Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सियाराम बोले- मैं ही पिछड़ा वर्ग आयोग का अध्यक्ष, पद संवैधानिक, हटा नहीं सकते, जाऊंगा हाईकोर्ट

सरकारी नौकर नहीं जो हटाकर किसी और की नियुक्ति कर दी कांग्रेस सरकार ने

सियाराम बोले- मैं ही पिछड़ा वर्ग आयोग का अध्यक्ष, पद संवैधानिक, हटा नहीं सकते, जाऊंगा हाईकोर्ट
X

रायपुर. प्रदेश सरकार द्वारा निगम, मंडलों की नियुक्ति में छत्तीसगढ़ पिछड़ा वर्ग आयोग की नियुक्ति काे लेकर बड़ा पेंच फंस गया है। भाजपा शासनकाल में अध्यक्ष बनाए गए सियाराम साहू का कहना है, यह संवैधानिक पद है, कोई भी मुझे इस तरह से हटा नहीं सकता। मेरा एक साल का कार्यकाल बचा है।

मैं कोई सरकारी नौकर नहीं हूं, जो तबादले की तरह कांग्रेस सरकार ने मेरे स्थान पर किसी और को नियुक्त कर दिया है। इस मामले को लेकर मैं हाईकोर्ट जाऊंगा। एक दिन पहले ही कांग्रेस सरकार द्वारा जारी निगम, मंडलों की सूची के बाद अब पिछड़ा वर्ग आयोग को लेकर बवाल हो गया है। जैसे ही इस आयोग में नए अध्यक्ष की नियुक्ति की खबर पुराने अध्यक्ष को मिली तो वे इस मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से चर्चा करने के लिए रायपुर पहुंचे। कवर्धा और वीरेंद्रनगर से विधायक रह चुके पूर्व संसदीय सचिव सियाराम साहू को भाजपा शासनकाल में 2018 में एक बार फिर से छत्तीसगढ़ पिछड़ा वर्ग आयोग का अध्यक्ष बनाया गया था। इसके पहले भी वे तीन साल तक इसके अध्यक्ष थे।

हटाने का अधिकार नहीं

सियाराम साहू ने हरिभूमि से चर्चा करते हुए बताया, उनको पद से हटाने का अधिकार प्रदेश सरकार को नहीं है। अधिनियम में इस बात का साफ उल्लेख है कि या तो आयोग का अध्यक्ष अपना तीन साल का कार्यकाल पूरा करेगा या वह खुद से इस्तीफा देगा। इसके अलावा जिन स्थितियों में अध्यक्ष को हटाया जा सकता है, उसमें अध्यक्ष पद पर नियुक्त व्यक्ति का दिवालिया होना, कोई आपराधिक मामला सिद्ध होना जैसी बातें शामिल हैं। श्री साहू का कहना है, नियमों के मुताबिक मुझ पर कुछ भी लागू नहीं होता है। ऐसे में मुझे हटाया ही नहीं जा सकता है।

भाजपा सरकार के साथ ही सियाराम का कार्यकाल पूरा

कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी का कहना है कि भाजपा काे यह नहीं भूलना चाहिए कि प्रदेश में उनकी सरकार चली गई है। सियाराम साहू की नियुक्ति भाजपा शासन में हुई थी। उनका कार्यकाल पूरा हो चुका है। उन्होंने कहा कि भाजपा की नजर में मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में अलग कानून है क्या। कमलनाथ सरकार में महिला आयोग की अध्यक्ष बनाई गई शोभा झा को जब शिवराज सिंह चौहान की सरकार में हटा दिया गया तो वह भाजपा की नजर में सही है, और यहां पर भाजपा से जुड़े अध्यक्ष के स्थान पर कांग्रेस सरकार ने अपना अध्यक्ष बना दिया है तो यह गलत है।

रमन-कौशिक से चर्चा

श्री साहू ने रायपुर आने के बाद यहां पर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के साथ नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक से चर्चा की। उनका कहना है, वरिष्ठ नेताओं से चर्चा करने के बाद मैंने फैसला किया है कि मैं अब हाईकोर्ट जाऊंगा। उन्होंने बताया, इसके पहले कांग्रेस सरकार ने अनुसूचित जाति आयोग के रामजी भारती तो हटाने का प्रयास किया था, पर वे इस मामले में हाईकोर्ट चले गए और वहां से उनको जीत मिली है। उस आयोग में सरकार नई नियुक्ति नहीं कर सकी है।

Next Story