Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हर्ड इम्युनिटी का पता लगाने ग्रामीण इलाकों में होगा सीरो सर्वे, 10 जिलों से लेंगे 5000 सैंपल

प्रदेश में लगातार फैल रहे कोरोना के बीच हर्ड इम्युनिटी का पता लगाने ग्रामीण इलाकों में सीरो सर्वे होगा। इसके लिए दस जिलों का चयन किया गया है जिसके दो ब्लाक के छह गांव में जाकर 40 घरों से सैंपल लिए जाएंगे। इसके साथ ही हाईरिस्क श्रेणी में शामिल लोगों के भी खून के सैंपल लिए जाएंगे। प्रत्येक जिले से पांच सौ यानी दस जिलों से 5000 सैंपल लेकर जांच कर कोरोना की वास्तविकता के बारे में बताया लगाया जाएगा।

हर्ड इम्युनिटी का पता लगाने ग्रामीण इलाकों में होगा सीरो सर्वे, 10 जिलों से लेंगे 5000 सैंपल
X

रायपुर. प्रदेश में लगातार फैल रहे कोरोना के बीच हर्ड इम्युनिटी का पता लगाने ग्रामीण इलाकों में सीरो सर्वे होगा। इसके लिए दस जिलों का चयन किया गया है जिसके दो ब्लाक के छह गांव में जाकर 40 घरों से सैंपल लिए जाएंगे। इसके साथ ही हाईरिस्क श्रेणी में शामिल लोगों के भी खून के सैंपल लिए जाएंगे। प्रत्येक जिले से पांच सौ यानी दस जिलों से 5000 सैंपल लेकर जांच कर कोरोना की वास्तविकता के बारे में बताया लगाया जाएगा।

आईसीएमआर तथा आरएमआरसी द्वारा स्वास्थ्य विभाग की मदद से प्रदेश के दस जिलों में सीरो सर्वे के माध्यम से लोगों के खून के सैंपल लेकर एंटीबॉडी इम्यूनोग्लोबुलि जी और एम की जांच की जाएगी। 16,17,18 सितंबर को रायपुर, दुर्ग तथा राजनांदगांव जिले 19,20,21 मुंगेली, बिलासपुर, बलौदाबाजार, जांजगीर तथा 23,24,25 सितंबर को जशपुर, कोरबा, बलरामपुर में सीरो सर्वे कराया जाएगा। इस तरह का सर्वे महानगरों में कराया जा चुका है जिसके बाद वहीं इस बात का पता चला है कि वहां कितनी आबादी कोरोना संक्रमित हो चुकी है और बिना इलाज के स्वस्थ होने की वजह से उनमें एंटीबॉडी विकसित हो चुका है। जानकारी के मुताबिक इसके लिए प्रत्येक जिले में दो ब्लाक का चयन किया गया है रायपुर जिले रायपुर और तिल्दा ब्लाक का चयन किया गया है। रायपुर में सेरीखेड़ी तथा तिल्दा का चयन हुआ है। प्रत्येक ब्लाक में तीन गांव यानी कुल छह गांव के चालीस-चालीस घरों में जाकर लोगों के शरीर से पांच एमएल खून का सैंपल लिया जाएगा।

इसके साथ उन इलाकों में रहने वाले हाईरिस्क श्रेणी के लोग जैसे पुलिस कर्मी, स्वास्थ्य कर्मी टीबी, एचआईवी मरीज, कंटेनेमेट जोेन में रहने वाले, पत्रकार सहित कई लोगो के 260 सैंपल यानी एक जिले से कुल 500 सैंपल लिया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक सीरो सर्वे प्रत्येक दस लाख की आबादी में संक्रमित मरीजों के आधार पर किया जाएगा।

सात विशेषज्ञों की टीम

इस सीरो सर्वे को आईसीएमआर और आरएमआरसी के सात विशेषज्ञ स्वास्थ विभाग की टीम की मदद से पूरा करेंगे। इनमें दो वरिष्ठ विशेषज्ञ होंगे जिनके गाइड लाइनस के आधार पर राज्य का स्वास्थ्य अमला अपना काम पूरा करेगा। सैंपल लेने के बाद उसे राजधानी के एक लैब में सुरक्षित रखा जाएगा। दस जिलों में प्रक्रिया पूरा होने के बाद विशेषज्ञ उसे लेकर ओडिशा जाएंगे जहां से उन्हें जांच के लिए अन्य लैब भेजा जाएगा।

राष्ट्रीय स्तर के सर्वे में तीन जिले

चार माह पहले इसी तरह का सर्वे राष्ट्रीय स्तर पर किया गया था। जिसमें सरगुजा, कर्वधा और बीजापुर जिले को शामिल किया गया था। सर्वे की रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग के आला अफसरों को दिया गया मगर उसे सार्वजनिक नहीं किया गया था। सूत्रों के मुताबिक शहरी इलाकों में विभिन्न तरीकों से कोविड के जांच व्यवस्था है लेकिन ग्रामीण इलाके में जांच केंद्र नहीं होने की वजह से वहां के रहने वालों को इस बात का पता नहीं चल पाता कि उन्हें कोरोना का संक्रमण हुआ है कि नहीं।

जांच के बाद रिपोर्ट

इसके लिए विशेषज्ञों की टीम भुवनेश्वर ओडिशा से आएगी जिनके निर्देशन पर सीरो सर्वे किया जाएगा। सर्वे के दौरान लिए गए रक्त के सैंपलों की जांच के बाद कोरोना की स्थिति का पता चलेगा।

-डा. विजय शुक्ला, छत्तीसगढ़ इंचार्ज, सीरो सर्वे

Next Story
Top