Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हवाला के खिलाड़ी 10 लाख से कम रकम नहीं करते थे ट्रांसफर, छापे में आईटी अफसरों के हाथ लगी डायरी

आयकर विभाग ने 21 जून को हवाला के जिन माहिर खिलाड़ियों के यहां दबिश देकर छापे की कार्रवाई की थी मामले में नया खुलासा हुआ है। सूत्रों के मुताबिक ओडिशा बेस्ड स्कैन स्टील एंड कंपनीज के संचालक स्टील कारोबार की आड़ में जो हवाला रैकेट संचालित कर रहे थे वो 10 लाख रुपए से कम का हवाला ट्रांसफर नहीं करते थे।

हवाला के खिलाड़ी 10 लाख से कम रकम नहीं करते थे ट्रांसफर, छापे में आईटी अफसरों के हाथ लगी डायरी
X

आयकर विभाग का छापा (प्रतीकात्मक फोटो)

आयकर विभाग ने 21 जून को हवाला के जिन माहिर खिलाड़ियों के यहां दबिश देकर छापे की कार्रवाई की थी मामले में नया खुलासा हुआ है। सूत्रों के मुताबिक ओडिशा बेस्ड स्कैन स्टील एंड कंपनीज के संचालक स्टील कारोबार की आड़ में जो हवाला रैकेट संचालित कर रहे थे वो 10 लाख रुपए से कम का हवाला ट्रांसफर नहीं करते थे। साथ ही सूत्रों ने जो बताया है उसके मुताबिक सीबीडीटी की टीम को हवाला जांच में पांच लाख या उससे कम की एंट्री बहुत कम मिली हैं।

गौरतलब है 21 जून को आयकर विभाग की 25 सदस्यी टीम ने गायत्री नगर के दो परिसर तथा देवेन्द्र नगर में टीएमटी कारोबारी के ठिकानों पर छापे की कार्रवाई की थी। दो दिन चली कार्रवाई में आईटी की टीम ने कारोबारी के गायत्री नगर स्थित निवास से छह करोड़ रुपए नकदी जब्त की थी। दो दिन की कार्रवाई के बाद केंद्रीय प्रत्यक्ष बोर्ड (सीबीडीटी) के अफसरों ने 24 जून को कारोबारी द्वारा प्रारंभिक जांच में 100 करोड़ रुपए से ज्यादा का हवाला कारोबार करने का खुलासा किया है। सूत्रों के मुताबिक विकास से और राजेश गिरोड़िया से आईटी के अफसर हवाला लेन-देन के संबंध में लगातार पूछताछ कर रहे हैं। साथ ही दोनों के लिखित बयान दर्ज कर रहे हैं।

कोडवर्ड में लिखे नामों को डी-कोड कर रहे

विकास के निवास तथा देवेन्द्र नगर स्थित कार्यालय से आईटी अफसरों द्वारा जब्त दस्तावेज तथा कंप्यूटर हार्डडिस्क और पैन ड्राइव में हवाला लेन-देन होने की बात का सीबीडीटी के अफसरों ने खुलासा किया। सूत्रों के मुताबिक कारोबारी ने जिन कारोबारियों से स्टील खरीदी-बिक्री की है उनकी एंट्री स्पष्ट तौर पर की है। इसके साथ ही जिन लोगों से इनका हवाला लेन-देन से संबंध था उनके नाम तथा हवाला की रकम इन लोगों ने कोडवर्ड में एंट्री की है। आईटी के अफसर कोडवर्ड में मिले नाम तथा रकम को डी-कोड करने की कोशिश कर रहे हैं।

कई फाइल ऐसी जिसे खोलने साइबर एक्सपर्ट की मदद

आयकर अफसरों ने कारोबारी के ठिकानों से जो हार्डडिस्क जब्त की है उसमें से कई फाइल ऐसी हैं जिसे खोलना आईटी अफसरों के लिए एक बड़ी चुनौती थी। इस बात को देखते हुए आईटी अफसर कार्रवाई के पहले दिन से अपने साथ विभाग के साइबर एक्सपर्ट को साथ लेकर गए थे। साइबर एक्सपर्ट द्वारा उन गुप्त फाइलों को खोलने तथा आईआटी अफसरों द्वारा उन फाइलों की पड़ताल करने के बाद कारोबारियों द्वारा टैक्स चोरी करने के साथ बड़े पैमाने पर हवाला कारोबार करने की जानकारी मिली।

शेल कंपनी बनाकर संचालित कर रहे थे हवाला

सूत्रों के मुताबिक आईटी अफसरों को कारोबारियों द्वारा बड़े पैमाने पर शेल कंपनी बनाकर हवाला रैकेट संचालित करने की जानकारी हाथ लगी है। कारोबारी ज्यादातर शेल कंपनी कोलकोता में फर्जी नामों से संचालित कर रहे थे। शेल कंपनी में कारोबारियों द्वारा अपने परिचितों तथा कर्मचारियों के नाम शामिल होने की बात सूत्र बता रहे हैं।


Next Story