Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कॉलेज खोलें या बंद करें रविवि ने कहा- आदेश नहीं तो पर्चे ऑफलाइन

25 से शुरू होनी हैं रविवि की सेमेस्टर परीक्षाएं, वार्षिक परीक्षा मार्च-अप्रैल में, कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देख असमंजस में महाविद्यालय नहीं मांगी कोई रिपोर्ट, रविवि की अकेडमिक काउंसिल की बैठक आज होगी। इसमें विद्या परिषद के सदस्य शामिल होंगे। रविवि की कार्यपरिषद की बैठक कल होगी। इसमें विवि के कामकाज व शैक्षणिक गतिविधियों से जुड़े अन्य मुद्दों पर चर्चा होगी। पढ़िए पूरी ख़बर...

कॉलेज खोलें या बंद करें रविवि ने कहा- आदेश नहीं तो पर्चे ऑफलाइन
X

रायपुर: प्रदेश के जिन जिलों में कोरोना पॉजिटिविटी दर 4 प्रतिशत से अधिक है, वहां स्कूल बंद करने संबंधित नियम पहले ही बनाए जा चुके हैं। राजधानी में भी संक्रमण के मौजूदा हालात को देखते हुए पहली से बारहवीं तक की कक्षाएं फिर से ऑनलाइन मोड में शिफ्ट कर दी गई हैं। इसके इतर उच्च शिक्षा विभाग द्वारा अब तक कॉलेज खोले जाने अथवा उन्हें बंद रखने काे लेकर कोई फैसला नहीं लिया गया है। न ही शासन द्वारा इस संदर्भ में कोई आदेश या गाइडलाइन जारी की गई है। कोरोना संक्रमण के बीच रविवि की सेमेस्टर परीक्षाएं 25 जनवरी से प्रारंभ हो रही हैं।

इन अनिश्चितताओं के बीच प्रदेश में महाविद्यालयों में छात्रों की पढ़ाई जारी है। रायपुर में बीते सप्ताह कोरोना की औसत पॉजिटिविटी दर 10.98 प्रतिशत रही है। संक्रमण छोटे बच्चों के साथ युवाओं को भी अपने चपेट में ले रहा है। बढ़ते खतरे के बीच महाविद्यालयों में छात्रों की उपस्थिति कम हो गई है।पहले से आधे छात्र ही ऑफलाइन कक्षाओं में अपनी हाजिरी लगा रहे हैं। इधर पं. रविशंकर शुक्ल विवि ने स्पष्ट कर दिया है कि यदि शासन द्वारा कोई आदेश जारी नहीं किया जाता है तो ऑफलाइन मोड में ही परीक्षाएं ली जाएंगी।

रविवि की अकेडमिक काउंसिल की बैठक आज होगी। इसमें विद्या परिषद के सदस्य शामिल होंगे। रविवि की कार्यपरिषद की बैठक कल होगी। इसमें विवि के कामकाज व शैक्षणिक गतिविधियों से जुड़े अन्य मुद्दों पर चर्चा होगी, लेकिन महाविद्यालय को खोलने अथवा बंद करने संबंधित मुद्दे बैठक के मिनट्स में शामिल नहीं हैं। विश्वविद्यालय से जुड़े सूत्र ने बताया कि उच्च शिक्षा विभाग द्वारा इस पर कोई चर्चा नहीं की जा रही है और न ही विश्वविद्यालयों से ही इसे लेकर कोई रिपोर्ट मांगी गई है। इसके कारण विश्वविद्यालय भी अपने स्तर पर कोई कदम नहीं उठा रहे हैं। वे पूर्ववत ही छात्रों को केंद्र बुलाकर परीक्षा लेने की तैयारी कर रहे हैं।

Next Story