Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गर्भवती महिला को 3 किमी चारपाई पर लाना पड़ा इलाज के लिए, आजादी के 7 दशक बाद भी सुविधाओं से वंचित

नक्सली गतिविधियों के चलते आज भी नहीं नहीं बन पाई सड़कें। पढ़िए पूरी खबर-

गर्भवती महिला को 3 किमी चारपाई पर लाना पड़ा इलाज के लिए, आजादी के 7 दशक बाद भी सुविधाओं से वंचित
X

सुकमा। सुदूरवर्ती गांवों आज भी सड़क जैसी बुनियादी सेवाएं तक नहीं पहुंच पा रही हैं। हालांकि सरकार विकास और सुविधाओं के दावे करते थकती नहीं है। वहीं कुछ तस्वीरें सरकार के सभी दावों को खोखला साबित करती है। ऐसा ही एक मामला सुकमा के एक गांव से आया है, जहां एक गर्भवती महिला को 3 किमी तक चारपाई पर लेकर आना पड़ा उसके बाद महिला को स्वास्थ्य सुविधाएं मिल पाई।

सुकमा में कोंटा के ज्यादातर गांव में नक्सली गतिविधियों के चलते सड़कें नहीं बन पाई है ऐसे में बारिश के दिनों में ग्रामीणों को स्वास्थ्य सेवा लेने के लिए भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। यह मामला कोन्टा विकासखंड के ग्राम वेलपोच्चा का है, जहां एक गर्भवती महिला की तबियत खराब होने की जानकरी दर्ज कराई गई थी। गर्भवती महिला का नाम हिड़मे मड़ई जो कि वेलपोच्चा की रहने वाली थी। वेलपोच्चा कोन्टा से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जानकारी मिलने पर कोंटा से महतारी 102 की टीम रवाना तो हुई लेकिन स्वास्थ्य अमला गर्भवती महिला तक नहीं पहुंच पाया। टीम जब लोकेशन पर पहुंची तो पता चला कि गांव से करीब 3 किलोमीटर पहले ही सड़क मार्ग वाहन जाने के लायक नहीं था। बावजूद इसके पायलट कवासी महेंद्र व EMT पोडियम मुड़ा नाले के ऊपर बने जर्जर पुल से जैसे तैसे वाहन को पार कर आगे बढ़े पर आगे का रास्ता वाहन के साथ तय करना मुश्किल देख आगे का रास्ता पैदल ही चलना मुनासिब समझा।

इसके बाद वे पैदल चलकर गाव तक पहुंचे। उसके बाद महिला की नाजुक स्थिति को देख 102 महतारी के पायलट व EMT के ने ग्रामीणों की मदद से गर्भवती महिला को चारपाई पर लिटाकर एम्बुलेंस तक पहुंचाया। उसके बाद टीम महिला को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने को कोंटा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में ले आये।

अच्छी बात यह रही कि इतनी चुनौती के बाद गर्भवती महिला ने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया। खबर लिखने तक जच्चा और बच्चा दोनों ही स्वस्थ बताये जा रहे हैं।

जच्चा-बच्चा को सुरक्षित देख मरीज के पति ने 102 महतारी एक्सप्रेस के कर्मचारियों को धन्यवाद कहा।

Next Story