Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

BJP की बैठक में नारेबाजी, भाषण तक पूरा नहीं कर पाए MLA, सामने आई गुटबाजी

निकाय चुनाव को लेकर हुई बैठक में एक बार फिर भाजपा की गुटीय खींचतान सबके सामने आ गई। कार्यसमिति के सदस्य राकेश पाण्डेय के समर्थकों ने विधायक विद्यारतन भसीन के भाषण के दौरान ही सरोज पाण्डेय जिंदाबाद के नारे लगाने शुरू कर दिए, नारेबाजी के बाद उन्होंने अपना भाषण बीच में ही रोक दिया। पढ़िए पूरी खबर...

BJP की बैठक में नारेबाजी, भाषण तक पूरा नहीं कर पाए MLA, सामने आई गुटबाजी
X

दुर्ग: निकाय चुनाव को लेकर भाजपा के चुनाव प्रभारी सांसद संतोष पाण्डेय और प्रदेश महामंत्री भूपेंद्र सवन्नी ने वैशाली नगर और सुपेला भाजपा मंडल की बैठक ली। वैशाली नगर मंडल की बैठक शनिवार दोपहर 12 बजे रुंगटा कॉलेज के पास और सुपेला मंडल की बैठक दोपहर 3 बजे प्रियदर्शनी परिसर में हुई। वैशाली नगर की बैठक के दौरान सभी दावेदार अपने समर्थकों के साथ पहुंचे थे। बैठक में भिलाई निगम चुनाव प्रभारी संतोष पांडेय, दुर्ग सांसद विजय बघेल, वैशाली नगर विधायक विद्यारतन भसीन पहुंचे हुए थे। इस दौरान बैठक को संबोधित करने का अवसर विधायक भसीन को दिया गया। भसीन ने अपना भाषण शुरू ही किया था कि इसी दौरान बैठक में भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य और राज्यसभा सांसद के भाई राकेश पांडेय पहुंचे। उन्हें देखते ही उनके समर्थक खड़े हो गए और सांसद सरोज पाण्डेय जिंदाबाद राकेश पाण्डेय जिंदाबाद के नारे लगाने लगे।

नारेबाजी और हल्ला देखते हुए विधायक भसीन चुप हो गए। वो देखते रहे कि आखिर क्या हो रहा है। सामने से राकेश पांडेय आए और उनका जोरदार स्वागत किया गया। ये सब देखकर भसीन भाषण बीच में ही बंद कर अपनी कुर्सी में बैठ गए। यह सब चुनाव प्रभारी संतोष पांडेय और सांसद विजय बघेल के सामने हो रहा था।

मामला तूल न पकड़े इसके लिए दुर्ग सांसद विजय बघेल ने माइक लेकर सभी को पार्टी में अनुशासन और मर्यादा का पाठ पढ़ाया। इसेक बाद सांसद के इशारे को समझते हुए राकेश पाण्डेय ने गलती को स्वीकार किया। उन्होंने क्षमा मांगते हुए कहा कि पार्टी में अनुशासन जरूरी है। कार्यक्रम के दौरान इस तरह नारेबाजी करना पार्टी के सिद्धांतों के खिलाफ है।

वैशाली नगर मंडल अध्यक्ष गुरजीत सिंह सोखी ने बताया कि चुनाव का समय है। सभी दावेदार अपने समर्थकों के साथ बैठक में पहुंचे हुए थे। उन्हें पार्टी के अनुशासन और सिद्धांतों का इतना ज्ञान नहीं होता है। राकेश पाण्डेय बैठक में पहुंचे थे। वह जैसे ही गाड़ी से उतरे समर्थक नारेबाजी करने लगे। यह सब भवन के बाहर हुआ है। विधायक विद्यारतन भसीन ने उसके बाद अपना भाषण खत्म किया है। पार्टी में किसी भी तरह के वर्चश्व व खींचतान की बात गलत है। लेकिन इस घटना के एक बार फिर दुर्ग में भाजपा की गुटीय खींचतान सबके सामने आ गई। इसके बाद से भाजपा की बैठक का यह वाकया शहर में चर्चा का विषय बना हुआ है।

Next Story