Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

क्रिसमस-नए साल के जश्न पर रेलवे की चोट, छत्तीसगढ़ से चलने-गुजरने वाली ट्रेनें प्रभावित

बड़े शहरों की 36 ट्रेनों को किया रद्द, दो महीने में 117 ट्रेन रद्द, दूसरी ट्रेन में बढ़ा दबाव, । रेलवे ने यात्रियों की समस्या कम करने के स्थान पर एक साथ 36 ट्रेनों को रद्द कर और बढ़ा दी। क्रिसमस और नए साल के मौके पर यात्रियों ने काफी पहले ही रिजर्वेशन कराया था, लेकिन अब उन्हें परेशानी का सामना करना होगा। पढ़िए पूरी ख़बर..

क्रिसमस-नए साल के जश्न पर रेलवे की चोट, छत्तीसगढ़ से चलने-गुजरने वाली ट्रेनें प्रभावित
X

रायपुर: क्रिसमस और नए साल पर पर्यटन स्थलों की सफर करने का मन बना रहे यात्रियों को रेलवे ने बड़ा झटका दिया है। पहले ही कोहरे से लेटलतीफी का सामना कर रहे यात्रियों को अब ऐन क्रिसमस और नए साल के माैके पर 36 ट्रेनों के रद्द होने के चलते परेशानी का सामना करना होगा। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे ने ब्रजराजनगर ईब स्टेशनों के बीच चौथी लाइन के कार्य के चलते 24 दिसंबर से 30 दिसंबर तक 36 ट्रेनों को रद्द कर दिया है। इनमें मुंबई, दिल्ली, अमृतसर, विशाखापटनम, पुरी और शिरडी की ट्रेनें प्रभावित होंगी। इन्हीं शहरों के लिए नए साल के मौके पर हजारों यात्री सफर करते हैं, लेकिन उन्हें इस बार परेशानी का सामना करना होगा। इससे पहले यात्री 23 दिसंबर तक 21 ट्रेनों के प्रभावित होने से पहले ही परेशान थे। रेलवे ने यात्रियों की समस्या कम करने के स्थान पर एक साथ 36 ट्रेनों को रद्द कर और बढ़ा दी। क्रिसमस और नए साल के मौके पर यात्रियों ने काफी पहले ही रिजर्वेशन कराया था, लेकिन अब उन्हें परेशानी का सामना करना होगा। रेलवे ट्रेनें रद्द करने के बाद विकल्प के रूप में अन्य ट्रेनों की व्यवस्था भी नहीं की है। रद्द ट्रेनों में मंडल व जोन की 4 ट्रेनें रद्द में शामिल हैं, जो विशाखापटनम, पटना और टिटलागढ़ जाती हैं। 22 व 24 को कोरबा-अमृतसर छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस भी रद्द की गई है। यात्रियाें में जिस ट्रेन की अधिक मांग है, उन्हीं ट्रेनों को रेलवे ने रद्द कर दिया है। बता दें, क्रिसमस और नए साल के कारण अधिकतर ट्रेनों में वेटिंग 200 से अधिक है। ऐसे में कम समय में दूसरे ट्रेनों में यात्रियों को रिजर्वेशन के लिए जद्दोजहद करना पड़ेगा।

दो महीने में 117 ट्रेन रद्द

नवंबर और दिसंबर माह में रेल का सफर यात्रियों के लिए मुसीबत बढ़ाने वाला साबित हुआ। इन दो महीनों में 117 ट्रेनें रद्द हुई और 200 से अधिक ट्रेनों में कोहरे की वजह से यात्रियों को घंटों लेटलतीफी का सामना करना पड़ा। रेल अधिकारियों के अनुसार नवंबर में 70 ट्रेन एक दिन आना-जाना करती थी। पहले चेन्नई में तूफान की वजह से 12 ट्रेनें रद्द हुई। इसके बाद तुफान ने 48 ट्रेनों के पहिए रोक दिए। कोहरे से 20 से अधिक ट्रेनें प्रभावित रही। जबकि वर्तमान में 21 ट्रेनें रद्द है। अब 37 ट्रेनों के रद्द होने से नवंबर और दिसंबर महीने में ही 117 ट्रेन रेलवे रद्द कर चुका है। ट्रेनें रद्द करने के बाद रेलवे यात्रियों को पैसा तो लौटा रहा है, लेकिन दूसरी ट्रेनों में सीटें नहीं दे पा रहा है।

दूसरी ट्रेन में बढ़ा दबाव,

काेराेना के नए वैरिएंट के बीच रेलवे का ट्रेन रद्द करना संक्रमण काे आमंत्रण देने जैसा है। दिसंबर में ट्रेनें रद्द होने से दूसरी ट्रेन में यात्रियों का दबाव बढ़ने लगा है। मजबूर यात्री वेटिंग टिकट में भी सफर कर रहे हैं। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे ने क्रिसमस और नए साल के लिए अभी तक स्पेशल ट्रेनें चलाने का फैसला नहीं लिया है। ऐसे में 38 ट्रेनें रद्द होने से अन्य ट्रेनों में यात्रियों का दबाव बढ़ेगा। ट्रेन में सफर करना भी यात्रियों के लिए सरल नहीं होगा।

Next Story