Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राजधानी में 20 हजार लोगाें की भीड़ जुटाने, इस संगठन की चल रही गुपचुप तैयारी

अगले माह पुलिस परिवार सम्मेलन, जुटेंगे 20 हजार, रायपुर में लगभग 20 हजार लोगाें की भीड़ जुटाने की तैयारी चल रही है। सम्मेलन के बहाने हजारों की संख्या में परिवार, विभाग के खिलाफ मोर्चा खोलेंगे। मालूम हुआ है कि प्रदेश की राजधानी में पुलिस परिवारों का संयुक्त सम्मेलन होगा। इसकी तारीख 10 जनवरी या इसके आसपास हो सकती है। पढ़िए पूरी ख़बर...

राजधानी में 20 हजार लोगाें की भीड़ जुटाने, इस संगठन की चल रही गुपचुप तैयारी
X

रायपुर: पुलिस विभाग में लंबित मांगों को पूरा करने हाल ही में चक्काजाम और सड़क पर विरोध प्रदर्शन करने वाले पुलिसकर्मियों के परिवार रायपुर में एक बड़ा सम्मेलन करने की तैयारी में हैं। एक करीबी सूत्र का कहना है कि रायपुर में लगभग 20 हजार लोगाें की भीड़ जुटाने की तैयारी चल रही है। सम्मेलन के बहाने हजारों की संख्या में परिवार, विभाग के खिलाफ मोर्चा खोलेंगे। अभनपुर में चक्काजाम कर चुके पुलिस परिवारों को आश्वासन दिया गया था कि शासन की तरफ से तय की गई कमेटी में परिवार के सदस्यों को भी निर्णायक समिति में शामिल किया जाएगा, लेकिन कई दिन गुजर जाने के बाद भी कोई संपर्क नहीं किया गया है। इससे भी पुलिस परिवारों में काफी रोष व्याप्त है। मालूम हुआ है कि प्रदेश की राजधानी में पुलिस परिवारों का संयुक्त सम्मेलन होगा। इसकी तारीख 10 जनवरी या इसके आसपास हो सकती है। एक बड़े सम्मेलन को लेकर प्रदेश के तमाम जिलों से भीड़ बुलाने अभी से परिवहन साधनों का जतन किया जा रहा है। पुलिस परिवार के लोगों का जिस तरह से प्रदर्शन रहा है, एक बार फिर से मामला गरमा सकता है। अभनपुर में चक्काजाम और नवा रायपुर में नारेबाजी के बाद परिवार के लोग महिला अफसर के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए उच्चाधिकारियों से भी शिकायत दर्ज करा चुके हैं। आधी रात सड़क से उठाकर चलती बस में थप्पड़ मारे जाने का आरोप है।

23 सूत्रीय मांगों के लिए लंबी लड़ाई

पुलिस परिवारों के संयुक्त नेतृत्व में 23 सूत्रीय मांगों को पूरा कराने के लिए आंदोलन किया जा रहा है। वेतनवृद्धि में 2800 ग्रेड-पे पर भुगतान करने, साप्ताहिक अवकाश, आठ-आठ घंटे तीन पालियों में ड्यूटी, यात्रा भत्ता, वाहन भत्ता और महंगाई भत्ता बढ़ाने के साथ तमाम मांगें शामिल करते हुए पुलिस परिवाराें की तरफ से पिछले साल से आंदोलन तेज किया गया है। अपनी प्रमुख मांगों में पिछले महीने ही विशेष कमेटी बनाकर समस्याओं का निराकरण करने एक हफ्ते में निर्णय करने की मांग पर अब विभाग को घेरने की तैयारी है।

बस्तर संभाग से सबसे ज्यादा भीड़

एक करीबी सूत्र का कहना है कि अगर रायपुर में सम्मेलन फिक्स हुआ तो इसमें बस्तर संभाग से ज्यादातर लोग शामिल हो सकते हैं। पिछले प्रदर्शन में भी ज्यादातर महिलाएं बच्चे लेकर पहुंची थीं। आंदोलन तेज होने के बाद बीजापुर से भी सहायक आरक्षकों ने हथियार छोड़कर रायपुर आने फैसला किया था। इस बार पुलिस परिवार सम्मेलन में आदिवासी अंचलों से भीड़ जुटाने की कोशिश है। पुलिस सम्मेलन के बाद आगे बड़े आंदोलन का भी ऐलान हो सकता है। प्रदर्शन में शामिल रहे उज्जवल दीवान ने बड़े सम्मेलन के संकेत दिए हैं। हालांकि तारीख और संभावित स्थल की पुष्टि नहीं की गई है।

Next Story