Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दूसरे दौर का कोरोना, निपटने के लिए ऑक्सीजन युक्त 6 सौ बिस्तर, 90 के करीब डॉक्टर

राजधानी समेत जिले में दूसरे दौर के कोरोना से निपटने के लिए गंभीर मरीजों के लिए आक्सीजन युक्त छह सौ बिस्तर की व्यवस्था की गई है। साथ ही करीब 18 सौ की संख्या में सामान्य बेड का इंतजाम किया गया है।संक्रमितों की तीमारदारी और किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए करीब 90 डाक्टर और डेढ़ सौ से ज्यादा नर्सिंग तक पैरामेडिकल स्टाफ मौजूद हैं।

दूसरे दौर का कोरोना, निपटने के लिए ऑक्सीजन युक्त 6 सौ बिस्तर, 90 के करीब डॉक्टर
X

रायपुर. राजधानी समेत जिले में दूसरे दौर के कोरोना से निपटने के लिए गंभीर मरीजों के लिए आक्सीजन युक्त छह सौ बिस्तर की व्यवस्था की गई है। साथ ही करीब 18 सौ की संख्या में सामान्य बेड का इंतजाम किया गया है।संक्रमितों की तीमारदारी और किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए करीब 90 डाक्टर और डेढ़ सौ से ज्यादा नर्सिंग तक पैरामेडिकल स्टाफ मौजूद हैं।

प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर आने की आशंका है और दिवाली बाद बढ़ रहे केस इसकी ओर संकेत भी दे रहे हैं। पिछली बार संक्रमित मरीजों के इलाज को लेकर हो रही दिक्कत से सीख लेते हुए कोविड सेंटरों में सांस लेने में दिक्कत तथा गंभीर मरीजों के लिए आक्सीजन युक्त बेड की व्यवस्था की जा रही है। पिछले दिनों स्वास्थ्य विभाग के आला अफसरों ने इस इमरजेंसी की आशंका को ध्यान में रखते हुए सभी जिलों से संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए की गई व्यवस्था के बारे में जानकारी मांगी थी।

जिला मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. मीरा बघेल ने जानकारी भेजी है, जिसमें जिक्र किया गया है कि वर्तमान में जिले के विभिन्न सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों, बनाए गए कोविड रिलीफ सेंटर तथा अस्पतालों में करीब 24 सौ बिस्तरों की व्यवस्था है, जिसमें 595 बिस्तरों में आक्सीजन की व्यवस्था है। संक्रमण के बाद यहां इलाज के लिए आने वाले मरीजों को सांस लेने में किसी तरह की समस्या होती है, तो उन्हें अस्पताल शिफ्ट करने की आवश्यकता नहीं होगी। प्रारंभिक रूप से उन्हें आक्सीजन की सुविधा मिल सकेगी। इसी तरह इन कोविड सेंटर तथा अस्पतालों में 89 डाक्टर और 157 नर्सिंग और पैरामेडिकल स्टाफ के साथ यहां अन्य कर्मचारियों को इस आपातकाल से निपटने के लिए तैनात किया गया है।

यहां के सेंटर बंद

संक्रमितों की संख्या कम हो जाने पर इंडोर स्टेडियम, प्रयास सड्डू, आयुष विवि के एक ब्लाक, फुंडहर के गर्ल्स हास्टल और उपरवारा में बनाए गए कोविड सेंटर को बंद कर दिया गया था। वर्तमान में प्रयास सेंटर गुढ़ियारी, ईएसआईसी बीरगांव, आयुष विवि के दूसरे ब्लाक को चालू रखा गया है।

यहां व्यवस्था

आंबेडकर अस्पताल, एम्स, आयुर्वेद अस्पताल के कोविड सेंटर के साथ माना तथा लालपुर के अस्पताल में भी आक्सीजन युक्त बेड का इंतजाम किया गया है। इसके साथ मरीजों की संख्या और बढ़ने पर शहर के साथ ग्रामीण इलाकों में स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में भी इंतजाम किया गया है।

Next Story