Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हत्या या आत्महत्या ? कमरे में खून से लथपथ पड़ा मिला व्यापारी...

पत्नी ने पुलिस को बताया गया कि उसके पति ने अपने आप को कमरे में बंद कर लिया था। अंदर से चिल्लाने की आवाज आई, तब उसने घबरा कर अपने देवर को फोन कर इस घटना की जानकारी दी। आखिर व्यापारी की मौत का क्या है राज -

हत्या या आत्महत्या ? कमरे में खून से लथपथ पड़ा मिला व्यापारी...
X

बिलासपुर। जिले से एक बड़ी खबर सामने आई है। चाकू के हमले से व्यवसायी की अस्पताल में मौत हो गई। परिजन इस घटना को आत्महत्या बता रहे हैं। इधर, पुलिस को व्यवसायी की हत्या होने का संदेह है। मंगलवार को शव का पोस्टमॉर्टम के बाद ही खुलासा हो सकेगा। पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। घटना तारबाहर थाना क्षेत्र की है।

मिली जानकारी के मुताबिक विनोबा नगर निवासी 42 वर्षीय भगवानदास आहुजा पिता गोविंददास अपने घर में पत्नी, बच्ची और छोटे भाई के साथ रहता था। व्यापार विहार में उनकी दुकान है, जहां छोटा भाई बैठता है। बताया जा रहा है कि सोमवार की शाम 4.30 बजे भाई और पत्नी मिलकर भगवानदास को गंभीर हालत में अपोलो हॉस्पिटल ले गए। वह खून से लथपथ बेहोश था। उसके पेट में चाकू मारने से गहरा जख्म लगा था और आंतें बाहर आ गई थी। जांच के बाद डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। उसकी मौत होने के बाद अपोलो प्रबंधन ने इस घटना की सूचना पुलिस को दी।

प्रारंभिक पूछताछ में पत्नी ने पुलिस को बताया गया कि उसके पति ने अपने आप को कमरे में बंद कर लिया था। अंदर से चिल्लाने की आवाज आई, तब उसने घबरा कर अपने देवर को फोन कर इस घटना की जानकारी दी। देवर दुकान से घर पहुंचा। फिर किसी तरह दरवाजा खोल कर अंदर गए। कमरे में भगवान दास खून से लथपथ पड़ा था। भगवानदास ने खुद पर ही चाकू से हमला किया होगा। मगर पुलिस को यह बात हजम नहीं हो रही है। पुलिस का कहना है कि मंगलवार को शव का पोस्टमॉर्टम कराया जाएगा। जांच और पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही युवक के मौत के कारणों का पता चल सकेगा।

पुलिस ने हत्या की आशंका जताई

शहर के रिहायशी इलाके में व्यवसायी की संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गई। जिस तरह से चाकू से वार किया गया है, इससे हत्या की आशंका जताई जा रही है। फिर भी पुलिस हत्या के इस गंभीर मामले को छिपाने की कोशिश करती रही। यह भी कहा जा रहा है कि तारबाहर क्षेत्र में सोमवार को वार्ड क्रमांक 29 में मतदान चल रहा था। थानेदार जेपी गुप्ता समेत पुलिस अफसर पूरे दिन चुनाव कार्य में व्यस्त रहे। इसके चलते उन्होंने व्यवसायी की मौत की खबर को भी नजर अंदाज कर दिया।

पड़ोसियों को भी नहीं लगी भनक

दरअसल, यह मामला इसलिए संदिग्ध लग रहा है, क्योंकि विनोबा नगर में गंभीर घटना होने के बाद भी आसपास के लोगों को भी इसकी भनक तक नहीं लगी। ऐसे में पारिवारिक विवाद के चलते युवक की हत्या होने की आशंका जताई जा रही है। सवाल यह भी है कि जिस तरह से युवक के पेट में चाकू घोंपा गया है। उस तरह से कोई खुद पर हमला कैसे कर सकता है। इसलिए पुलिस अब जांच कर रही है।

Next Story