Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

छत्तीसगढ़ के सामने कोरोनावायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन से निपटने की चुनौती

प्रदेश सरकार के सामने अब कोरोनावायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन से निपटने की चुनौती है। प्रदेश में जीनोम सिक्वेंसिंग की व्यवस्था नहीं है। अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्‌डा भी नहीं है। जिससे विदेश से आने वाले लोगों की वहीं जांच की जा सके। अभी पिछले हफ्ते ही सरकार ने एयरपोर्ट पर कोरोना की जांच की अनिवार्यता खत्म की थी। की इस नए वेरिएंट की ख़बर ने पूरी दुनिया के साथ छत्तीसगढ़ सरकार के भी कान खड़े कर दिए। पढ़िए जरूरी ख़बर...

छत्तीसगढ़ के सामने कोरोनावायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन से निपटने की चुनौती
X

रायपुर: केंद्र सरकार ने नए वैरिएंट को लेकर एडवाइजरी जारी की है। इसके मुताबिक विदेश से आए सभी लोगों को कम से कम 7 दिन आइसोलेशन में रखना है। 7 से 10 दिनों के भीतर बीमारी के लक्षण नजर आएं तो तत्काल जांच कर सीधे अस्पताल में भर्ती कराने को कहा गया है। ऐसे मरीजों को होम आइसोलेशन की इजाजत नहीं देने को कहा गया है। अब विदेशों से छत्तीसगढ़ आए लोगों की सूची केंद्र सरकार से मांगी जा रही है। इस बीच सभी अस्पतालों को नए वैरिएंट से निपटने को तैयार रहने के लिए कह दिया गया है। छत्तीसगढ़ में कोरोना का पहला मामला 18 मार्च 2020 को सामने आया था। एक दिन पहले लंदन से लौटी रायपुर की एक लड़की संक्रमित मिली थी। उस समय जांच आदि की इतनी व्यापक व्यवस्था नहीं थी। लड़की ने खुद AIIMS जाकर जांच के लिए सैंपल दिया। वहां पता चला कि वह कोरोना पॉजिटिव है।

स्वास्थ्य विभाग ने सभी कलेक्टरों और मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को इसके लिए निर्देशित कर दिया है। इधर, एपिडेमिक कंट्रोल के संचालक डॉ. सुभाष मिश्रा का कहना है, जिलों को इससे संबंधित निर्देश जारी कर दिए गए हैं। ओमिक्रॉन प्रभावित देशों से लौटे यात्रियों की जानकारी केंद्र सरकार उपलब्ध कराने वाली है। उसके आधार पर कार्रवाई होगी।

Next Story