Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सफारी, जू और नेचर पार्क अगले माह से खुलने के आसार

कोरोना संक्रमण के चलते तीन माह से बंद जंगल सफारी के साथ बिलासपुर स्थित कानन पेंडारी जू और नंदनवन पक्षी विहार के साथ मोहरेंगा स्थित नेचर पार्क को जुलाई के प्रथम या दूसरे सप्ताह से पर्यटकों के लिए खोलने की तैयारी चल रही है। इस संबंध में पीसीसीएफ वाइल्ड लाइफ पीवी नरसिंग राव ने सोमवार को अधिकारियों से चर्चा करने की बात कही।

सफारी, जू और नेचर पार्क अगले माह से खुलने के आसार
X

जंगल सफारी 

कोरोना संक्रमण के चलते तीन माह से बंद जंगल सफारी के साथ बिलासपुर स्थित कानन पेंडारी जू और नंदनवन पक्षी विहार के साथ मोहरेंगा स्थित नेचर पार्क को जुलाई के प्रथम या दूसरे सप्ताह से पर्यटकों के लिए खोलने की तैयारी चल रही है। इस संबंध में पीसीसीएफ वाइल्ड लाइफ पीवी नरसिंग राव ने सोमवार को अधिकारियों से चर्चा करने की बात कही।

गौरतलब है कि राजधानी के साथ राज्यवासी कोरोना संक्रमण की वजह से हुए लॉकडाउन से अपने घरों में रहने को मजबूर हो गए थे। साथ ही सार्वजनिक पार्क और जू के बंद होने से लोग पर्यटने के लिए कहीं जा नहीं पा रहे हैं। लंबे समय से जंगल सफारी और नंदनवन पक्षी विहार तथा मोहरेंगा नेचर पार्क के बंद होने की वजह से वहां लोगों की आवाजाही पर भी रोक थी। जून महीने में होटल और रेस्टोरेंट एवं मॉल खोलने की छूट मिलने से लोगों ने राहत की सांस ली है।

जंगल सफारी से बढ़ेगी हलचल

उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण के मद्देनजर स्कूल-काॅलेज अब तक नहीं खुल पाए हैं। इसे देखते हुए जंगल सफारी में स्कूल और काॅलेज में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं के साथ सामान्य लोगों की आवाजाही बढ़ने की उम्मीद वन अफसरों को है। जो जानकारी के मुताबिक जंगल सफारी सहित सैर करने की तमाम जगहों पर पर्यटन के लिए जाने वाले लोगों को कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से पालन करना होगा तभी उन्हें प्रवेश दिया जाएगा।

अभयारण्य, नेशनल पार्क बंद रहेंगे

पीसीसीएफ वाइल्ड लाइफ के मुताबिक एनटीसीए की गाइडलाइन के तहत जुलाई से सितंबर माह तक अभयारण्य तथा नेशनल पार्क आम पर्यटकों के लिए बंद रहते हैं। इस वजह से नेशनल पार्क तथा अभयारण्य सितंबर माह के बाद खुलेंगे। बारिश के दिनों में नेशनल बारिश का मौसम वन्यजीवों के प्रजननकाल का रहता है। इस वजह से नेशनल पार्क तथा अभयारण्य को आम लोगों के लिए बंद कर दिया जाता है।

रिकार्ड मेंटेन करेंगे

कोरोना को देखते हुए पूर्व की भांति सफारी की सैर करने आने वाले पर्यटकों का गेट पर नाम-पता दर्ज करने के साथ उनका मोबाइल नंबर रजिस्टर में दर्ज होगा। साथ ही सफारी के अंदर चलने वाली बस में पर्यटक को ड्राइवर के पास जाने की अनुमति नहीं रहेगी। पर्यटकों को लेकर चलने वाली बसों को हर फेरे के बाद सेनेटाइज किया जाएगा। उसके बाद ही बस का दूसरा फेरा होगा। साथ ही बसों में पर्यटकों की संख्या आधी रहेगी।

आज करेंगे चर्चा

स्थिति काफी हद तक सामान्य हो गई है। इसे देखते हुए जंगल सफारी और कानन पेंडारी एवं नंदनवन पक्षी विहार खोलने के लिए आज अधिकारियों से चर्चा की जाएगी। चर्चा के बाद जल्द ही जू और सफारी को खोलने पर विचार किया जाएगा।


Next Story