Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

घर से लगी बाड़ी से वृद्धा को उठा ले गया तेंदुआ : सिर्फ 200 मीटर दूरी पर शव नोचता दिखा, इसी वृद्धा के पोते को आंगन से उठा ले गया था तेंदुआ

आदमखोर तेंदुआ एक वृद्ध महिला को उसके घर की बाड़ी से उठाकर ले गया। थोड़ी दूर पर पेड़ के नीचे महिला के धड़ को तेंदुआ नोच-नोच कर खा रहा था। लोगों की भीड़ को आते देख तेंदुआ वहां धड़ को छोड़ कर भाग निकला। पढ़िए पूरी खबर...

घर से लगी बाड़ी से वृद्धा को उठा ले गया तेंदुआ : सिर्फ 200 मीटर दूरी पर शव नोचता दिखा, इसी वृद्धा के पोते को आंगन से उठा ले गया था तेंदुआ
X

गरियाबंद। गरियाबंद जिले में आदमखोर तेंदुए ने आतंक मचा रखा है। बुधवार की देर शाम इस आदमखोर तेंदुए ने फिर हमला किया है। इस बार आदमखोर तेंदुआ एक वृद्ध महिला को उसके घर की बाड़ी से उठाकर ले गया और लगभग 200 मीटर दूर महिला का सिर और धड़ अलग-अलग मिला है। महिला को ढूंढ़ते हुए लोग मौके पर पहुंचे तो तेंदुआ महिला को नोचकर खा रहा था। भीड़ का शोरगुल सुनकर तेंदुआ अधखाई लाश छोउ़कर भाग निकला। करीब डेढ़ साल पहले तेंदुए ने इसी महिला के पोते को भी मार दिया था। तेंदुए के घर की बाड़ी में घुसकर महिला को उठाा ले जाने की घटना के बाद से लोगों में दहशत है।

जिला मुख्यालय गरियाबंद से महज 6 किमी दूर कुचेना गांव की 60 वर्षीया थनवारिन बाई अपने घर की बाड़ी में थी। इसी दौरान शाम करीब 7.30 बजे तेंदुआ उसे उठाकर जंगल की ओर घसीट ले गया। थोड़ी देर बाद जब परिजनों ने देखा तो थनवारिन बाई नहीं दिखी। जमीन में घसीटने के निशान देख परिजनों ने पुलिस और वन विभाग को सूचना दी। मौके पर पहुंची टीम ने तलाश शुरू की तो करीब 200 मीटर दूर महिला का सिर मिला। इस पर वन विभाग और पुलिस की टीम के साथ ग्रामीण आगे बढ़े तो थोड़ी दूर पर पेड़ के नीचे महिला के धड़ को तेंदुआ नोच-नोचकर खा रहा था। लोगों की भीड़ आती देख तेंदुआ वहां धड़ को छोड़ कर भाग निकला। इसके बाद वन विभाग की टीम ने शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया है। बताया जा रहा है कि कुछ महीनों में ही आसपास के गांवों में तेंदुआ तीन लोगों पर हमला कर चुका है। इसके चलते लोग काफी डरे हुए हैं।

आंगन से उठा ले गया था पोते को

करीब डेढ़ साल पहले अगस्त 2020 में इसी महिला के 4 साल के पोते को तेंदुआ घर से उठा कर ले गया था। बच्चा तब घर के आंगन में खेल रहा था, तभी तेंदुए ने झपट्‌टा मारकर उसे उठा लिया और जंगल में भाग निकला। परिजन और ग्रामीण उसे छुड़ाने के लिए पीछे भागे। शोर सुनकर तेंदुआ बच्चे को छोड़कर भाग गया। इसके बाद परिजन उसे लेकर अस्पताल पहुंचे, लेकिन वहां डॉक्टरों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया था।

अब पिंजरा लगाने की तैयारी

आदमखोर हो चले तेंदुए को पकड़ने के लिए वन विभाग पहले भी कई बार जंगल में पिंजरा लगा चुका है, लेकिन तेंदुआ कभी उनकी जाल में नहीं फंसा। अब वन विभाग के ऑफिसर कहते हैं कि लोगों को जागरूक किया जा रहा है। उन्हें देर शाम घर से बाहर निकलने से फिलहाल मना कर रहे हैं। तेंदुए को पकड़ने के लिए फिर से पिंजरा लगाएंगे। वहीं वन विभाग के चौकीदार की ड्यूटी लगाई गई है। टीम उसे पकड़ने का प्रयास कर रही है। देखिये वीडियो-



Next Story