Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राजधानी के रेलवे स्टेशन की लिफ्ट खराब, दिव्यांग और बीमारों को रुला रहीं सीढ़ियां

रायपुर रेलवे स्टेशन देश के उन 75 स्टेशनों में शामिल है, जिन्हें ए-1 स्टेशन का दर्जा प्राप्त है। फिर भी 14 दिनों से सबसे अधिक यात्रियों की आवाजाही वाली लिफ्ट का खराब होना और मेंटेनेंस नहीं हो पाना इसकी गुणवत्ता पर सवालिया निशान लगा रहा है। कोरोना के बाद से स्टेशन में एस्केलेटर मशीन भी बंद कर दी गई है। इस कारण आम और दिव्यांग सभी यात्रियों को चलकर ही एक प्लेटफार्म से दूसरे प्लेटफार्म तक जाना पड़ रहा है। पढ़िए पूरी ख़बर..

राजधानी के रेलवे स्टेशन की लिफ्ट खराब, दिव्यांग और बीमारों को रुला रहीं सीढ़ियां
X

रायपुर: रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर- 1 पर दिव्यांग व बुजुर्गों के लिए लगाई गई लिफ्ट पिछले 14 दिनों से बंद पड़ी है। लिफ्ट खराब होने से दिव्यांग, बीमार व बुजुर्ग रेलयात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जानकारी के अनुसार मेंटेनेंस राशि न दिए जाने के कारण लिफ्ट लगाने वाली कंपनी ने अपनी सेवाएं रोक दी हैं। अब रेलमंडल के अधिकारी नई कंपनी की तलाश में हैं, जो लिफ्ट का मेंटेनेंस कर सके। लिफ्ट खराब होने से दिनभर दर्जनों बुजुर्ग व दिव्यांग यात्रियों को सीढ़ी चढ़कर जाना पड़ रहा है। प्लेटफार्म में तीन लिफ्ट लगी हैं, जिसमें दो सही हैं। प्लेटफार्म नंबर- 1 का लिफ्ट खराब है। एक से दूसरे प्लेटफार्म तक जाने के लिए इसी लिफ्ट का उपयोग अधिक होता है। इसके अलावा ट्रेन से उतरने के बाद बाहर निकलने के लिए भी प्लेटफार्म एक की लिफ्ट की जरूरत पड़ती है।

प्लेटफार्म- 1 में लिफ्ट खराब, दिव्यांग और बुजुर्ग यात्रियों की परेशानी बढ़ी, शिकायत करने पहुंच रहे यात्री

लिफ्ट खराब हुए 14 दिन से अधिक होने को हैं। यात्री रोज असुविधा होने पर स्टेशन निदेशक के पास शिकायत करने पहुंच रहे हैं। रेलमंडल को अभी तक लिफ्ट के मेंटेनेंस कार्य के लिए कोई अन्य कंपनी नहीं मिली है। प्लेटफार्म- 1 का लिफ्ट अधिक उपयोग होता है, इसलिए समस्या भी ज्यादातर यहीं हो रही है। स्टेशन में बैटरी वाहन ज्यादातर समय वीआईपी गेट के पास ही खड़े होते हैं। स्टेशन निदेशक को शिकायत करने पहुंचे एक यात्री ने बताया, बैटरी कार में दिव्यांगों काे तत्काल सुविधा नहीं मिल रही है। इसके लिए पहले से बुकिंग कराने की बात बैटरी कार संचालक कह रहे हैं।

जल्द ठीक होगी लिफ्ट

लिफ्ट के मेंटेनेंस का जिस कंपनी को टेंडर दिया गया था, उसका टेंडर खत्म हो चुका है। रेलमंडल ने नए

टेंडर की प्रक्रिया शुरू की है। जल्द ही खराब लिफ्ट को ठीक कर लिया जाएगा।

- राकेश सिंह, स्टेशन निर्देशक








Next Story