Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

निगम का रिकार्ड बता रहा है कि 4 माह में पौने 4 हजार मौतें, जारी किए डेथ सर्टिफिकेट

सरकारी आंकड़े भले ही कुछ कहें, लेकिन यह तय है कि कोरोना की वजह से बड़ी संख्या में लोगों की मौत हुई है। नगर निगम का रिकार्ड बता रहा है कि दूसरी लहर के चार महीनों में मौतों का आंकड़ा करीब चार गुना बढ़ गया। महज 4 महीने में पौने 4 हजार लोगों की मौत हो गई। परिजनों से मिले आवेदन के आधार पर नगर निगम ने मृत्यु प्रमाणपत्र जारी किए हैं।

निगम का रिकार्ड बता रहा है कि 4 माह में पौने 4 हजार मौतें, जारी किए डेथ सर्टिफिकेट
X

प्रदीप शर्मा. रायपुर. सरकारी आंकड़े भले ही कुछ कहें, लेकिन यह तय है कि कोरोना की वजह से बड़ी संख्या में लोगों की मौत हुई है। नगर निगम का रिकार्ड बता रहा है कि दूसरी लहर के चार महीनों में मौतों का आंकड़ा करीब चार गुना बढ़ गया। महज 4 महीने में पौने 4 हजार लोगों की मौत हो गई। परिजनों से मिले आवेदन के आधार पर नगर निगम ने मृत्यु प्रमाणपत्र जारी किए हैं। इस अवधि में औसतन हर माह एक हजार आवेेेदन मृत्यु प्रमाणपत्र के लिए निगम को मिले। जबकि सामान्य दिनों में यह संख्या हर माह औसतन 150 से 200 आवेदन आते हैं। नए साल के शुरुआती 4 माह में बीते अप्रैल का महीना कोरोना संक्रमितों से मौत के मामले सबसे ज्यादा चिंताजनक रहा। इस माह 990 पुरुषों और 472 महिलाओं की मौत हुई। जबकि मार्च माह में 389 पुरुषों और 227 महिलाओं की मौत हुई।

सालभर में 9500 की मौतें

मौतों का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि रायपुर नगर निगम मुख्यालय की जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र पंजीयन शाखा में 1 जनवरी 2020 से 31 दिसंबर 2020 तक 9500 लोगों की सांसें थम गईं। इनमें से ज्यादातर मौतें कोरोना संक्रमण से और कुछ मौतें अन्य बीमारियों से होने वाली सामान्य मृत्यु से संबंधित हैं।

इस साल कुल मृत्यु पंजीयन 3,737

जनवरी माह में 812, फरवरी माह 847, मार्च 616 और अप्रैल माह में 1462 डेथ सर्टिफिकेट जारी किए गए हैं। जानकार बताते हैं कि आमतौर और सामान्य दिनों में हर महीने करीब डेढ़ सौ से दो सौ सर्टिफिकेट ही जारी किए जाते रहे हैं। लेकिन पिछले चार महीनों में अचानक मौतों की संख्या बढ़ी है।

महीनेवार मृत्यु पंजीयन पर एक नजर

माह पुरुष महिला कुल मौत

जनवरी 198 100 298

फरवरी 452 332 784

मार्च 263 159 422

अप्रैल 421 265 686

मई 420 234 654

जून 539 329 868

जुलाई 548 325 873

अगस्त 425 269 694

सितंबर 272 109 1381

अक्टूबर 1001 453 1454

नवंबर 728 413 1141

दिसंबर 786 441 1227

टोटल : 6053 3,429 9,482

महासमुंद जिले में 300 की हो चुकी है मौत

कोरोनाकाल में लोग अपने परिजनों के लिए अस्पताल, दवा दुकान और मौत होने के बाद श्मशानघाट की दौड़ के बाद परिजनों के मृत्यु प्रमाणपत्र के लिए निगम दफ्तर से संपर्क साध रहे हैं। महासमुंद ही नहीं, तुमगांव, बसना, सरायपाली, बागबाहरा और पिथौरा नगरीय निकाय के अंतर्गत हुई मौतों के लिए लोग सर्टिफिकेट लेने पहुंच रहे हैं। कोरोनाकाल में शुक्रवार तक जिले के 300 लोग केवल कोरोना के चलते मौत के मुंह में समा चुके हैं। ये वही आंकड़े हैं, जिन्हें प्रशासन द्वारा घोषित किया गया है। साथ ही सामान्य रूप से मृत हुए लोगों की संख्या सैकड़ों में पहुंच गई है। जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र प्रभारी विजय साहू का कहना है, मार्च और अप्रैल माह में ऐसे 48 लोगों के मृत्यु प्रमाणपत्र जारी हुए हैं।

और पढ़ें
Next Story