Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ये है 100 में 100 मार्क्स की असली स्टोरी, मुंगेली में टॉपर बनाने के लिए चली थी एक खास मुहिम

'हम होंगे कामयाब' अभियान चलाकर तत्कालीन कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भूरे, जिला शिक्षा अधिकारी जीपी भारद्वाज जैसे अफसर मुंगेली के लिए हमेशा के लिए यादगार हो गए। पढ़िए पूरी खबर-

ये है 100 में 100 मार्क्स की असली स्टोरी, मुंगेली में टॉपर बनाने के लिए चली थी एक खास मुहिम
X

मुंगेली। शिक्षा गुणवत्ता उन्नयन हेतु मुंगेली जिले में सत्र 2019-20 में सभी शासकीय हाई और हायर सेकेण्डरी स्कूलों में 'हम होंगे कामयाब' अभियान चलाया गया था। इस अभियान के तहत बोर्ड परीक्षाओं में जिले के विद्यार्थियों को विशेष सफलता दिलाने हेतु कार्य योजना बनाकर कार्य प्रारंभ किया गया था, जिसका अब सार्थक परिणाम सामने आया है।

छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा 10 वीं बोर्ड परीक्षा के घोषित परिणाम में टॉप-10 में शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय जरहागांव की छात्रा कुमारी प्रज्ञा कश्यप ने टॉप-10 में प्रथम स्थान प्राप्त किया। इसी तरह 12 वीं बोर्ड परीक्षा के घोषित टॉप-10 में सरस्वती शिशु मंदिर उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मुंगेली के छात्र टिकेश वैष्णव ने टॉप-10 में प्रथम स्थान प्राप्त किया, जो 'हम होंगे कामयाब' अभियान का ही सार्थक परिणाम है।

इस अभियान के अंतर्गत जिले के सभी शासकीय विद्यालयों में कक्षा 9वीं से 12वीं तक के सभी विषयों को 8 ईकाईयों में विभाजित कर जुलाई 2019 से दिसम्बर 2019 तक पूरा अध्यापन का लक्ष्य रखा गया।


प्रत्येक माह निर्धारित पाठ्यक्रम अनुसार जिला स्तर पर दो पाक्षिक मूल्यांकन का भी प्रावधान किया गया। जिसमें जिला स्तर से विषय विशेषज्ञों द्वारा तैयार प्रश्न पत्र को व्हाट्सएप के माध्यम से सभी विद्यालयों में पूर्व निर्धारित तिथि अनुसार भेज कर ईकाई मूल्यांकन की व्यवस्था की गई।

विद्यार्थियों की मात्रात्मक त्रुटि सुधारने हेतु इमला लेखन की विशेष कक्षाएं आयोजित किया जाना सुनिश्चित किया गया। दूर दराज के विद्यालयों में विषय शिक्षकों की कमी को दूर करने के लिए जिला प्रशासन द्वारा जिला खनिज न्यास मद से 115 अतिथि शिक्षकों को निश्चित मासिक मानदेय पर भर्ती कर अध्यापन की व्यवस्था की गई।

ईकाई मूल्यांकन के प्राप्तांको की समीक्षा कर कमजोर परीक्षा परिणाम वाले विद्यालयों के विद्यार्थियों का विषयवार चिन्हांकन कर अतिरिक्त कक्षाएं लगाई गई।


विद्यालयों में अध्ययन-अध्यापन की विशेष मानिटरिंग हेतु जिला स्तर पर सभी विभाग प्रमुखों की ड्यूटी सभी हाई एवं हायर सेकेण्डरी स्कूलों में लगाई गई और प्राप्त रिर्पोटिंग के आधार पर जिला प्रशासन द्वारा विकासखण्ड मुख्यालयों में हाई एवं हायर सेकेण्डरी स्कूलों के संस्था प्रमुखों की प्रत्येक दो माह में शिक्षा गुणवत्ता उन्नयन हेतु आवश्यक दिशा-निर्देश दिये गये।

जिला स्तर पर कक्षा-9वीं से 12वीं तक त्रैमासिक, अर्द्धवार्षिक परीक्षा का आयोजन कर जिला कलेक्टर द्वारा परिणाम की समीक्षा की गई।

जिला स्तर पर तैयार किये गये सभी विषयों के प्रश्न बैंक को हाई एवं हायर सेकेण्डरी स्कूलों में माह जनवरी एवं फरवरी 2020 में विशेष रूप से अभ्यास कराया गया।

विगत पांच वर्षो के बोर्ड परीक्षा प्रश्नों की भी तैयारी विद्यार्थियों को विशेष रूप से कराई गई। जिसके परिणाम स्वरूप 10वीं एवं 12वीं की टॉप-10 में क्रमशः कुमारी प्रज्ञा कश्यप और टिकेश वैष्णव ने प्रथम स्थान तथा शारदा सरस्वती शिशु मंदिर उच्चतर माध्यमिक विद्यालय लोरमी के छात्र नीरज कुमार वर्मा ने 98 प्रतिशत अंक प्राप्त कर प्रावीण्य सूची में सातवां स्थान प्राप्त कर 'हम होंगे कामयाब' अभियान की सार्थकता साबित की।

इसी तरह कक्षा 10वीं बोर्ड परीक्षा में शामिल 11 हजार 999 विद्यार्थियों में से 4 हजार 4 विद्यार्थी प्रथम श्रेणी, 4 हजार 451 विद्यार्थी द्वितीय श्रेणी, 357 विद्यार्थी तृतीय श्रेणी में, 12वीं बोर्ड परीक्षा में शामिल 7 हजार 975 विद्यार्थियों में से 2 हजार 963 विद्यार्थी प्रथम श्रेणी, 3 हजार 555 विद्यार्थी द्वितीय श्रेणी तथा 175 विद्यार्थी तृतीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए।

इस अभियान की जब शुरुआत हुई थी तब वहां बतौर कलेक्टर सर्वेश्वर नरेंद्र भूरे व जिला शिक्षा अधिकारी जीपी भारद्वाज कार्यरत थे। जिला प्रशासन ने मुंगेली जिले में शिक्षा की गुणवत्ता सुधार को मिशन बना लिया था, यही कारण है कि 'हम होंगे कामयाब' की कामयाबी की चर्चा आज पूरे देश में है।

Next Story