Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

स्पेशल रिपोर्ट: भारतीय क्रिकेट का एक नया उभरता हुआ सितारा छत्तीसगढ़ का 14 वर्षीय यश कुमार वर्धा

यश कुमार वर्धा एक ऐसा नाम जिससे पूरा छत्तीसगढ़ परिचित है। नारायणपुर जैसे छोटी नक्सल प्रभावित जिले का यश। जहां पर खेल को लेकर बहुत अधिक व्यवस्थाएं नहीं है वहां का एक बालक दो मैचों में दो लगातार नाबाद ट्रिपल सेंचुरी बनाकर भारतीय क्रिकेट की इतिहास में अपना नाम सुनहरे अक्षरों में लिखवा चुका है| और अपने तीसरे मैच में 175 रन नाबाद बनाकर खेल रहा है| पढ़िए पूरी ख़बर...

स्पेशल रिपोर्ट: भारतीय क्रिकेट का एक नया उभरता हुआ सितारा छत्तीसगढ़ का 14 वर्षीय यश कुमार वर्धा
X

नारायणपुर: इन दिनों छत्तीसगढ़ क्रिकेट में यश कुमार वर्धा के कारनामों ने ना केवल छत्तीसगढ़ बल्कि पूरे भारतीय क्रिकेट के लिए ऐतिहासिक रिकॉर्ड बनाया है| जो पूरे भारतीय क्रिकेट में एक नई पहचान पा रहा है। |इन दिनों छत्तीसगढ़ स्टेट क्रिकेट संघ के द्वारा आयोजित इंटर डिस्ट्रिक्ट प्लेट ग्रुप अंडर 16 प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है| इसी प्रतियोगिता में नारायणपुर जैसे छोटी नक्सल प्रभावित जिले का यश। जहां पर खेल को लेकर बहुत अधिक व्यवस्थाएं नहीं है वहां का एक बालक दो मैचों में दो लगातार नाबाद ट्रिपल सेंचुरी बनाकर भारतीय क्रिकेट की इतिहास में अपना नाम सुनहरे अक्षरों में लिखवा चुका है और अपने तीसरे मैच में 175 रन नाबाद बनाकर खेल रहा है| लगातार तीन मैचों में तीन सेंचुरी बनाना एक 14 साल के बच्चे के लिए किसी कारनामें से कम नहीं है|

यश कुमार वर्धा ने 9 साल की उम्र से क्रिकेट खेलना शुरू किया था। 3 साल पहले जब 11 साल का था तभी छत्तीसगढ़ क्रिकेट संघ द्वारा आयोजित अंडर 14 के सिलेक्टरों द्वारा उसकी प्रतिभा को आकते हुए उसे अंडर 14 की प्लेट कंबाइन ग्रुप में खेलने का अवसर प्राप्त हुआ था| जिससे अनुभव लेकर लगातार नारायणपुर में ही रहकर कड़ी मेहनत कर अपने खेल को तथा खेल की बारीकियों को समझते हुए आज एक समझदार व सूझबूझ भरा प्लेयर बन चुका है| जिसे आउट करना या उसे रोकना विरोधी टीमों को अत्यधिक मुश्किल हो रहा है| यश छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित जिले नारायणपुर में रहकर पढ़ाई करता है| उसके पिता श्री राम सिंह वर्धा ग्राम पंचायत सचिव है, माताजी गृहणी है, खेल को लेकर माता और पिता दोनों का ही अथक प्रयास रहा कि यश को बेहतर से बेहतर खेल सुविधाएं मिले, तथा वह क्रिकेट में बहुत आगे बढ़े|

माता पिता के सहयोग के साथ-साथ छत्तीसगढ़ स्टेट क्रिकेट संघ का भी बहुत अहम योगदान रहा है| छत्तीसगढ़ स्टेट क्रिकेट संघ के द्वारा अनेक प्रतियोगिताओं में यश ने अपनी प्रतिभा को निखारने का और आगे बढ़ने का अवसर मिला है। जिससे धीरे धीरे यश में न केवल छत्तीसगढ़ बल्कि पूरे देश के लिए एक सुनहरा भविष्य दिख रहा है| यश ओपनर बैट्समैन तथा राइट आर्म लेग स्पिनर बॉलर है यश का कहना है इसका श्रेय उसके परिवार।कोच तथा छत्तीसगढ़ स्टेट क्रिकेट संघ को जाता है जिसने उसे अपनी प्रतिभा को दिखाने का एक मंच दिया |

Next Story