Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

प्रौढ़ परीक्षार्थियों के घर तक पहुंचेंगे शिक्षक, देंगे परीक्षा की जानकारी

पढ़ना-लिखना अभियान के अंतर्गत 30 सितंबर को प्रौढ़ शिक्षार्थी के आकलन के लिए महापरीक्षा का आयोजन किया जा रहा है। पढ़ना-लिखना अभियान के तहत ढाई लाख असाक्षरों को साक्षर बनाने का लक्ष्य है। साक्षर बनने के लिए ये सभी असाक्षर महापरीक्षा अभियान में शामिल हो सकते हैं।

प्रौढ़ परीक्षार्थियों के घर तक पहुंचेंगे शिक्षक, देंगे परीक्षा की जानकारी
X

रायपुर. पढ़ना-लिखना अभियान के अंतर्गत 30 सितंबर को प्रौढ़ शिक्षार्थी के आकलन के लिए महापरीक्षा का आयोजन किया जा रहा है। पढ़ना-लिखना अभियान के तहत ढाई लाख असाक्षरों को साक्षर बनाने का लक्ष्य है। साक्षर बनने के लिए ये सभी असाक्षर महापरीक्षा अभियान में शामिल हो सकते हैं। इसके लिए शिक्षार्थी सुविधानुसार सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक निर्धारित समय के भीतर आकलन में सम्मिलित हो सकेंगे। शिक्षार्थी को प्रश्नपत्र हल करने के लिए तीन घंटे का समय दिया जाएगा। राज्य साक्षरता मिशन प्राधिकरण द्वारा सभी जिला शिक्षा अधिकारियों और जिला परियोजना अधिकारी साक्षरता मिशन को महापरीक्षा अभियान के संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं।

संबंधित अधिकारियों से कहा गया है कि शिक्षार्थी आकलन में गुणवत्ता बनाए रखने पर विशेष ध्यान दें। केवल ऐसे शिक्षार्थी ही आकलन में शामिल होंगे, जिनका नाम सीजीस्कूलडॉटइन पोर्टल में अपलोड हो और जिनके द्वारा मोहल्ला साक्षरता केंद्र में बुनियादी प्रवेशिका ऑक्षर झांपी का पठन-पाठन पूर्ण कर लिया गया हो। पंजीयन के आधार पर ग्राम पंचायत और नगरीय निकाय के वार्डवार आकलन में सम्मिलित होने वाले शिक्षार्थियों की सूची तैयार की जाएगी। इसके बाद संबंधित ग्राम पंचायत अथवा नगरीय निकाय के वार्ड के नजदीक वाले शासकीय स्कूल के परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे।

प्रश्नपत्र के होंगे तीन भाग

प्रश्नपत्र के तीन भाग पढ़ना, लिखना और गणित होंगे। प्रत्येक भाग 50 अंकों का होगा और सभी प्रश्नों का उत्तर देना अनिवार्य होगा। प्रश्नपत्र और उत्तरपुस्तिका का वितरण 4-5 शिक्षार्थियों की उपस्थिति के बाद ही किया जाएगा। परीक्षा के बाद उत्तरपुस्तिका का मूल्यांकन समयसीमा में कर पोर्टल में इसकी पूर्ण जानकारी दर्ज की जाएगी।

दर्ज होगी पूरी जानकारी

शिक्षार्थियों को परीक्षा केंद्र व समय की जानकारी अनिवार्य रूप से विभिन्न माध्यमों से प्रदान की जाएगी। किन्हीं स्थानों पर यदि शिक्षार्थी कम होंगे तो ग्राम पंचायत अथवा नगरीय निकाय के वार्ड के नजदीक शासकीय स्कूल को परीक्षा केंद्र बनाया जाएगा। परीक्षा के कम से कम तीन दिवस पूर्व ग्राम और वार्ड प्रभारी स्वयंसेवी शिक्षक की सहायता से प्रत्येक पंजीकृत शिक्षार्थी के घर-घर संपर्क कर शिक्षार्थी पर्ची का वितरण करेंगे। इसमें शिक्षार्थी का नाम, नामांकन क्रमांक, परीक्षा की तिथि, समय व परीक्षा केंद्र का नाम स्पष्ट रूप लिखा होगा।

Next Story