Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

यहां धड़ल्ले से चल रही तस्करी : वाहनों में ठूंस-ठूंस कर ढोया जा रहा गोवंश

इन दिनों क्षेत्र में पशु तस्कर काफी सक्रिय हो गए है, जो सारे कायदे कानून को ताक पर रखकर निरीह पशुओं की अवैध तस्करी में शामिल हैं। पशु तस्करों का ये आलम है कि इनके अंदर न शासन का भय है न प्रशासन का ये अपने मंसूबों को बेखौफ होकर अंजाम दे रहे है। विकासखंड मैनपाट का तराई गाँव पेंट और विकासखंड बतौली का तेलाइधार पशु तस्करों का केंद्र बना हुआ है। पढ़िये -

यहां धड़ल्ले से चल रही तस्करी : वाहनों में ठूंस-ठूंस कर ढोया जा रहा गोवंश
X

सीतापुर। इन दिनों क्षेत्र में पशु तस्कर काफी सक्रिय हैं। जो बेखौफ होकर पशु तस्करी को अंजाम दे रहे हैं। खुलेआम हो रहे पशुओं की तस्करी से जनता में आक्रोश पनपने लगा है। ग्रामीणों ने कहा कि पुलिस पशु तस्करी पर रोकथाम करे नहीं तो लोगों का आक्रोश कभी भी फूट सकता है।

गौरतलब है कि इन दिनों क्षेत्र में पशु तस्कर काफी सक्रिय हो गए है, जो सारे कायदे कानून को ताक पर रखकर निरीह पशुओं की अवैध तस्करी में शामिल हैं। पशु तस्करों का ये आलम है कि इनके अंदर न शासन का भय है न प्रशासन का ये अपने मंसूबों को बेखौफ होकर अंजाम दे रहे है। विकासखंड मैनपाट का तराई गाँव पेंट और विकासखंड बतौली का तेलाइधार पशु तस्करों का केंद्र बना हुआ है। जहाँ से ये स्थानीय लोगों के सहयोग से पशु तस्करी को बेखौफ होकर अंजाम दे रहे हैं।

सरकार ने क्रूरतापूर्वक पशु तस्करी को लेकर कई सख्त कानून बना रखे है, लेकिन तस्करों के अंदर इसका जरा भी खौफ नही है और ये बड़ी बड़ी वाहनों में पशुओं को क्रूरतापूर्वक ठूंसकर सीतापुर से होते हुए पड़ोसी राज्यों तक ले जा रहे है।विगत लंबे से क्षेत्र में पशुओं की अवैध तस्करी में लिप्त इन तस्करों के विरुद्ध कोई कार्रवाई नही होने से इनके हौसले इतने बुलंद है कि जो भी इनका विरोध करता है ये उसके साथ मरने मारने पर उतारू हो जाते है। तस्करों के इस रवैये से क्षेत्र में जनाक्रोश निर्मित होने लगा है जो कभी भी विस्फोटक रूप ले सकता है। ग्रामीणों ने क्षेत्र में होने वाले अवैध पशु तस्करी पर रोकथाम हेतु पुलिस से तस्करों के विरुद्ध कार्रवाई की माँग की है ताकि किसी प्रकार की अप्रिय घटना से बचा जा सके।

और पढ़ें
Next Story