Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

लॉकडाउन के बाद लूट, चोरी की घटनाओं में इजाफा, नए कप्तान ने तैयार की 'गुंडों' की नई लिस्ट

लॉकडाउन खत्म होने और आम लोगों के सड़कों पर निकलने के साथ पुलिस के लिए सुरक्षा को लेकर चुनौतियां बढ़ गई हैं। रायगढ़ में दिनदहाड़े मर्डर और लूट की घटना से प्रदेश में दहशत का माहौल है कि रायपुर में नए एसएसपी ने बदमाशों पर सख्ती शुरू कर दी है। इसी कड़ी में शनिवार को पुलिस ने पुराने गुंडा लिस्ट और निगरानी बदमाशों की सूची खंगाली। थानेदारों को रतजगा कर निगरानियों की पड़ताल करने के लिए कहा गया। पुराने अपराध देखते हुए कई नए गुंडे सूची में शामिल किए गए।

लॉकडाउन के बाद लूट, चोरी की घटनाओं में इजाफा, नए कप्तान ने तैयार की गुंडों की नई लिस्ट
X

रायपुर. लॉकडाउन खत्म होने और आम लोगों के सड़कों पर निकलने के साथ पुलिस के लिए सुरक्षा को लेकर चुनौतियां बढ़ गई हैं। रायगढ़ में दिनदहाड़े मर्डर और लूट की घटना से प्रदेश में दहशत का माहौल है कि रायपुर में नए एसएसपी ने बदमाशों पर सख्ती शुरू कर दी है। इसी कड़ी में शनिवार को पुलिस ने पुराने गुंडा लिस्ट और निगरानी बदमाशों की सूची खंगाली। थानेदारों को रतजगा कर निगरानियों की पड़ताल करने के लिए कहा गया। पुराने अपराध देखते हुए कई नए गुंडे सूची में शामिल किए गए।

एसएसपी कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक नई गुंडा लिस्ट में 19 लोगों को शामिल किया गया। जबकि निगरानी सूची में 9 नए अपराधियों के नाम जोड़े गए। एएसपी ताकेश्वर पटेल के बताए अनुसार, पुराने बदमाशों की माॅनिटरिंग अब नियमित रूप से होती रहे, इसके लिए सभी थाना प्रभारियों को ठिकानों पर दबिश देकर जांच पड़ताल करने के लिए कहा गया। एएसपी पटेल ने बताया, नई सूची में पुराने अपराधों को देखते हुए आरोपियों को शामिल किया गया है। उम्रदराज एक आरोपी के साथ बाकी ऐसे शातिर हैं जो पूर्व में आर्थिक अपराध में संलिप्त रह चुके हैं। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय यादव के निर्देश पर यह कार्रवाई की गई है।70 बदमाश शहर से गायबआधी रात पुलिस दल ने दरवाजा खटखटाते हुए हिस्ट्रीशीटरों के बारे में छानबीन की। क्षेत्र में मौजूदगी के साथ उनके बारे पूछताछ की।

शहर में 70 हिस्ट्रीशीटर गायब मिले। करीब 160 बदमाशों को घर से निकलवाकर उनके बारे में रिकार्ड दुरूस्थ किए।हिस्ट्रीशीटरों और गुंडों से इसलिए राजधानी में खतरा- शहर में चोरी, लूट की वारदातें बढ़ रही। बड़े अपराधों में ज्यादातर हिस्ट्रीशीटर संलिप्त।- थानों की हिस्ट्रीशीट में शामिल अपराधी आदतन नशेड़ी। काम नहीं होने के कारण नशे की लत में झगड़ा आम।- लॉक डाउन के दौरान गली मोहल्लों में बैठकें। संगठित होकर बदमाशों में संगठित अपराध को अंजाम देना आसान।350 से ज्यादा गुंडे और निगरानी बदमाश शहर मेंरायपुर जिले में ग्रामीण और शहरी थानों की सूची मिलाकर गुंडे बदमाशों की संख्या लगभग 350 है। हालांकि यह आकड़ा बढ़ता-घटता रहता है।

कई आरोपियों के आचारण ठीक होने के बाद जिला दंडाधिकारी के पास गुंडा लिस्ट से नाम हटाने आवेदन हुए हैं।थाना तेलीबांधा - गुण्डा 08, निगरानी 01(गुंडा-राजा नायडू, रोशन तांडेकर, अजय उर्फ अज्जू मोटवानी, नीलू उर्फ ओंकार देवार, बाला उर्फ राजू साहू, दीपक उर्फ बब्बू बबलानी, आकाश उर्फ करिया चौहान, रॉकी उर्फ राकेश बबलानी, निगरानी-पुथ्वीराज मोंगराज )थाना पुरानी बस्ती - गुण्डा 02(हितेश उर्फ राजा निर्मलकर, घनश्याम सेन)थाना धरसींवा - गुण्डा 01(शाकील खान उर्फ बिल्लू)थाना उरला - गुण्डा 05, निगरानी 06(संजू उर्फ गोलू सोनी, भोलाराम निषाद, चंदन भारती, मनहरण पुरांडे, झम्मन यादव, निगरानी-राजू साहू, अजय टंडन, राकेश भारती उर्फ भांचा, जागेश्वर ध्रुव, मूलचंद निषाद उर्फ मुजरीम, शुभम पांडे)थाना गुढ़ियारी - गुण्डा 03(अर्जून दास उर्फ छोटू ध्रुव, आशीष मिर्जा, दिनेश कुमार तुर्काने)थाना खमतराई - निगरानी 02( दीपक वर्मा उर्फ दादू, दीपक सोनी उर्फ नानू)-

Next Story