Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

16 महीने बाद खुलेंगे मल्टीप्लेक्स के ताले, 50 फीसदी दर्शक, हालीवुड फिल्म से होगा आगाज

प्रदेश में लॉकडाउन हटाए जाने के बाद अब 16 महीने बाद राजधानी के मल्टीप्लेक्स थिऐटरों के ताले खुलेंगे। शुक्रवार से ऑन स्क्रीन फिल्मों के लिए थिएटर ओपन होंगे। कोविड प्रोटोकॉल के साथ दर्शकों की कुल क्षमता से सिर्फ 50 प्रतिशत लोगों को ही एंट्री दी जाएगी। 16 महीनों के बाद ऐसा मौका होगा जब ऑन स्क्रीन मूवी देखने लोग मॉल पहुंच सकेंगे।

16 महीने बाद खुलेंगे मल्टीप्लेक्स के ताले, 50 फीसदी दर्शक, हालीवुड फिल्म से होगा आगाज
X
मल्टीप्लेक्स (प्रतीकात्मक फोटो)

प्रदेश में लॉकडाउन हटाए जाने के बाद अब 16 महीने बाद राजधानी के मल्टीप्लेक्स थिऐटरों के ताले खुलेंगे। शुक्रवार से ऑन स्क्रीन फिल्मों के लिए थिएटर ओपन होंगे। कोविड प्रोटोकॉल के साथ दर्शकों की कुल क्षमता से सिर्फ 50 प्रतिशत लोगों को ही एंट्री दी जाएगी। 16 महीनों के बाद ऐसा मौका होगा जब ऑन स्क्रीन मूवी देखने लोग मॉल पहुंच सकेंगे। मल्टीप्लेक्स थिएटर के बंद होने से संचालकों को करोड़ों रुपए का घाटा तो हुआ ही साथ ही सिनेमा के शौकीन महीनों तक थियेटर में फिल्में देखने से भी वंचित रहे।

स्क्रीन संचालकों को दूसरे लहर में कोविड केस कम होने के बाद काफी उम्मीदें है। रायपुर के सभी मॉल में 16 स्क्रीन हैंं। शुक्रवार से इसमें पहले की तरह शो चलाया जा सकेगा। राजधानी के थिएटर्स में फिल्में देखने की शुरूआत हॉलीवुड मूवी के साथ होगी। शुक्रवार को ही हॉलीवुड की बहुचर्चित फिल्म मोर्टल कांबेक्ट रिलीज हो रही है। इसके बाद दर्शकों को अक्षय कुमार की अपकमिंग मूवी बेलबॉटम देखने मिलेगा। मॉल खोले जाने के बाद से यहां लोगों की आवाजाही बढ़ी है। थिएटर शुरू किए जाने की अनुमति के बाद मल्टीप्लेक्स में तैयारियां चल रही थी। अब आइनॉक्स और पीवीआर ने ऑनस्क्रीन मूवी प्ले करने का निर्णय लिया है। जिला प्रशासन के तय शेड्यूल के हिसाब से देर रात तक थिएटर ओपन रहेंगे।

टाकीजों को मसाला फिल्मों का इंतजार

शहर में संचालित दूसरे टाकीजों को पिछले कई महीनों से भारी भरकम नुकसान उठाना पड़ रहा है। ऐसे में उन्हें किसी मसालेदार फिल्म का इंतजार है, जिससे दर्शक टाकीजों की ओर रुख कर सकें। त्योहारी सीजन यानी दिवाली के मौके पर टॉकीजों के दरवाजे भी खुल सकते हैं। इस दौरान बड़ी सुपर स्टारर फिल्में रिलीज होंगी। एक ही स्क्रीन में सिर्फ एक ही मूवी दिखाने की व्यवस्था पर समझा जा रहा है कि अभी टाकीज खोलने से घाटा होगा।

16 महीने में लगा 400 करोड़ का फटका

थिएटरों के बंद रहने की वजह से संचालकों को पिछले 16 महीनों में लगभग 400 करोड़ रुपए का नुकसान का हुआ है। ऑनस्क्रीन चार से पांच शो चलाए जाते हैं। एकाएक मॉल बंद हो जाने से भारी नुकसान वहन करना पड़ा है। अलग-अलग स्क्रीन के लिए फिल्मों की तारीखें बुकिंग कराने के बाद रिलीजिंग के पहले ही पर्दे गिराने पड़े थे।

ऑन थिएटर तैनात रहेंगी वैक्‍सीनेटेड टीम

आइनॉक्स प्रबंधन का कहना है कि सिनेमाघरों का संचालन 100% वैक्‍सीनेटेड टीम द्वारा किया जाएगा। सेफ्टी फर्स्ट को ध्यान में रखते हुए हाइजीन पहल तैयार की है जो सरकारी अथॉरिटीज द्वारा बताए गए उपायों और हमारे द्वारा कार्यान्वित अतिरिक्‍त उपायों का मेल है। सीटिंग के लिये बताए गए निषेधों का पालन करने के अलावा, सिनेमाघरों को बार-बार डीप क्‍लीन किया जाएगा। सभी कस्‍टमर टच पॉइंट्स जैसे प्रवेशद्वार, बॉक्‍स ऑफिस, लॉबीज, ऑडिटोरियम, खाद्य एवं पेय के काउंटर्स, विश्रामकक्ष और निकासी द्वार का डिसइंफेक्‍शन होगा। रायपुर समेत 29 शहरों में फिल्‍म प्रेमियों के स्‍वागत के लिये पूरी तरह तैयारी की गई।


Next Story