Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सिपाही के हाथ ई-चालान डिवाइस, चंद सेकंड में जुर्माना, कोर्ट का फैसला भी

राजधानी की ट्रैफिक व्यवस्था को स्मार्ट बनाने के लिए यातायात पुलिस अब एक नया प्रयोग करने जा रही है। ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों के खिलाफ अब ई-चालान डिवाइस के माध्यम से समन शुल्क वसूलने के साथ बदसलूकी करने वाले वाहन चालकों के लाइसेंस निलंबन से लेकर वर्चुअल कोर्ट में मौके पर ही चालान पेश किया जाएगा। यातायात पुलिस को 30 नए ई-चालान डिवाइस दिए जा रहे हैं।

सिपाही के हाथ ई-चालान डिवाइस, चंद सेकंड में जुर्माना, कोर्ट का फैसला भी
X

रायपुर. राजधानी की ट्रैफिक व्यवस्था को स्मार्ट बनाने के लिए यातायात पुलिस अब एक नया प्रयोग करने जा रही है। ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों के खिलाफ अब ई-चालान डिवाइस के माध्यम से समन शुल्क वसूलने के साथ बदसलूकी करने वाले वाहन चालकों के लाइसेंस निलंबन से लेकर वर्चुअल कोर्ट में मौके पर ही चालान पेश किया जाएगा। यातायात पुलिस को 30 नए ई-चालान डिवाइस दिए जा रहे हैं।

एसएसपी के निर्देश पर यातायात पुलिस ने 30 ई-चालन डिवाइस मशीन खरीदा है। शहर के ट्रैफिक के सुचारू संचालन के लिए प्रमुख चौराहों पर हाईटेक कैमरे लगाए गए हैं। हाईटेक कैमरों की मदद से ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों को वर्तमान में ई-चालान भेजा जा रहा है। बावजूद इसके कई वाहन चालक चालान की राशि जमा करने में कोताही बरतते हैं। इसके साथ कई वाहन चालकों का एड्रेस गलत मिलता है। ऐसी स्थिति में दोषी वाहन चालक के खिलाफ कार्रवाई में देर होती है। इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए ट्रैफिक उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों के खिलाफ ई-चालान डिवाइस के माध्यम से कार्रवाई करने का निर्णय लिया गया है।

हाईटेक प्लास्टिक कैश से जुर्माना

यातायात पुलिस पर ट्रैफिक नियमों के पालन कराने के नाम पर मनमानी करने के आरोप लगते रहते हैं। इसे ध्यान में रखते हुए ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों से जुर्माना राशि कैश में लेने की जगह यातायात पुलिस के जवान क्रेडिट और डेबिट कार्ड के माध्यम से जुर्माना राशि की वसूली करेंगे।

मौके पर कोर्ट उपस्थित

यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों तथा ट्रैफिक पुलिस के बीच समन शुल्क को लेकर कई बार विवाद की स्थिति निर्मित हो जाती है। ऐसी स्थिति में वाहन चालक कोर्ट में चालान पटाने की बात कहकर चालान की कॉपी की मांग करते हैं। जुर्माने की राशि को लेकर विवाद की स्थिति निर्मित होने पर यातायात पुलिस वर्चुअल कोर्ट के माध्यम से वाहन के साथ वाहन चालक और उनकी पूरी जानकारी वर्चुअल कोर्ट में मौके से ही पेश करेगी। इसके बाद मौके पर ही कोर्ट वाहन चालाक को उसके अपराध के हिसाब से जुर्माना राशि का निर्धारण कर यातायात पुलिस को ई-डिवाइस के माध्यम से वाहन चालक से समन शुल्क लेने का फैसला सुनाएगा।

दोबारा पकड़े गए तो दोगुना शुल्क

ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों की पूरी डिटेल डिवाइस में रिकार्ड रहेगी। ऐसे वाहन चालक दोबारा ट्रैफिक नियम का उल्लंघन करते हुए पकड़े गए, तो कार्रवाई करने वाले ट्रैफिक पुलिसकर्मी को उस वाहन चालक की पूर्व की जानकारी तुरंत उपलब्ध हो जाएगी। साथ ही ट्रैफिक नियम का दोबारा उल्लंघन करने पर वाहन चालक को दोगुना जुर्माना पटाना होगा।

आरटीओ, एनआईसी से लिंक

ट्रैफिक पुलिस को कार्रवाई करने जो ई-चालान डिवाइस दिया जा रहा है, वह यातायात पुलिस के साथ आरटीओ और एनआईसी से लिंक रहेगा। आरटीओ से लिंक करने की वजह परिवहन विभाग की जानकारी में रहेगा कि कौन वाहन चालक कितनी बार ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करता है। इस आधार पर नियमित ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों को परिवहन विभाग के अधिकारी स्वत: संज्ञान लेते हुए लाइसेंस निलंबन की कार्रवाई कर सकते हैं। साथ ही ऐसे वाहन जिनका रोड टैक्स के साथ अन्य किसी प्रकार के टैक्स बकाया हो, परिवहन विभाग डिवाइस में अपलोड कर इसकी जानकारी यातायात पुलिस को दे सकता है।

डिवाइस में रिकार्ड रहेगा

ट्रैफिक व्यवस्था को दुरुस्त करने 30 ई-चालान डिवाइस खरीदे गए हैं। ई-चालान डिवाइस एनआईसी के साथ आरटीओ से लिंक रहेगा। ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ अब जो चालानी कार्रवाई होगी, वह डिवाइस में रिकार्ड रहेगा। साथ ही डिवाइस के माध्यम से जरूरत पड़ने पर ट्रैफक नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालक का चालान वर्चुअल कोर्ट में पेश करने की व्यवस्था है।

- सतीश ठाकुर, ट्रैफिक डीएसपी

Next Story