Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कड़कड़ाती ठंड में 2 दिन से हाईवे पर डटे 80 गांवों के लोग: सीतागांव को तहसील बनाने की मांग

ग्रामीणों का फैसला मिले तहसील का दर्जा या मानपुर में ही रहेंगे, राजनांदगांव-चंद्रपुर हाईवे सील, चक्का जाम में फंसी सैकड़ों गाड़ियां... एनिशपुरी गोस्वामी की पढ़िए खास रिपोर्ट...

कड़कड़ाती ठंड में 2 दिन से हाईवे पर डटे 80 गांवों के लोग: सीतागांव को तहसील बनाने की मांग
X

अंबागढ़ चौकी। कड़कड़ाती ठंड में अंगीठी के अलाव के बीच दो दिनों से दिन-रात सीतागांव को ब्लॉक मुख्यालय बनाने की मांग को लेकर 80 गांव के हजारों आदिवासी ग्रामीणों ने राजनांदगांव-चंद्रपुर हाईवे को जाम कर रखा है। प्रदर्शनकारियों की एक सूत्रीय मांग है कि सीतागांव को तहसील का दर्जा मिले या पूरा पट्टी मानपुर मे ही रहेगा।

उल्लेखनीय है कि राजनांदगांव से अलग होकर जिला के अस्तित्व में पहुंचने वाले मोहला, मानपुर, अंबागढ़ चौकी नया जिला के औंधी को तहसील मुख्यालय बनाए जाने की खबरों के बाद सीतागांव को ब्लॉक मुख्यालय का दर्जा को लेकर कोहराम मचा हुआ है। 80 गांव के महिला पुरुष युवक हजारों की तादाद में राजनांदगांव-चंद्रपुर हाईवे के कोहका मे सोमवार 12: बजे से कड़कड़ाती ठंड में दिन और रात हाईवे जाम कर रखा है। आंदोलनकारियों की एक ही मांग है कि सीतागांव को तहसील बनाया जाए या सीतागांव सेक्टर के तमाम 80 गांव मानपुर तहसील में दर्ज रहे। आज दूसरे दिन सुबह से ही हाईवे जाम कर आंदोलनकारी एक ही मांग पर खबर लिखे जाने तक डटे रहे। इधर प्रशासनिक अमले के साथ-साथ पुलिस महकमा स्थानीय विधायक व संसदीय सचिव इंद्र शाह मंडावी के आश्वासन को लेकर प्रदर्शनकारियों को देर शाम तक समझाने का प्रयास करते रहे, परंतु विधायक के उत्तर प्रदेश में होने के कारण कोई ठोस पहल नहीं हो पाई। इधर अघोषित आंदोलन से हाईवे में सैकड़ों गाड़ियों की दोनों ओर से कतारें लग गई हैं। जिसके चलते मालवाहक यात्री बसों व अन्य वाहनों में सवार लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

2012 से जारी है ग्रामीणों की लड़ाई

सीतागांव को ब्लॉक मुख्यालय के दर्जा दिलाने को लेकर 2012 से 80 गांव के ग्रामीण लगातार संघर्षरत हैं। ऐसे वक्त में औंधी को तहसील मुख्यालय बनाए जाने और सीतागांव क्षेत्र को जोड़ने की खबरें के बाद आंदोलन और उग्र हो गया है।

सीतागांव को औंधी से काटने के अलावा प्रशासन के पास कोई चारा नहीं

13 ग्राम पंचायतों के 80 गांव के महिला पुरुष ग्रामीणों ने आंदोलन स्थल पर अवगत कराया कि सीतागांव क्षेत्र से औंधी की दूरी 35 किलोमीटर है इधर मानपुर 12 किलोमीटर है। औंधी ब्लॉक मुख्यालय में उन्हें जोड़ने से काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा जो पीड़ादायक है, जिसके लिए वे तैयार नहीं है।

रात में आंदोलन को कुचलने का प्रयास, पुलिस ने लीडरों को उठाया, खाना फेंका

आंदोलनकारियों का कहना है कि सोमवार रात आंदोलन को लीड कर रहे हैं 3 प्रमुखों को पुलिस के द्वारा उठाए जाने और रात को तैयार हो रहे भोजन व्यवस्था को तहस-नहस करने के बाद आंदोलन और उग्र हो गया। दिनभर पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी आंदोलनकारियों से दूरी बनाए रखे थे।

विधायक का आश्वासन मानने को तैयार नहीं ग्रामीण

मंगलवार देर शाम उत्तर प्रदेश से फोन पर विधायक इंद्र शाह मंडावी से प्रशासनिक अधिकारियों ने आश्वासन दिलाया कि सीतागांव क्षेत्र के लोग जो चाहते हैं वही होगा। वे औधी में नहीं रहना चाहते हैं तो उन्हें मानपुर से जुड़े रखेंगे। परंतु इस आश्वासन के बावजूद आंदोलन खत्म नहीं हुआ। खबर लिखे जाने तक मामले का कोई निष्कर्ष नहीं निकल पाया है।

अंगीठी के ताप से गर्म आंदोलन

कड़कड़ाती ठंड से बचने खुले आसमान के नीचे हाईवे पर जाम लगाते हुए हजारों आंदोलनकारी ग्रामीण महिला, पुरुष, युवा अंगीठी जलाकर ठंड का सामना कर रहे हैं। 2 दिनों से आंदोलन स्थल पर ही भोजन व्यवस्था की जा रही है, जिससे माहौल और गर्म है। इधर राजनांदगांव से महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना की ओर आना-जाना करने वाले मालवाहक, यात्री बसें व अन्य गाड़ियां बड़ी संख्या में फंसे हुए हैं। जिसको लेकर प्रशासनिक किसी तरह की व्यवस्था नहीं की गई है।




Next Story