Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जामुल पालिकाध्यक्ष का चुनाव आज : भाजपा के पास बहुमत, लेकिन अध्यक्ष पद को लेकर खींचतान

जामुल नगर पालिका को आज नया अध्यक्ष और उपाध्यक्ष मिलने वाला है। यहां दो निर्दलीय के समर्थन के साथ भाजपा पूर्ण बहुमत में है, लेकिन अध्यक्ष पद की खींचतान में दो गुटों में भी बंटती नजर आ रही है। पढ़िये पूरी खबर-

जामुल पालिकाध्यक्ष का चुनाव आज : भाजपा के पास बहुमत, लेकिन अध्यक्ष पद को लेकर खींचतान
X

भिलाई। जामुल नगर पालिका को आज नया अध्यक्ष और उपाध्यक्ष मिलने वाला है। यहां दो निर्दलीय के समर्थन के साथ भाजपा पूर्ण बहुमत में है, लेकिन अध्यक्ष पद की खींचतान में दो गुटों में भी बंटती नजर आ रही है। इसका फायदा उठाने के लिए कांग्रेस पूरी ताकत लगा सकती है। कांग्रेस के पास इस समय एक निर्दलीय सहित 6 पार्षद हैं, जो कि बहुमत से काफी दूर है। वर्तमान स्थिति को देखते हुए भाजपा दो बार पालिका अध्यक्ष रह चुके वरिष्ठ नेता रेखराम बंछोर प्रबल दावेदार हैं। इसके साथ ही अध्यक्ष पद की मांग कर रहे ईश्वर ठाकुर को उपाध्यक्ष बनाया जा सकता है। इनके अलावा भाजपा से दीपक गुप्ता और कविता बिस्वाल का नाम भी सामने आ रहा है।

कांग्रेस से दावेदारों की बात करें तो जामुल की पूर्व पालिका अध्यक्ष सरोजनी चंद्राकर स्वत: दावेदार हैं। उनके अलावा सबिहा करीम खान हैं। ये मंत्री गुरु रुद्रकुमार की पहली पसंद हैं। इसके अलावा साहू समाज से रामदुलार साहू का नाम भी सामने आ रहा है। कांग्रेस को लग रहा है कि वह यहां भी बहुमत ला सकती है। इसके लिए जोड़तोड़ की राजनीति शुरू हो गई है।

तय कार्यक्रम के तहत जामुल नगर पालिका के 20 वार्डों से निर्वाचित होकर आए नव निर्वाचित पार्षद शुक्रवार सुबह 10 बजे शपथ ग्रहण कार्यक्रम में शामिल होकर अपने पद और गोपनीयता की शपथ लेंगे। जामुल नगर पालिका में इसकी तैयारी पूरी कर ली गई है। इसके बाद सभी पार्षद अध्यक्ष व उपाध्यक्ष का चुनाव मतदान करके करेंगे। जामुल नगर पालिका के पार्षदों में भाजपा के 10, कांग्रेस के 5, जोगी कांग्रेस का एक और 4 निर्दलीय शामिल हैं। 4 निर्दलीय में 4 ने भाजपा और तो वहीं एक ने कांग्रेस में समर्थन दे दिया है। अब एक निर्दलीय और जोगी कांग्रेस को भी कांग्रेस में मिलाने की रणनीति चल रही है। इन दो को मिलाने के बाद भी कांग्रेस बहुमत से दूर है।

इन नामों पर लग सकती है मुहर

नव निर्वाचित भाजपा पार्षद दल में लेखराम बंछोर सबसे वरिष्ठ और अनुभवी है। साथ ही दो बार पालिका अध्यक्ष भी रह चुके हैं। इस लिए इनके नाम पर मुहर लगने की सबसे प्रबल संभावना है। संगठन भी अनुभवी को पहले स्थान पर रखा है वहीं दूसरे दल ईश्वर सिंह ठाकुर को शांत करने के लिए भाजपा उन्हें उपाध्यक्ष का पद दे सकती है।

Next Story