Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आठ साल में जर्जर हुए ब्रिज चंद सेकंड में ध्वस्त, 2.5 करोड़ की लागत में नया निर्माण जल्द

बिलासपुर-रायपुर नेशनल हाईवे के छोकरानाला पुलिया का नया स्ट्रक्चर होगा तैयार

आठ साल में जर्जर हुए ब्रिज चंद सेकंड में ध्वस्त, 2.5 करोड़ की लागत में नया निर्माण जल्द
X

रायपुर. बिलासपुर-रायपुर नेशनल हाईवे पर लोक निर्माण विभाग द्वारा बनाए गए छोकरानाला पुलिया को आखिरकार विभाग ने तोड़कर यहां नया ब्रिज बनाने का फैसला किया। इसी कड़ी में सोमवार की रात 12 बजे विस्फोट की नई तकनीक जिलेटिन से धमाका कर जर्जर ब्रिज को ढहा दिया गया। 23 मीटर लंबी और 12 मीटर चौड़ी सड़क के स्लैब को नीचे गिराने में महज 12 सेकंड का वक्त लगा। जिस वक्त जोरदार धमाका हुआ ब्रिज के स्लैब के मलबे दो सौ मीटर दूर तक छिटके। विस्फोट स्थल पर किसी को नुकसान न हो, इसके लिए ट्रैफिक पुलिस और लोक निर्माण के अमले ने मोर्चा संभाले रखा।

सेतु मंडल के कार्यपालन अभियंता एसवी पड़ेगांवकर ने बताया, प्रदेश में पहली बार किसी ब्रिज को मॉडर्न तकनीक से ध्वस्त किया गया है। भारी भरकम जिलेटिन के इस्तेमाल से स्लैब को नीचे गिराया। पुराने जर्जर पुल के ठीक बाजू में नए ब्रिज को किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचा। जर्जर पुल गिराने के बाद अगले चार माह में पुनर्निर्माण कर लिया जाएगा। इसकी लागत लगभग ढाई करोड़ रुपए तय की गई है। नए ब्रिज के लिए पुराने पिल्लरों को और मजबूत करते हुए विभाग ऊपरी :शेष पेज 15 पर

हिस्से को दोबारा बनाएगा। पहले दो करोड़ रुपये में बनी पुलिया को 2.50 करोड़ रुपये तक खर्च कर बनाया जाएगा। नेशनल हाईवे पर दस साल पहले बने ब्रिज को आठ साल पहले जर्जर घोषित किया गया था। दरअसल इस ब्रिज में भारी भरकम वाहनों का दबाव ऐसा पड़ा कि ब्रिज भार वहन करने में ही कमजोर पड़ गया। आठ साल में हालत खराब होने और फिर जर्जर ब्रिज में कंपन पैदा होने के बाद आवाजाही बंद करने फैसला लिया गया। दो साल पहले ब्रिज में आवाजाही प्रतिबंधित करने के बाद राज्य शासन ने ऊपर के कमजोर हिस्सों को ब्लास्टिंग के जरिए तोड़ने सहमति प्रदान की। इसी कड़ी में पुराने पिल्लरों के ऊपर से नए ब्रिज के तीन स्लैब बनाने विभाग ने ड्राइंग-डिजाइन के हिसाब से कार्य प्रारंभ किया। बताया गया, दस साल पहले बने इस ब्रिज में दो करोड़ रुपये खर्च हुए थे। अब इसके पुनर्निर्माण में ढाई करोड़ रुपये तक का प्रावधान किया गया है।

रात 12 बजे के बाद ट्रैफिक बंद

छोकरानाला पुलिया के पास से सोमवार को रात 12 से सुबह 4 बजे तक ट्रैफिक बंद रखे जाने इंतजाम किया गया। रिंग रोड 3 के साथ बिलासपुर मुख्य मार्ग पर आवाजाही करने वाले वाहनों को दूसरे रास्तों से डायवर्ट करने ट्रैफिक पुलिस तैनात की गई। ब्लास्टिंग के एक घंटे पहले मार्ग पर आवाजाही रोकने बैरिकेड्स लगाने के निर्देश दिए गए। ब्लास्टिंग स्थल से करीब पांच सौ मीटर पहले वाहनों को रोकने के कड़े इंतजाम हुए।

बगैर सर्वे निर्माण से बड़ा नुकसान

पुराने पुलिया निर्माण के वक्त एक्सपर्ट सर्वे के बगैर ही ट्रैफिक रूल्स तय कर दिया गया। नई सड़क पर वाहनों का दबाव सहन करने की क्षमता का सर्वे ही नहीं हुआ, ऐसे में नया पुल बनने के बाद वाहनों का दबाव बढ़ते ही हालात खराब होते चले गए। पिल्लर तो मजबूत बने रहे, लेकिन ऊपर की सतहों पर दरारें आ गईं। बाद में कंपन बढ़ने के बाद विशेषज्ञ दल ने इसे जर्जर घोषित कर दिया। निर्माण एजेंसी का नाम चोपड़ा कंस्ट्रक्शन बताया गया है। विभागीय अफसरों का कहना है, एजेंसी को नोटिस देकर वैधानिक कार्रवाई भी की गई।

चार महीने में बनाएंगे सुपर स्ट्रक्चर

लोक निर्माण विभाग सेतु मंडल के अफसरों का कहना है, पुराने ब्रिज के ऊपर सुपर स्ट्रक्चर का हिस्सा सबसे ज्यादा खराब हो गया है। भारी वाहनों का वजन बर्दाश्त के बाहर है। नई तकनीक की मदद से जिलेटिन के जरिए यहां विस्फोट करते हुए स्लैब के हिस्से को ढहाया जाएगा। इसके बाद यहां बनने वाले स्ट्रक्चर को पहले से मजबूत करने एक्सपर्ट जुटेंगे। अफसरों का कहना है, 4 महीने का वक्त लगेगा, जब मजबूती के साथ स्ट्रक्चर बनेगा। निर्माण ऐसा होगा कि वाहनों के अतिरिक्त दबाव होने के बाद भी पुलिया का नुकसान कम होगा।



Next Story