Story