Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बिना स्कैनिंग दुकान में उतर रही शराब, अवैध बिक्री पर विपक्ष का बहिर्गमन

सिमगा शराब दुकान में बिना स्कैनिंग शराब उतारे जाने और अवैध शराब की बिक्री को लेकर भाजपा विधायक शिवरतन शर्मा ने आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार के संरक्षण में अवैध शराब बेची जा रही है। मंत्री द्वारा मामले में संतोषजनक जवाब नहीं देने पर विपक्ष ने हंगामा करते हुए सदन से बहिर्गमन किया।

बिना स्कैनिंग दुकान में उतर रही शराब, अवैध बिक्री पर विपक्ष का बहिर्गमन
X

प्रतीकात्मक तस्वीर। 

सिमगा शराब दुकान में बिना स्कैनिंग शराब उतारे जाने और अवैध शराब की बिक्री को लेकर भाजपा विधायक शिवरतन शर्मा ने आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार के संरक्षण में अवैध शराब बेची जा रही है। मंत्री द्वारा मामले में संतोषजनक जवाब नहीं देने पर विपक्ष ने हंगामा करते हुए सदन से बहिर्गमन किया।

ध्यानाकर्षण सूचना के माध्यम से भाजपा विधायक शिवरतन शर्मा और जेसीसी विधायक प्रमोद शर्मा ने यह मामला उठाया। उन्होंने कहा कि मेरे ध्यानाकर्षण में शराब के पंचनामा का उल्लेख है लेकिन मंत्री के जवाब में पंचनामा का उल्लेख नहीं था। किसने पंचनामा किया। पंचनामा में 2-3 बातें स्पष्ट हैं शराब स्कैन नहीं हुई चालक के पास परमिट नहीं था और इसके बाद इसकी जप्ती हुई।

उन्होंने कहा कि सिमगा में अवैध शराब मिलने की पूरी कार्रवाई के दौरान जिला आबकारी अधिकारी मौजूद थे। मामले में सरकार लीपापोती कर रही है। मंत्री मो. अकबर ने कहा है कि आबकारी उपनिरीक्षक द्वारा पंचनामा किया गया। कहना सही नहीं है कि अवैध शराब सरकार के संरक्षण में बेची जा रही है। 400 पेटी अवैध शराब बलौदाबाजार से सिमगा लाई जा रही थी।

उन्होंने कहा कि शराब की स्कैनिंग कई बार नेटवर्क की परेशानी या लगातार स्कैनिंग के बाद मेमोरी फुल होने की वजह से नहीं हो पाती। मंत्री ने कहा कि पंचनामा भाटापारा विधायक द्वारा अकारण दबाव के कारण तैयार कराने की बात कही गई है। जोगी कांग्रेस के विधायक प्रमोद शर्मा ने कहा कि मंत्री सरासर झूठ बोल रहे हैं। दोषियों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं।

लीपापोती कर रही सरकार

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि पूरे मामले में सरकार लीपापोती कर रही है। शिवरतन शर्मा ने कहा है अगर मैंने दबावपूर्वक पंचनामा कराया था तो मेरे खिलाफ एफआईआर क्यों नहीं है। अनुमति दें तो सारे घटनाक्रम के सारे तथ्य और वीडियो पटल पर दूंगा। मो. अकबर ने कहा कि जरूरी नहीं कि हर चीज की एफआईआर कराई जाए। मैंने कोई आरोप शिवरतन शर्मा पर नहीं लगाया मैंने केवल जो सूचना दी गई उसको पढ़कर सुनाया। मंत्री के जवाब से असंतुष्ट विपक्ष ने वॉकआउट कर दिया।


Next Story