Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

स्पेशल रिपोर्ट: रायपुर में कोरोना विस्फोट, नए साल के पहले दिन ही 73 संक्रमित, प्रदेश में 279 पॉजिटिव

नए साल का जश्न मनाने कोरोना प्रोटोकाॅल की उड़ी धज्जियां, उत्साह ठीक पर लापरवाही पड़ सकती है भारी, नए साल के पहले दिन रायपुर जिले में विस्फोट हुआ और 32 सौ लोगों की जांच में 73 लोगों को पाॅजिटिव पाया गया। बिलासपुर, रायगढ़ भी 50 प्लस, दुर्ग में दो दर्जन मामले। पढ़िए स्पेशल रिपोर्ट..

स्पेशल रिपोर्ट: रायपुर में कोरोना विस्फोट, नए साल के पहले दिन ही 73 संक्रमित, प्रदेश में 279 पॉजिटिव
X

रायपुर: साल के अंतिम दिनों में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण का नए साल के पहले दिन रायपुर जिले में विस्फोट हुआ और 32 सौ लोगों की जांच में 73 लोगों को पाॅजिटिव पाया गया। बिलासपुर और रायगढ़ जिले में भी कोरोना का आंकड़ा 50 के पार रहा और दुर्ग में दो दर्जन मरीज सामने आए। प्रदेश में तेजी से बढ़ा संक्रमण दर अब 1.18 फीसदी हो चुका है। प्रदेश में 23 हजार से ज्यादा जांच में 279 लोगों को संक्रमित पाया गया।

प्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर की दस्तक हो चुकी है और नए साल के पहले दिन कोरोना के वायरस ने 279 लोगों को अपना शिकार बनाया, जिसके बाद एक्टिव केस बढ़कर 1017 तक पहुंच गया है। प्रदेश में कोरोना के बदले स्वरूप ओमीक्राॅन की दस्तक भले ही नहीं हुई है, मगर पुराने वैरिएंट ने ही लोगों को दहशतजदा कर दिया है। सप्ताहभर से प्रदेश में कोरोना ने बढ़ते दौर में सामने आना शुरू किया था और 46 से हुई शुरुआत अब 279 तक पहुंच गई है। कोरोना के मामले बढ़ने की वजह को लेकर अब चिंतन-मनन का दौर शुरू हो गया है। विशेषज्ञ इसे लापरवाही और आवाजाही पर हटे प्रतिबंध को मान रहे हैं, जिसकी वजह से दूसरे राज्यों से लोग संक्रमित होकर यहां तक पहुंच रहे हैं। शनिवार को रायपुर में 73, बिलासपुर में 58, रायगढ़ में 50, दुर्ग में 24, कोरबा 16, जशपुर 12, जांजगीर-चांपा में 11 तथा अन्य राज्यों से लौटे 6 लोग पॉजिटिव मिले। प्रदेश में अब एक्टिव केस बढ़कर एक हजार के पार हो चुके हैं।

आईवरमेक्टिन नहीं

कोरोना की दवा सूची से अब आइवरमेक्टिन को हटा दिया गया है। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान इस दवा को कोरोना संक्रमितों के लिए कारगर नहीं माना गया था। आईसीएमआर की इस गाइडलाइन के बाद उसे दवा की किट से हटा दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग के प्रवक्ता डॉ. सुभाष मिश्रा ने बताया कि अभी कोरोना के मरीजों को होम आइसोलेशन के दौरान लक्षण रहित दवा दी जा रही है। अब दवाइयों की नई सूची में पेरासिटामॉल, सिट्रीजीन, बी-कांप्लेक्स, विटामिन सी और एंटासिड दवाइयां होंगी।

26 सीधे संपर्क वाले

शनिवार को रायपुर जिले में कोरोना ब्लास्ट हुआ और सामने आए 73 मामलों में 26 लोग प्रायमरी कांटेक्ट वाले हैं, जो कोरोना संक्रमित के संपर्क में आकर इसके इसके शिकार हुए। वहीं 16 लोग ऐसे हैं, जो दूसरे राज्यों से यात्रा करने के बाद रायपुर पहुंचे और उनकी तबीयत बिगड़ने पर जांच के दौरान कोरोना पाजिटिव पाए गए। अब रायपुर जिले में कोरोना के सक्रिय मामले 216 हो चुके हैं। वहीं रायपुर जिले में दिवाली के बाद एक मौत का मामला सामने आया है। मरीज आंबेडकर अस्पताल में भर्ती था और मौत के बाद उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी।

नए साल का पहला दिन परिवार के साथ सेलिब्रेट करने शहर में अभूतपूर्व उत्साह नजर आया। इसकी झलक पर्यटन स्थलों में भी देखने मिली। जंगल सफारी में ऐसी भीड़ उमड़ी कि दो हजार से अधिक लोगों को बैरंग लौटना पड़ा। उर्जा पार्क में हजाराें की संख्या में पर्यटक पहुंचे। यहां घूमना तो दूर पैर रखने की जगह भी नहीं बची। उत्साह और उमंग का ऐसा ही नजारा शहर के कोलाहल से दूर प्रकृति की गोद में बसे मोहरेंगा के नेचर सफारी में भी देखने मिला। इसी तरह पुरखौती मुक्तांगन से लेकर राम मंदिर और होटल, मॉल रेस्टोरेंट भी देर शाम तक गुलजार रहे। नववर्ष को यादगार बनाने लोग अलग-अलग जगहों में सेलिब्रेट करते नजर आए। प्राकृतिक नजारों से भरपूर स्थानों में भ्रमण के साथ ही होटल, रेस्टोरेंट में लजीज खाने का लुत्फ उठाने और मल्टीप्लेक्स में मूवी देखने को लेकर भी खासा उत्साह नजर आया। शहर के करीब पांच बड़े मानव निर्मित प्रकृति स्थल होने की वजह से बड़ी संख्या में लोग पिकनिक मनाने पहुंचे।

अफसर खुद गेट पर रहे तैनात

जंगल सफारी में भीड़ को नियंत्रित करने समस्त स्टॉफ के साथ अफसरों को भी कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। भीड़ को नियंत्रित रखने तथा व्यवस्था सुचारू रूप से चलती रहे, इसके लिए जंगल सफारी डायरेक्टर एम. मर्सिबेला से लेकर एसडीओ अभय कुमार पाण्डेय को सुबह 10 बजे से शाम 5 बचे तक मौके पर उपस्थित रहना पड़ा। कई बार अफसर गेट के बाहर निकलकर व्यवस्था संभालते दिखे।

नेचर सफारी, पक्षी विहार भी गुलजार

जंगल सफारी के अलावा नंदनवन पक्षी विहार तथा मोहरेंगा नेचर पार्क भी पर्यटकों से गुलजार रहा। नंदनवन पक्षी विहार में 46 सौ से ज्यादा पर्यटक सैर करने के लिए पहुंचे। इसी तरह से नेचर पार्क में पांच सौ से ज्यादा पर्यटक पहुंचे। नेचर पार्क प्रभारी दीपक तिवारी के मुताबिक नेचर पार्क में 22 हजार तो वहीं नंदनवन पक्षी विहार में शनिवार को 92 हजार रुपए की आमदनी हुई।

ऊर्जा पार्क में पैर रखने की जगह नहीं

वीआईपी रोड स्थित उर्जा पार्क तथा पुरखौती मुक्तांगन में भी हजारों की संख्या में लोग पहुंचे। ऊर्जा पार्क जाने वाले मार्ग में दिनभर लोगों की भीड़ रही। जबकि पुरखौती मुक्तांगन में लोगों को एक किमी. दूर वाहन पार्क कर पैदल ही पुरखौती मुक्तांगन पहुंचना पड़ा। यहां भी टिकट लेने और भीतर प्रवेश करने सैलानियों को खासी मशक्कत करनी पड़ी।

मंदिर में देव दर्शन के लिए पहुंची भीड़

नववर्ष के पहले दिन शहर के सभी मंदिरों में लोग दर्शन और पूजा अर्चना करने पहुंचे। शनिवार को चूड़ी लाइन स्थित शनि मंदिर में बड़ी संख्या में लोग शनि भगवान को तेल चढ़ाने तथा पूजा करने पहुंचे। इसी तरह से वीआईपी रोड स्थिति श्रीराम मंदिर में श्रद्धालुओं की अच्छी भीड़ रही। आकाशवाणी स्थित काली मंदिर, महामाया मंदिर, बूढ़ेश्वर मंदिर में दोपहर तक श्रद्धालु पूजा करने पहुंचते रहे।

सफारी रविवार तक ऑनलाइन पैक

नववर्ष इस बार वीकेंड में पड़ने की वजह से जंगल सफारी की ऑनलाइन बुकिंग रविवार तक पूरी तरह पैक हो गई। सफारी में शनिवार को तीन हजार से ज्यादा पर्यटक सैर करने पहुंचे। इससे सफारी की काेरोनाकाल के दौरान अब तक की रिकार्ड आमदनी पौने दो लाख रुपए रही। पर्यटकों को सफारी की सैर कराने 12 वाहनों की व्यवस्था की गई थी। पर्यटकों के दबाव की वजह से सभी वाहन शाम होते तक पूरी तरह से हांफ गए। अफसरों के मुताबिक सफारी में भीड़ का दबाव इतना ज्यादा था कि 22 सौ लोगों को सफारी से बैरंग लौटना पड़ा। टिकट काउंटर में टिकट लेने की होड़ में लोग एक-दूसरे से उलझते भी नजर आए। सफारी में आने वाली भीड़ को देखते हुए आधा दर्जन से ज्यादा पुलिस बल की तैनाती करनी पड़ी।

Next Story