Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

देखिए 80 लाख का स्विमिंग पूल, बीत गया दशक, भवन हो गया खंडहर

पूर्व खेल मंत्री के जिले में खेल से खिलवाड़ की एक बड़ी बानगी देखने को मिली है, जहां एक दशक से अधिक का समय बीत जाने के बाद व 80 लाख रुपये खर्च होने के बाद भी 12 साल में भी स्विमिंग पूल का निर्माण नहीं हो पाया है। 80 लाख रुपये की लागत से बनी बिल्डिंग अब खंडहर में तब्दील हो रही है।

देखिए 80 लाख का स्विमिंग पूल, बीत गया दशक, भवन हो गया खंडहर
X

रविकांत सिंह राजपूत. कोरिया. पूर्व खेल मंत्री के जिले में खेल से खिलवाड़ की एक बड़ी बानगी देखने को मिली है, जहां एक दशक से अधिक का समय बीत जाने के बाद व 80 लाख रुपये खर्च होने के बाद भी 12 साल में भी स्विमिंग पूल का निर्माण नहीं हो पाया है। 80 लाख रुपये की लागत से बनी बिल्डिंग अब खंडहर में तब्दील हो रही है।

इतना ही नही स्विमिंग पुल के उपयोग में आने वाले जरूरी सामान भी अब जंग की चपेट में आ गए है। मनेन्द्रगढ़ में लगभग ढेड़ करोड़ की लागत से बनने वाला स्विमिंग पूल 12 वर्ष में भी नहीं बन पाया है। नगर पालिका परिषद द्वारा सुरभि पार्क में बनने वाले इस स्विमिंग पूल में लगभग 80 लाख रुपए अब तक खर्च हो चुके हैं। जिससे जनता की गाढ़ी कमाई का पैसा पानी में बहता साफ देखा जा रहा है।

इसलिए रुका काम : नगरपालिका के पूर्व कार्यकाल में स्विमिंग पुल में लगने वाली सामग्री का बिना टेस्टिंग के ठेकेदार को भुगतान कर दिया गया। जिसकी शिकायत तत्कालीन नगरपालिका अध्यक्ष धर्मेंद्र पटवा ने की। जिस पर स्विमिंग पूल निर्माण कार्य मे रोक लगा दी गयी। जिस पर स्विमिंग पूल संबंधित समस्त दस्तावेज तत्कालीन एसडीएम मनेन्द्रगढ़ द्वारा जब्त कर जांच टीम बनाई गई थी। जिसके बाद से फ़ाइल आज तक एसडीएम कार्यालय में धूल खा रही है। अब देखना यह होगा की खबर दिखाने के बाद कब तक जिला प्रशासन स्विमिंग पूल मामले में क्या एक्शन लेती है और कब मनेन्द्रगढ़ की जनता को इसका लाभ मिलता है।

12 साल पहले शुरू हुआ था काम

12 साल पहले भाजपा सरकार में सुरभि पार्क के सौंदर्यीकरण के लिये स्विमिंग पूल की स्वीकृति दी गयी थी, जिसके बाद कार्य भी प्रारंभ हो गया था। लेकिन शिकायतों और जांच के नाम पर इस स्विमिंग पूल का निर्माण अब अधर में है। इस दौरान निकाय में 3 सरकारें बदल गयी पर स्विमिंग पूल आज तक नहीं बन पाया।

होनी चाहिए रिकवरी : तत्कालीन नगर पालिका अध्यक्ष व वर्तमान भाजपा मंडल अध्यक्ष धर्मेंद्र पटवा ने कहा कि स्विमिंग पूल का निर्माण पूरा न होने से वहां पर लाखों का सामान नष्ट हो रहा है। ऐसे में इस मामले को लेकर गैर जिम्मेदार अधिकारी पर रिकबरी होना चाहिये। उन्होंने नगरीय निकाय मंत्री शिव डहरिया से इस मामले पर संज्ञान लेने का निवेदन किया।

स्विमिंग पूल को पूरा कराया जाएगा

12 साल पहले स्विमिंग पूल निर्माण का कार्य शुरू हुआ था। जब मैं नगरपालिका अध्यक्ष बनी तो पता चला जांच के नाम पर फ़ाइल एसडीएम कार्यालय में है। वहा से अब तक कोई जांच प्रतिवेदन नहीं आया है। जैसे ही प्रतिवेदन आएगा अधूरे पड़े स्विमिंग पूल को पूरा कराया जाएगा।

प्रभा पटेल, नपाध्यक्ष

मूल नस्ती एसडीएम कार्यालय में है

स्विमिंग पूल निर्माण की मूल नस्ती एसडीएम कार्यालय में है। पत्राचार कर कई बार मूल नस्ती की मांग की गई है। मूल नस्ती मिलने के बाद ही स्विमिंग पूल निर्माण कार्य पूरा किया जा सकेगा।

हरदयाल रात्रे, मुख्य नगरपालिका अधिकारी

Next Story