Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

तीन दिनों में पलटा सर्वे, पहले सूखे पर था फोकस, अब बाढ़ से नुकसान की चिंता

छत्तीसगढ़ में इस साल सावन का महीना सूखा बीतने के बाद राज्य सरकार प्रदेश के 14 जिलों में सूखे के हालात का सर्वे करवा रही थी। सूखे पर कलेक्टरों की रिपोर्ट मिलने से पहले ही पिछले तीन-चार दिनों में इतनी बारिश हो गई कि अब भारी वर्षा से फसलों, पशु, मकानों के नुकसान की सर्वे रिपोर्ट मंगाने की नौबत आ गई है।

तीन दिनों में पलटा सर्वे, पहले सूखे पर था फोकस, अब बाढ़ से नुकसान की चिंता
X

रायपुर. छत्तीसगढ़ में इस साल सावन का महीना सूखा बीतने के बाद राज्य सरकार प्रदेश के 14 जिलों में सूखे के हालात का सर्वे करवा रही थी। सूखे पर कलेक्टरों की रिपोर्ट मिलने से पहले ही पिछले तीन-चार दिनों में इतनी बारिश हो गई कि अब भारी वर्षा से फसलों, पशु, मकानों के नुकसान की सर्वे रिपोर्ट मंगाने की नौबत आ गई है।

सरकार के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग ने रायपुर, महासमुंद, धमतरी और गरियाबंद जिलों में भारी बारिश और बाढ़ से नुकसान की रिपोर्ट कलेक्टरों से मंगवाई है। राज्य में पिछले चार दिनों से लगातार बारिश ने सूखे की सभी आशंकाओं को धो डाला है। इससे पहले आशंका थी कि इस साल अवर्षा के कारण अकाल पड़ सकता है। अब स्थिति पूरी तरह बदल चुकी है। राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग को मिली रिपोर्ट के अनुसार पूरे प्रदेश के सभी जिलों में बारिश हो रही है। अब तक की स्थिति में राज्य में सामान्य औसत के मुकाबले 92 प्रतिशत बारिश रिकार्ड की गई है।

सरकार ने मांगी बाढ़ पर रिपोर्ट

छत्तीसगढ़ में कुछ दिनों पहले तक अवर्षा के कारण बने हालात पर राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग ने सभी जिलों के कलेक्टरों से सूखे के कारण फसल को होने वाले नुकसान पर रिपोर्ट मांगी थी। यह रिपोर्ट सरकार के पास आने के पहले ही राज्यभर में बारिश शुरु हो गई और अब बारिश की स्थिति, बाढ़ से फसल को होने वाले नुकसान, पशु हानि, जनहानि, मकानों को हुए नुकसान पर रिपोर्ट मांगी गई है।

20 तहसीलों में 60 एमएम से अधिक बारिश

राजस्व विभाग के अनुसार राज्य में हो रही बारिश में अब तक सबसे अधिक गरियाबंद जिले में हुई है। यहां की कई तहसीलों में अत्याधिक बारिश से बाढ़ के हालात बन गए हैं। गरियाबंद की पैरी नदी उफान पर है। यहां के सिकासेर बांध में अत्याधिक जलभराव के कारण बांध के 22 में से 17 गेट खोलने पड़े है। इसके साथ ही प्रदेश की 20 तहसीलों में 60 एमएम से अधिक बारिश होने के कारण यहां चिंता बढ़ रही है।

अब हालात बदल गए फिर मांगी है रिपोर्ट

प्रदेश के सभी जिलों में हो रही लगातार बारिश से राज्य के हालात पूरी तरह बदल गए हैं। हमने पहले सूखे की स्थिति पर रिपोर्ट मंगवाई थी। अब बारिश के कारण बने हालात पर सभी जिलों कलेक्टरों से रिपोर्ट देने कहा है। पिछले तीन-चार दिनों में सबसे अधिक बारिश महासमुंद, गरियाबंद, धमतरी और रायपुर जिले में हुई।

- रीता शांडिल्य, सचिव राजस्व एवं आपदा प्रबंधन

Next Story