Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

'मलेरिया मुक्त बस्तर' अभियान को मिली सराहना, बीजापुर में मलेरिया के मामलों में 71 फीसदी कमी

यूएनडीपी और नीति आयोग ने मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान की सराहना करते हुए कहा कि आकांक्षी जिलों में संचालित सबसे बेहतर अभियानों में से एक है। साथ ही मलेरिया खत्म करने के लिए देश के अन्य आकांक्षी जिलों में भी इसे अपनाने की नसीहत दी।

मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान को मिली सराहना, बीजापुर में मलेरिया के मामलों में 71 फीसदी कमी
X
प्रतीकात्मक चित्र

रायपुर। संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) और नीति आयोग ने प्रदेश के बस्तर संभाग में मलेरिया उन्मूलन के लिए के लिए चले जा रहे अभियान की सरहाना करते हुए अन्य जिलों द्वारा भी अभियान को अपनाने की बात कही। बस्तर में मलेरिया उन्मूलन के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन और छत्तीसगढ़ द्वारा मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान का संचालन किया जाता है, जिनके साकारात्मक असर देखने को मिल रहे हैं।

यूएनडीपी ने नीति आयोग को अपनी जो रिपोर्ट दी है, उसमें कहा है कि आकांक्षी जिलों बीजापुर और दंतेवाड़ा में इस अभियान के बहुत अच्छे नतीजे आए हैं। मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान के असर से बीजापुर जिले में मलेरिया के मामलों में 71 प्रतिशत और दंतेवाड़ा में 54 प्रतिशत की कमी आई है।

यूएनडीपी ने इस अभियान को आकांक्षी जिलों में संचालित सबसे बेहतर अभियानों में से एक बताया है। उसने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि मलेरिया को खत्म करने के लिए देश के अन्य आकांक्षी जिलों में भी इस तरह का अभियान का संचालन किया जाना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि बस्तर संभाग को मलेरिया से मुक्त करने राज्य शासन द्वारा शुरु किए गए मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान का व्यापक असर देखने को मिला है। बस्तर क्षेत्र में इसके बेहतरीन परिणाम देखे जाने के बाद इस अभियान का सरगुजा संभाग में भी मलेरिया मुक्त छतीसगढ़ अभियान के रूप में पिछले वर्ष के अंत में संचालन किया गया है।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन और छत्तीसगढ़ द्वारा चलाए गए दोनो संभागों में इन विशेष अभियानों से मलेरिया के आंकड़ों में लगातार कमी आ रही है। अप्रैल-2020 की तुलना में अप्रैल-2021 में सरगुजा संभाग में मलेरिया के मामलों में 60 प्रतिशत और बस्तर संभाग में 45 प्रतिशत की कमी आई है।

Next Story