Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

स्वच्छता सर्वेक्षण की नई गाइडलाइन में आम जनता की बढ़ेगी अहमियत

केंद्र सरकार द्वारा देशव्यापी केंद्रीय स्वच्छता सर्वेक्षण में अब कागजी दस्तावेज और फील्ड पर भागदाैड़ की जगह आम जनता की सफाई को लेकर राय को अहमियत दी जाएगी। 2021 की नई गाइडलाइन में सफाई सर्वेक्षण पूरी तरह पब्लिक फीडबैक पर केंद्रित रहेगा।

स्वच्छता सर्वेक्षण की नई गाइडलाइन में आम जनता की बढ़ेगी अहमियत
X

रायपुर. केंद्र सरकार द्वारा देशव्यापी केंद्रीय स्वच्छता सर्वेक्षण में अब कागजी दस्तावेज और फील्ड पर भागदाैड़ की जगह आम जनता की सफाई को लेकर राय को अहमियत दी जाएगी। 2021 की नई गाइडलाइन में सफाई सर्वेक्षण पूरी तरह पब्लिक फीडबैक पर केंद्रित रहेगा।

केंद्रीय टीम अब शहर की आम जनता से सफाई को लेकर सवाल करेगी। सफाई व्यवस्था से जनता खुश, तो अच्छी रैंकिंग मिलने में आसानी होगी। यही नहीं, अब साल में दो बार की जगह तीन बार केंद्र स्तर पर देशव्यापी स्वच्छता सर्वेक्षण कर सफाई की रैंकिंग तय की जाएगी, ताकि नगरीय निकाय क्षेत्रों की सफाई व्यस्था की सतत मानिटरिंग हो सके। केंद्रीय शहरी मंत्रालय ने स्वच्छता सर्वेक्षण को लेकर हाल ही में नई गाइडलाइन तय की है। नई गाइडलाइन में शहर की आम जनता की राय को प्रमुखता दी जाएगी। यानी अब पब्लिक फीडबैक को नगर निगम प्रशासन नजर अंदाज नहीं कर सकेगा, क्योंकि केंद्रीय टीम शहर की सफाई व्यवस्था की धरातल पर स्थिति जानने सिर्फ वहां लोगों से बात करेगी, जबकि अब तक हुए केंद्रीय स्वच्छता सर्वेक्षण में बाहर से आए जांच दल के सदस्य शहर की सड़कों, नालियों की सफाई देखने गली कूचों में जाकर वहां की तस्वीर वेबसाइट पर लोड कर सीधे हेड आफिस भेजते रहे।

कोरोनाकाल की वजह से रैंकिंग घोषणा में देर

केंद्रीय टीम द्वारा किए गए देशव्यापी स्वच्छता सर्वेक्षण को लेकर सफाई की रैंकिंग इस बार कोरोेेेना काल के कारण अब तक घोषित नहीं हो पाई है। नगर निगम प्रशासन को इस बार शहर की बेहतर रैंकिंग मिलने की उम्मीद है। स्वच्छ भारत मिशन के नोडल अधिकारी रघुमणि प्रधान का कहना है, डोर टू डोर कचरा कलेक्शन में बेहतर स्थिति और मुक्कड़ फ्री सिटी होने सहित ओडीएफ व अन्य तरह की सुविधा में अच्छे अंक मिलेेेंगे।

पूर्व में अंकों की स्थिति पर एक नजर

कुल अंक 6,000

पब्लिक फीडबैक पर 1500 अंक

दी जा रही सुविधा पर 1500 अंक

प्रत्यक्ष अवलोकन पर 1500 अंक

ओडीएफ एवं अन्य तरह की सुविधा पर 1500 अंक

2021 में इस तरह तय होंगे अंक

पब्लिक फीडबैक पर 6,000 अंक

दी जा रही सुविधा पर 2400 अंक

ओडीएफ एवं अन्य मिलने वाली सुविधा पर 1800 अंक

कुल अंक रहेंगे 10,200

Next Story