Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नशे में धुत्त अधिकारियों ने बछिया को कुचला, इलाज के बाद गौशाला से गायब

कुचलने के बाद गाड़ी में फंसी रही और काफी दूर तक घसीटती गई। इसके बाद नशे में धुत अधिकारी उसे निकालने के लिए नीचे उतरे, तभी आसपास लोगों की भीड़ जमा हो गई। किसी ने इस घटना का वीडियो भी बना लिया। पढ़िए पूरी खबर-

नशे में धुत्त अधिकारियों ने बछिया को कुचला, इलाज के बाद गौशाला से गायब
X

बालोद। छत्तीसगढ़ के बालोद में सरकारी गाड़ी में सवार अधिकारियों द्वारा गाय (बछिया) को कुचलने का मामला सामने आया है। आरोप है कि घटना के समय अधिकारी नशे में धुत थे। बताया जा रहा है कि कुचलने के बाद गाड़ी में फंसी रही और काफी दूर तक घसीटती गई। इसके बाद नशे में धुत अधिकारी उसे निकालने के लिए नीचे उतरे, तभी आसपास लोगों की भीड़ जमा हो गई। किसी ने इस घटना का वीडियो भी बना लिया। बछिया को गंभीर हालत में इलाज के लिए ले जाया गया, लेकिन इलाज होने के बाद से बछिया गायब है।

घटना शहर के हृदय स्थल यानी राजनांदगांव मार्ग पर किंडर गार्डन स्कूल के सामने की है, नशे में धुत अधिकारियों ने सरकारी गाड़ी से गाय की बछिया को बेदर्दी से कुचल दिया। बताया जा रहा है कि गाड़ी क्र. सीजी 07 बीआर 7811 में रात को जिला पंचायत बालोद के अतिरिक्त सीईओ हेमंत ठाकुर ड्राइवरी कर रहे थे, साथ में मनरेगा के अधिकारी ओपी साहू तथा द्वारका प्रसाद भूआर्य ईई आरईएस तीनों शराब के नशे में थे। बछिया को बेदर्दी से घसीटते हुए मुख्य मार्ग से अंदर गली तक चार पहिया के नीचे रौंदा गया है। घटना बीती रात को करीब 11 बजे की बताई जा रही है। गाड़ी के नीचे बछिया फंसी हुई थी, जिसे निकालने के के लिए नशे में धुत अधिकारी प्रयास कर रहे थे, इसी दौरान आस-पास के लोग उठ गये। इसके बाद अधिकारी बचने के लिए भागते नजर आए।

घटना की जानकारी मिलने पर कांग्रेस के कार्यकर्ता भी मौके पर पहुंचे। लोगों का कहना है कि हम लोगों को देखकर यह तीनों भागने की कोशिश भी कर रहे थे। जिसे रोकने की कोशिश की गई तो तीनों ने हम लोगों से क्षमा याचना कर अपनी गलती स्वीकार की। इस दौरान कुछ लोग वीडियो रिकॉर्ड भी कर रहे थे। अधिकारी उन्हें वीडियो रिकॉर्ड करने से मना कर रहे थे। यह वीडियो सोशल मीडिया में भी सामने आया है। इस घटना की घोर निंदा की जा रही है। तो वहीं गौ माता के संरक्षक इस घटना के लिए जिम्मेदार दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की मांग भी कर रहे हैं।

हैरानी की बात यह है कि उक्त घायल बछिया को पशु चिकित्सा अधिकारी के जरिए इलाज करवाने के बाद महावीर गौशाला में रखवाया गया था, जिसे 35 टांके भी लगे थे, लेकिन वह बछिया सुबह होते तक कहां गायब हुई इसकी कोई खबर ही नहीं है।

युवा कांग्रेस के साजन पटेल सहित अन्य लोगों ने आरोप लगाया है कि उक्त तीनों दोषियों अधिकारियों के द्वारा मिली भगत कर षड्यंत्र करते हुए घायल बछिया को कहीं हटा दिया गया है या आशंका यह भी है कि कहीं उसकी मौत तो नहीं हो गई और इस हत्या के बाद उसे कहीं फेक तो नहीं दिया गया। इस घटना में कई लोगों की भावनाएं गंभीर रूप से आहत हुई है।

इस मामले में युवा कांग्रेस शहर अध्यक्ष साजन पटेल सहित अन्य लोगों ने थाना प्रभारी को ज्ञापन देकर मांग की है कि हेमंत ठाकुर, मनरेगा अधिकारी साहू, द्वारका प्रसाद भूआर्य तथा महावीर गौशाला प्रबंधन के जो भी दोषी अधिकारी या कर्मचारी है, उनके विरुद्ध पशु क्रूरता अधिनियम तथा भारतीय दंड संहिता के तहत कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाए। घटना का वीडियो सोशल मीडिया में सामने आने के बाद लोग इस घटना की कड़ी भर्त्सना कर रहे हैं और दोषी अधिकारी व कर्मचारियों पर कार्रवाई की मांग कर रहे।

Next Story