Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नियमितीकरण : 11 जुलाई से 7 चरणों का बड़ा आंदोलन, अपनी मांगों पर अडिग हुए अनियमित कर्मचारी

नियमितीकरण समेत अन्य मांगों को लेकर लंबे समय से सरकार से गुहार लगा रहे छत्तीसगढ़ के अनियमित कर्मचारी एक बार फिर बड़े आंदोलन का ऐलान कर रहे हैं। कर्मचारियों का कहना है कि 10 दिनों के भीतर नियमितीकरण का वादा करने वाली कांग्रेस सरकार के खिलाफ अब तब तक आंदोलन जारी रहेगा, जब तक सरकार इस संबंध में ठोस फैसला नहीं लेती है। अनियमित कर्मचारियों ने सोशल मीडिया पर अलग अभियान चला रखा है। पढ़िए पूरी खबर-

नियमितीकरण : 11 जुलाई से 7 चरणों का बड़ा आंदोलन, अपनी मांगों पर अडिग हुए अनियमित कर्मचारी
X

File Photo

रायपुर। छत्तीसगढ़ सरकार (Govt of Chhattisgarh) के विभिन्न विभागों और दफ्तरों में अनियमित कर्मचारी के रूप में काम रहे कर्मचारी एक बार फिर चरणबद्ध आंदोलन (Agitation) की तैयारी में है। अनियमित कर्मचारियों के संयुक्त मोर्चा ने 11 जुलाई से 7 चरणों के आंदोलन का ऐलान भी कर दिया है।

गौरतलब है कि जब कांग्रेस पार्टी विपक्ष (Opposition) में थी, तब कांग्रेस के नेता अनियमित कर्मचारियों के आंदोलन स्थल पर पहुंचते थे और उनकी मांगों को जायज बताते हुए समर्थन देते रहे। कांग्रेस नेताओं ने यहां तक घोषणा कर दी थी, कि यदि कांग्रेस की सरकार बनती है, तो 10 दिनों के भीतर में नियमितीकरण संबंधी प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

अनियमित कर्मचारियों को सरकार के इस वादे के पूरे ना होने को लेकर बड़ी नाराजगी है। कर्मचारियों ने इस संबंध में कई ज्ञापन, रैली, प्रदर्शन, धरना, बातचीत आदि करने के बाद अब एक बार फिर बड़े आंदोलन के मूड में है। अनियमित कर्मचारियों ने अपने इस अभियान को सोशल मीडिया (Social Media) में भी खूब प्रचारित किया है, ताकि सरकार की ध्यान आकर्षित किया जा सके। बावजूद, अभी तक कोई ठोस जवाब सरकार की तरफ से ना मिलने के कारण अब अनियमित कर्मचारी आक्रोश में है। आपको बता दें कि जब अनियमित कर्मचारियों ने पिछली बार नियमितीकरण के लिए आंदोलन किया था, तो उसमें कई अलग-अलग फॉर्मेट (Formate) में जॉब (Job) कर रहे कर्मचारियों ने समर्थन दिया था।

आंगनबाड़ीकर्मी, स्वास्थ्य संयोजक, पंचायत सचिव, रोजगार सहायक, मितानीन, विद्या मितान, प्रेरक आदि कई वर्ग के कर्मचारियों ने संविदा से मुक्ति की आस में आंदोलन का समर्थन दिया था। गुजरे 17 जून को आंगनबाड़ी संघों के प्रतिनिधियों के साथ विभागीय अफसरों की एक बैठक हुई। बैठक में आंगनबाड़ीकर्मियों की मांगें तो ली गईं, लेकिन उस बैठक का कोई ठोस परिणाम अभी तक सामने नहीं आया है।

ठीक उसी दिन अनियमित कर्मचारियों ने भी स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव (Health Minister TS Singhdev) के बंगले में ज्ञापन सौंपा था। अब अनियमित कर्मचारियों का कहना है कि 11 जुलाई को 7 चरणों का आंदोलन शुरू किया जाएगा, जो तब तक जारी रहेगा, जब तक सरकार अपने घोषणा पत्र (Manifesto) के मुताबिक कर्मचारियों के नियमितीकरण की घोषणा नहीं कर देगी।

Next Story